कठिन सुधारों के बाद अर्थव्यवस्था पटरी पर, सही दिशा में बढ़ रही है : मोदी

कठिन सुधारों के बाद अर्थव्यवस्था पटरी पर, सही दिशा में बढ़ रही है : मोदीगुजरात में नरेंद्र मोदी।

दाहेज (गुजरात)(भाषा)। विपक्ष द्वारा आर्थिक नीतियों की आलोचना किये जाने के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज एक बार फिर जोर दिया कि कठिन सुधारों के बाद अर्थव्यवस्था पटरी पर आ रही है और सही दिशा में आगे बढ़ रही है। हमने कड़े फैसले लिये हैं और ऐसा करना जारी रखेंगे।

दाहेज में एक रैली को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि बहुत से अर्थशास्त्री इस बात पर सहमत हैं कि अर्थव्यवस्था की बुनियाद मजबूत है। हमने अर्थव्यवस्था के लिए कड़े फैसले लिए हैं। राजकोषीय स्थिरता को कायम रखते हुए हम ऐसा करना जारी रखेंगे।

ये भी पढ़ें- गुजरात चुनाव में भाजपा का समर्थन करेंगे रामदास अठावले

प्रधानमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार ने देश में एक नई कार्य संस्कृति तैयार की है, जो जवाबदेह और पारदर्शी हो। इसी कार्य संस्कृति की वजह से योजनाओं पर काम हो रहा है। दो गुना गति से सड़कें बन रही हैं, दो गुना गति से रेल लाइनें बन रही हैं। योजनाओं को समय पर पूरा करने के लिये ड्रोन से निगरानी की जा रही है।

ये भी पढ़ें- गुजरात चुनाव की तारीख घोषणा में देरी सही नहीं, इससे आयोग की विश्वसनीयता पर उठेंगे सवाल : शरद यादव

मोदी ने कहा, ''सरकार की कार्य संस्कृति में बदलाव लाया गया है। ऐसी कार्य संस्कृति तैयार की गई है जो गरीबों और मध्यम वर्ग को तकनीकी मदद से उनका हक दिला रही है। उन्होंने कहा कि खोज-खोज कर फाइलें निकाल रहा हूं और जो परियोजनाएं दशकों से अटकी हुई हैं उन्हें पूरा कर रहा हूं।'' प्रधानमंत्री ने कहा कि हम लोगों को ईमानदारी का माहौल देने का काम कर रहे हैं।

ये भी पढ़ें- गुजरात चुनाव : हार्दिक पटेल, अल्पेश ठाकुर, जिग्नेश मेवाणी को साथ आने का कांग्रेस ने दिया न्यौता

मोदी ने कहा कि नोटबंदी ने कालेधन को तिजोरी से बैंकों तक पहुंचाया है और जीएसटी से देश को नया बिजनेस कल्चर मिला। जीएसटी को लेकर व्यापारी वर्ग की बड़ी चिंता का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि व्यापारी डरें नहीं। जीएसटी के बाद पुराने खातों की जांच के नाम पर परेशान नहीं किया जाएगा। ईमानदारी के दम पर ही कमाई की जाती है।

ये भी पढ़ें- भाजपा को हराने के लिए कांग्रेस ने हार्दिक पटेल, अल्पेश, मेवाणी को साथ आने का न्यौता दिया

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top