निर्यात प्रतिबंध हटने से उड़द और मसूर दाल कीमतों में तेजी

निर्यात प्रतिबंध हटने से उड़द और मसूर दाल कीमतों में तेजीमहंगी हुई दालें।

नई दिल्ली (भाषा)। सरकार द्वारा दलहन की सभी किस्मों के निर्यात पर लगी रोक को खत्म किये जाने के बीच फुटकर विक्रेताओं की मांग में आई तेजी से स्टॉकिस्टों की लिवाली उभरने से राष्ट्रीय राजधानी, दिल्ली के थोक दलहन बाजार में बीते सप्ताह उडद और मसूर दाल की कीमतों में तेजी आई।

बाजार सूत्रों ने कहा कि उत्पादक क्षेत्रों से आपूर्ति में गिरावट के कारण सीमित स्टॉक रहने के मुकाबले फुटकर विक्रेताओं और दाल मिलों की मांग में आई तेजी के कारण स्टॉकिस्टों की लिवाली बढ़ने से मुख्यत: उड़द और मसूर दाल की कीमतों में तेजी आई। उन्होंने कहा कि इसके अलावा सरकार के द्वारा दलहनों की सभी किस्मों के निर्यात पर लगी रोक को समाप्त करने के फैसले के कारण भी कीमतों में तेजी को मदद मिली।

ये भी पढ़ें - बम्पर उत्पादन के बावजूद इस बार फिर से महंगी हो सकती हैं दालें

इस बीच, सरकार ने गुरुवार को दलहनों के सभी किस्मों के निर्यात पर लगी रोक को समाप्त कर दिया ताकि किसानों को लाभकारी मूल्य दिलाना सुनिश्चित किया जा सके क्योंकि रिकॉर्ड उत्पादन होने की वजह से दलहन कीमतें अपने न्यूनतम समर्थन मूल्य से भी कम हो गयी हैं। राष्ट्रीय राजधानी में उड़द की कीमत पहले के 4,000 - 5,650 रुपये से बढ़कर 4,100 - 5,850 रुपये प्रति क्विन्टल हो गई। जबकि इसके दाल छिलका स्थानीय, बेहतरीन गुणवत्ता और धोया किस्मों की कीमतें भी 200 - 200 रुपये की तेजी के साथ क्रमश: 5,300 - 5,400 रपये, 5,400 - 5,900 रपये और 5,800 - 6,000 रुपये प्रति क्विन्टल पर बंद हुई।

ये भी पढ़ें - रामबाण औषधि है हल्दी, किसानों की गरीबी का भी इसकी खेती में है ‘इलाज’

मसूर छोटी और बोल्ड की कीमतें भी 100, 100 रुपये की तेजी के साथ क्रमश: 3,600 - 3,700 रुपये और 3,650 - 3,800 रुपये प्रति क्विन्टल पर बंद हुईं। इसकी दाल स्थानीय और बेहतरीन गुणवत्ता की कीमतें 200-200 रुपये की तेजी के साथ क्रमश: 3,650 - 4,150 रुपये और 3,750 - 4,250 रुपये प्रति क्विन्टल पर बंद हुईं।

ये भी पढ़ें - ऑनलाइन धान बेचने में किसानों को हो रही परेशानी, सोनभद्र में 55 में 38 केंद्रों पर नहीं हुई बोहनी

दूसरी ओर लिवाली और बिकवाली के बीच सीमित दायरे में घट बढ़ के बाद मूंग और इसके दाल छिलका स्थानीय की कीमतें क्रमश: 4,600 - 5,300 रुपये और 5,300 - 5,500 रुपये प्रति क्विन्टल के पूर्वस्तर पर ही बंद हुईं। इसकी दाल धोया स्थानीय और बेहतरीन गुणवत्ता की कीमतें भी क्रमश: 5,900 - 6,400 रुपये और 6,400 - 6,600 रुपये प्रति क्विन्टल पर स्थिरता का रख दर्शाती पूर्ववत बनी रहीं। काबुली चना छोटी किस्म की कीमत ने भी 8,500 - 9,700 रुपये प्रति क्विन्टल पर पूर्ववत बनी रहीं।

ये भी पढ़ें - टमाटर-प्याज के चढ़ते दामों पर अब लगेगी लगाम, कालाबाजारियों पर कसेगा शिकंजा

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top