नेपाल में बाढ़ और भूस्खलन से 60 लोगों की मौत, नेपाल सरकार ने मदद की अपील की

नेपाल में बाढ़ और भूस्खलन से 60 लोगों की मौत, नेपाल सरकार ने मदद की अपील की

लखनऊ। नेपाल में लगातार बारिश के चलते आई बाढ़ और भूस्खलन में अब तक 60 लोगों की मौत हो गई है। नेपाल पुलिस ने यह जानकारी देते हुए बताया कि 35 लोग लापता भी हैं। लगातार बारिश के चलते देश के मध्य और पूर्वी हिस्से में आम जनजीवन पटरी से उतर गया है।

बृहस्पतिवार से हो रही भारी बारिश से 25 से अधिक जिले और 10,385 परिवार प्रभावित हुए हैं। नेपाल थल सेना और पुलिसकर्मियों ने देश में कई स्थानों पर 1,104 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया है। इनमें से 185 लोगों को काठमांडू में सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया।

नेपाल के समाचार पत्र हिमालयन टाइम्स के मुताबिक, बाढ़ पूर्वानुमान प्रभाग (एफएफएस) ने कहा है कि मानसून सक्रिय है और देश के अधिकतर जगहों पर अगले तीन दिनों तक बारिश जारी रहेगी। मौसम पूर्वानुमान विभाग (एमएफडी) ने लोगों को सतर्क रहने की चेतावनी दी है और कहा है कि वायु एवं सड़क यातायात कम दृश्यता की वजह से प्रभावित हो सकता है।

बाढ़ पूर्वानुमान प्रभाग ने बताया कि बागमती, कमला, सप्तकोशी और उसकी सहायक नदियां उफान पर हैं और खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं। जलविज्ञानी बिनोद पारजुली के हवाले से खबर में बताया गया है कि इन क्षेत्रों में रह रहे लोगों को सतर्क रहने को कहा गया है। नेपाल की बाढ़ से भारत में भी बाढ़ का लगातार खतरा रहता है। यही वजह है कि भारत के बिहार और पूर्वोत्तर राज्य में बाढ़ की गंभीर स्थिति बनी है।

नेपाल ने अंतर्राष्ट्रीय संस्थानों से की मदद की अपील

नेपाल ने विश्व स्वास्थ्य संगठन और यूनीसेफ जैसी अंतर्राष्ट्रीय एजेंसियों से बाढ़ प्रभावित इलाकों में मदद का अनुरोध किया है। बाढ़ प्रभावित नेपाल में होने वाली बीमारियों की आशंका के मद्देनजर उनकी रोकथाम में मदद और उचित स्वास्थ्य सेवाएं मुहैया कराने के लिए नेपाल सरकार ने यह मदद मांगी है।

यह भी पढ़ें- नेपाल ने भारतीय सब्जियों व फलों से हटाई रोक, कहा- भारत पर भरोसा है

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top