बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर बीजेपी से पहले ही निलंबित: प्रदेश अध्यक्ष

बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर बीजेपी से पहले ही निलंबित: प्रदेश अध्यक्षयूपी बीजेपी अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह (फोटो सोर्स- एएनआई)

लखनऊ। उत्तर प्रदेश बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने मंगलवार को कहा कि उन्नाव के विधायक कुलदीप सिंह सेंगर बीजेपी से पहले ही निलंबित थे। इसलिए उनके फिर से निलंबन का सवाल ही नहीं उठता। मीडिया से बात करते हुए स्वतंत्र देव सिंह ने दो टूक कहा, "कुलदीप सिंह सेंगर बीजेपी से पहले ही निलंबित थे और आगे भी निलंबित रहेंगे।"

इससे पहले सभी विपक्षी दलों ने बीजेपी से कुलदीप सिंह सेंगर को निलंबित करने की मांग की थी। कांग्रेस ने कुलदीप सिंह सेंगर को बर्खास्त करने की मांग को लेकर लखनऊ में मंगलवार को धरना—प्रदर्शन किया। धरने की अगुवाई कर रहे कांग्रेस विधानमंडल दल के नेता अजय कुमार 'लल्लू' ने कहा कि बलात्कार के बाद अब हत्या के मामले में भी अभियुक्त बनाये गये सेंगर के खिलाफ कानूनी कार्रवाई के साथ—साथ उन्हें बीजेपी से भी बर्खास्त किया जाना चाहिये।

अजय कुमार ने कहा, "बलात्कार के मामले में तो पहले ही सीबीआई जांच चल रही है। अब रायबरेली में हुई दुर्घटना के मामले में भी सीबीआई जांच की सिफारिश कर दी गई है। इसके बावजूद 'चाल और चरित्र' की बात करने वाली बीजेपी ने आरोपी विधायक सेंगर को गले लगा रखा है। इससे यह पार्टी बेनकाब हो गई है।

वहीं कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा कि कुलदीप सिंह सेंगर को सरकारी संरक्षण मिल रहा है, जिससे वंचित किए जाने की पहल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को करना चाहिए। प्रियंका ने ट्वीट कर पूछा, "सड़क दुर्घटना मामले में दर्ज एफआईआर से साफ पता चलता है कि पीड़िता का परिवार डरा हुआ है। इसमें यह भी जिक्र है कि यह एक सुनियोजित दुर्घटना थी। प्रियंका ने आगे लिखा, "प्रधानमंत्री जी, कृपया इस अपराधी और उसके भाई को मिल रहे राजनीतिक सत्ता के संरक्षण से वंचित कराइए, जो आपकी पार्टी ने उसे दे रखा है। अभी भी बहुत देर नहीं हुई है।"

बीएसपी अध्यक्ष मायावती ने ट्वीट कर कहा, ''स्थानीय बीजेपी सांसद साक्षी महाराज द्वारा जेल में बलात्कार के आरोपी बीजेपी विधायक से मिलना, यह प्रमाणित करता है कि सामूहिक बलात्कार के आरोपियों को लगातार सत्ताधारी बीजेपी का संरक्षण मिल रहा है। यह इंसाफ का गला घोंटने जैसा है। सुप्रीम कोर्ट को इसे तत्काल संज्ञान में लेना चाहिए।''

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भी लखनऊ स्थित ट्रॉमा सेंटर पहुंचकर घायल लड़की का हाल लिया और उसके परिजन से मुलाकात की। उन्होंने कहा, "आखिर परिवार का क्या गुनाह है? सरकार को उसकी मांगें माननी चाहिए। क्या सरकार एक बेटी को न्याय नहीं दिला सकती? अगर पीड़िता और उसके वकील की मौत हुई तो कौन जिम्मेदार होगा? इस घटना के लिए बीजेपी सरकार ही जिम्मेदार है। सपा पीड़ित परिवार के साथ है।"

गौरतलब है कि गत रविवार को हुए सड़क हादसे में उन्नाव बलात्कार मामले की पीड़िता गंभीर रूप से घायल हो गई। हादसे में पीड़िता की मौसी, चाची और ड्राइवर की मौत हो गई। पीड़ित महिला और उसके वकील को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया है। बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर मामले के मुख्य आरोपी हैं।

यह भी पढ़ें- उन्‍नाव रेप पीड़‍िता एक्‍सीडेंट: क्‍या है उस दिन की पूरी कहानी?


More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top