‘अगले चुनाव में BJP को हराने के लिए विपक्षी दलों को एकजुट होना पड़ेगा’

‘अगले चुनाव में BJP को हराने के लिए विपक्षी दलों को एकजुट होना पड़ेगा’राकांपा के वरिष्ठ नेता तारिक अनवर।

नई दिल्ली (भाषा)। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के वरिष्ठ नेता तारिक अनवर ने अगले लोकसभा चुनाव में भाजपा और नरेंद्र मोदी के खिलाफ सभी विपक्षी दलों से एकजुट होने की अपील करते हुए आज कहा कि साल 2004 और 2009 के संप्रग की तर्ज पर बनने वाली गठबंधन सरकार ही 2019 में सफल हो सकती है।

उन्होंने यह भी कहा कि अगर राष्ट्रपति चुनाव में नीतीश कुमार विपक्षी उम्मीदवार मीरा कुमार का समर्थन करते तो बेहतर होता। पूर्व केंद्रीय मंत्री अनवर ने कहा, ''अगर विपक्षी दल अलग-अलग रहेंगे तो इसका सीधा फायदा भाजपा को होगा। इसे हाल ही में उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में देखा। मौजूदा हालात में विपक्षी दलों को साथ आना होगा। अगर विपक्षी दल अपने मतभेद भूलकर साथ आ जाएं तो अगले चुनाव में भाजपा और नरेंद्र मोदी को हराया जा सकता है।''

ये भी पढ़ें : एनपीपी के चार विधायक राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद को समर्थन देंगे

उन्होंने कहा, ''राष्ट्रपति चुनाव में सोनिया गांधी की पहल पर 17 विपक्षी दल साथ आए। अब इसे एक गठबंधन की शक्ल देना होगा। 2004 और 2009 की तर्ज पर 2019 में भी सबसे बड़ी पार्टी (कांग्रेस) के नेतृत्व में ही एक सफल सरकार देश को दी जा सकती है।'' राष्ट्रपति चुनाव में नीतीश कुमार द्वारा राजग उम्मीदवार रामनाथ कोविंद को समर्थन देने के बारे में पूछे जाने पर अनवर ने कहा, ''अगर नीतीश कुमार विपक्ष के साथ रहते तो बेहतर होता। वैसे, उन्होंने पिछले राष्ट्रपति चुनाव में भाजपा के साथ रहते हुए भी संप्रग के उम्मीदवार प्रणब मुखर्जी का समर्थन किया था। हां, इतना जरुर है कि अगर वह विपक्ष के साथ रहते तो एक अच्छा संदेश जाता।''

महाराष्ट्र में भाजपा और शिवसेना के बीच लंबे समय से चले आ रहे राजनीतिक गतिरोध का हवाला देते हुए अनवर ने कहा कि फडणवीस सरकार शायद ही पांच साल का कार्यकाल पूरा कर पाए।

उन्होंने कहा, ''शिवसेना समय समय पर भाजपा के खिलाफ बयान देती रही है। हाल ही में उसने गोरक्षकों द्वारा हिंसा पर बयान दिया। इस स्थिति को देखकर लगता है कि शायद ही सरकार अपना कार्यकाल पूरा सके।'' मोदी सरकार के सभी मोर्चों पर नाकाम रहने का आरोप लगाते हुए राकांपा नेता ने दावा किया, ''चुनाव से पहले मोदी जी ने जो वादे किए थे, इनमें से एक भी वादा पूरा नहीं हुआ। किसानों की खुदकुशी के मामले बढ गए, महंगाई बढ़ गई, बेरोजगारी बढ़ गई, निवेश की हालत खराब है। सरकार विदेश नीति के मामले में भी पूरी तरह से फेल है। सिर्फ यह लगता है कि प्रधानमंत्री विदेश दौरे को लेकर अपना नाम गिनीज बुक में नाम दर्ज करवाना चाहते हैं।''

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top