सोचने-समझने की क्षमता खत्म कर देती है यह बीमारी, इन लक्षणों को न करें नजरअंदाज

इस बीमारी से पीड़ित आंतरिक आवाज सुनते हैं जो कोई और सुन नहीं सकता है या मानते हैं कि अन्य लोग उनका दिमाग पढ़ रहे हैं

Chandrakant MishraChandrakant Mishra   25 May 2019 7:08 AM GMT

सोचने-समझने की क्षमता खत्म कर देती है यह बीमारी, इन लक्षणों को न करें नजरअंदाजप्रतीकात्मक तस्वीर साभार: इंटरनेट

लखनऊ। " स्किज़ोफ्रेनिया(schizophrenia) एक प्रकार की मानसिक बीमारी है। इस बीमारी से पीड़ित व्यक्ति सोचने-समझने की क्षमता खो देता है। पीड़ित व्यक्ति वास्तविकता से दूर चला जाता है। ऐसे में पीड़ित व्यक्ति को अजीब सी आवाजें सुनाई देती हैं। उसे ऐसी चीजें दिखाई देती हैं जो वास्तव में होती ही नहीं हैं। इस स्थिति में वह हमेशा डरा-डरा महसूस करता है और एक समय के बाद अवसादग्रस्त हो जाता है।" यह कहना है वरिष्ठ मनोचिकित्सक डॉ. मोहम्‍मद अलीम सिद्दीकी का।

उन्होंने आगे बताया, " यह सब एक सामान्य दिमाग के लिए बहुत असामान्य प्रतीत होता है, लेकिन ये स्किज़ोफ्रेनिया के लक्षण हैं। स्किज़ोफ्रेनिया एक तरह की मानसिक स्थिति हैं, जिसमें व्यक्ति काल्पनिक और वास्तविक वस्तुओं में फर्क नहीं कर पाता,स्किज़ोफ्रेनिया एक गंभीर मस्तिष्क रोग है। आबादी के लगभग एक प्रतिशत लोग अपने जीवन काल के दौरान स्किज़ोफ्रेनिया का शिकार हो सकते हैं। पुरुषों में यह महिलाओं की तुलना में थोड़ा पहले शुरू होता है।"

ये भी पढ़ें: डायरिया से अपने बच्चे को रखें सुरक्षित, इन लक्षणों को न करें अनदेखा

प्रतीकात्मक तस्वीर साभार: इंटरनेट

कारण

इसके कारण आनुवांशिक विविधता, जन्म, गर्भावस्था में शायद थोड़ा मस्तिष्क क्षति होना है। नशा इसे ट्रिगर कर सकता है। तनाव से सीज़ोफ्रेनिया बदतर हो जाता है।

ये भी पढ़ें: लगातार थकावट हो रही हो महसूस तो हो जाएं सतर्क

लक्षण

सीज़ोफ्रेनिया वाले लोगों में पाये जाने वाले लक्षणों में भ्रम जैसी स्थिति होती है। वे आंतरिक आवाज सुनते हैं जो कोई और सुन नहीं सकता है, या मानते हैं कि अन्य लोग उनका दिमाग पढ़ रहे हैं। उन विचारों को नियंत्रित कर रहे हैं या उन्हें नुकसान पहुंचाने की योजना बना रहे हैं। वे झूठी और निश्चित मान्यताओं पर यकीन करते हैं जो सबूत आधारित नहीं हैं।

मनोचिकित्सक डॉ. मोहम्‍मद अलीम सिद्दीकी

ये लक्षण उन्हें अलौकिक, आक्रामक और सामाजिक रूप से अक्षम कर सकते हैं। उनके परिवार के सदस्यों को एक स्वस्थ व्यक्ति से पूरी तरह से परेशान और उलझन से पूर्ण परिवर्तन को देखकर बहुत परेशान हो जाते हैं। सीज़ोफ्रेनिया वाले लोगों में पाये जाने वाले अन्‍य लक्षणों में उनकी तार्किक सोच में कठिनाई या फि‍र यह महसूस करना कि आपके शरीर और विचारों को किसी और द्वारा नियंत्रित जा रहा है।

ये भी पढ़ें: मानसिक तनाव के कारण होती हैं सत्तर फीसदी शारीरिक बीमारियां

प्रतीकात्मक तस्वीर साभार: इंटरनेट

उपचार

डॉ. अलीम ने बताया, एंटीसाइकोटिक दवाएं और पुनर्वास उपचार का मुख्य आधार है। यह 5 लोगों में से 4 की मदद कर सकता है। यदि उचित सलाह के तहत लिया जाए तो दवाएं बहुत सुरक्षित होती हैं। बीमारी के परेशान लक्षणों को कम करने और नियंत्रित करने में मदद मिलती है। उपचार के साथ सीज़ोफ्रेनिया वाले अधिकांश लोग एक स्थिर जीवन जी सकते हैं, काम कर सकते हैं, और अच्छे संबंध रख सकते हैं। सही इलाज लक्षण को कण्ट्रोल कर सकता है और मरीज़ सामान्य जीवन जी सकते हैं और अपनी निजी और पेशेवर जीवन के बीच अच्छा संतुलन बिठा सकते हैं ।

ये भी पढ़ें: पांच साल से छोटे बच्चों को स्क्रीन पर रोज 60 मिनट से अधिक नहीं बिताना चाहिए: डब्ल्यूएचओ


More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top