Top

बनारस की होली का अनोखा रूप, चिताओं की भस्म के साथ 'मसाने की होली' खेलते हैं लोग

Ankit Kumar SinghAnkit Kumar Singh   9 March 2020 10:46 AM GMT

दुनिया की सबसे प्राचीन नगरी राजधानी काशी में होली खेलने की परंपरा कुछ खास और अलग है। जब आप से कोई श्मशान में होली खेलने के लिए कहे तो आप जाना तो छोड़िए यह बात सुनकर हीं डर जाएंगे, लेकिन काशी में ऐसा होता है। लगभग 350 साल से काशी के वासी रंगभरी एकादशी के अगले दिन श्मशान में होली खेलते है। बाबा भोलेनाथ के भक्तों ने इस परम्परा को शुक्रवार को निर्वाहन किया। देशी भक्त हो या विदेशी सभी ने झूम कर होली खेली।


मान्यताओं के अनुसार कहा जाता है कि रंगभरी एकादशी के दिन गौरा की विदाई होती है। इस दिन भगवान शिव माता गौरा का गौना कराकर काशी लेकर आए थे। इसके दूसरे दिन 'मसाने की होली' खेली जाती है। धार्मिक मान्यता है कि बाबा विश्वनाथ महाश्मशान पर दिंगबर रुप में अपने भक्तों के साथ होली खेलते हैं। उनके इस होली में भूत, प्रेत, पिचास सहित सभी गण मौजूद होते हैं।


काशी में होली खेलने की यह परम्परा काफी अनोखी है। महाश्मशान के दो प्रमुख घाटों मणिकर्णिका और हरिश्चंद्र घाट पर भोले बाबा के भक्त अबीर गुलाल और राख से होली खेलते हैं। भक्तों में 'मसाने की होली' खेलने का एक अलग ही उत्साह देखने को मिला। चिताओं की ऊंची -ऊंची लपटों के बीच भक्त चिताओं की राख, भस्म और गुलाल से होली खेल रहे थे। ये नजारें और दृश्य काशी को अलग ही पहचान दिलाती हैं, इसके साथ यह संदेश भी देती हैं कि जिंदगी जब तक हैं उसको जिंदा दिली के साथ जियो।











यह भी पढ़ें- ब्रज में हुई होली की शुरूआत, महीने भर चलेगा उत्सव

Folk Studio: देवताओं को प्रसन्न करने के लिए गाया जाता है धमार फाग गीत




Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.