गोमूत्र खरीदने और बेचने के लिए बनाया ऐप

Diti BajpaiDiti Bajpai   26 July 2017 2:49 PM GMT

गोमूत्र खरीदने और बेचने के लिए बनाया ऐपएप्प के जरिये गो मूत्र को खरीदा व बेचा जा सकेगा।

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

लखनऊ। वह इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर मशीनों से खेलना चाहते थे, लेकिन आज वह पढ़ाई छोड़कर किसानों का भविष्य संवारने में जुटे हैं। 25 साल के लोकेंद्र पाटीदार ने इस कड़ी में ‘फार्मिंग डोर फॉर डिजिटल फार्मर’ नाम की एप्लीकेशन विकसित की है, जिसके जरिए गाय पालक गोमूत्र बेचकर अच्छी कमाई कर सकते हैं।

मध्य प्रदेश के उज्जैन के रहने वाले लोकेंद्र पाटीदार ने दो महीने पहले ही इस एप्लीकेशन को विकसित किया है। उनकी मानें तो अब तक साढ़े तीन हजार किसान इस एप्लीकेशन से जुड़ चुके हैं। लोकेंद्र बताते हैं, “लोग दूध के लिए गाय का इस्तेमाल करते हैं, उसके बाद छोड़ देते हैं। इस एप्लीकेशन को बनाने का यही उद्देश्य है कि लोग गाय को पालें और उसके गोमूत्र को बेचकर भी लाभ कमाएं।”

ये भी पढ़ें- गाय की मदद से हो सकेगा एचआईवी का इलाज, अमेरिकी शोध में खुलासा

लोकेंद्र इंजीनियरिंग की पढ़ाई छोड़कर किसानी से भी जुड़ गए है। ऐप के बारे में लोकेंद्र बताते हैं, “इस ऐप को किसी भी एंड्रॉयड फोन में डाउनलोड किया जा सकता है। ऐप के जरिए किसानों को सीधे पैसा मिलेगा। अभी किसान बिचौलियों के चक्कर के फंस जाता है और उसे पैसा नहीं मिल पाता है। हमारे इस ऐप के जरिए किसानों की सीधे बात होगी और उसके खाते में पैसा भेजा जाएगा।”

इस एप्लीकेशन में गोमूत्र के अलावा पशुओं को भी उचित दामों पर बेच सकते हैं। गोमूत्र की बढ़ती डिमांड के बारे में लोकेंद्र बताते हैं, “देश-विदेश में गोमूत्र की मांग लगातार बढ़ रही है। कई संस्थाएं इनसे बने उत्पाद बनाकर विदेशों में बेच रही हैं। शोध में भी यही निकला है कि इसके सेवन से कई बीमारियों का इलाज होता है।

ये भी पढ़ें- ज़ीरो बजट खेती का पूरा ककहरा सीखिए, सीधे सुभाष पालेकर से

बहुत लोग और संस्थाएं इसके जरिए गोमूत्र खरीद रही हैं।” अनुसंधान केंद्र के कोऑडिनेटर सुनील मनसिंहक बताते हैं, “हमारे यहां जो भी गोवंश है, वह सैकड़ों लोगों को रोजगार दे रहा है। हमारे संस्थान में गोबर और गोमूत्र से अमृत पानी, गोमूत्र और नीम मिश्रण, वर्मी कम्पोस्ट किसान की आय को चार-पांच गुना बढ़ा रहे है।”

वीडियो- 60 रुपए लीटर बिकता है इन देसी गाय का दूध , गोबर से बनती है वर्मी कंपोस्ट और हवन सामग्री

ये भी पढ़ें-

एलोवेरा की खेती का पूरा गणित समझिए, ज्यादा मुनाफे के लिए पत्तियां नहीं पल्प बेचें, देखें वीडियो

यहां की महिलाएं माहवारी के दौरान करती थीं घास-भूसे का प्रयोग, इस युवा ने बदली तस्वीर

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top