सिर्फ फल ही नहीं इसके छिलके भी हैं काम के 

Astha SinghAstha Singh   2 Jan 2018 3:32 PM GMT

सिर्फ फल ही नहीं इसके छिलके भी हैं काम के विटामिन सी का सबसे बड़ा स्रोत संतरा फल नींबू, नारंगी और मौसमी की जाति का फल है।

सर्दियों के मौसम में आपको अपना खास खयाल रखने की जरूरत होती है। इस मौसम में की जाने वाली जरा सी लापरवाही आपको भारी पड़ सकती है। ऐसे में तमाम बीमारियों वाले इस मौसम में अगर बीमार होने से बचना है तो हर रोज संतरा खाने की आदत डाल लें।

विटामिन सी का सबसे बड़ा स्रोत संतरा फल नींबू, नारंगी और मौसमी की जाति का फल है। अपने ग़ुणों और स्वाद से भरपूर संतरा हर किसी के लिए एक पसंदीदा फल है। नारंगी की तरफ दिखने वाला संतरे में विटामिन सी के अलावा विटामिन ए, विटामिन बी, फॉस्फोरस, कैल्शियम, प्रोटीन और ग्लूकोज़ भी पाया जाता है।

लखनऊ की डॉ रीता दास बताती हैं," सर्दियों के मौसम में आपको अपना खास खयाल रखने की जरूरत होती है। इस मौसम में की जाने वाली जरा सी लापरवाही आपको भारी पड़ सकती है। ऐसे में तमाम बीमारियों वाले इस मौसम में अगर बीमार होने से बचना है तो हर रोज संतरा खाने की आदत डाल लें। संतरे में बीटा-कैरोटिन पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है ,जो शरीर की कोशिकाओं को सुरक्षित रखने में सहायक है। यह आपकी इम्यूनिटी बढ़ाता है। संतरा ही नहीं बल्कि इसके छिलके भी गजब के औषधीय गुणों से युक्त होते हैं। स्किन से संबंधित तमाम परेशानियों से निपटने में भी यह हमारी काफी मदद करते हैं।"

ये भी पढ़ें-सर्दियों की ये आम सी बीमारी बन सकती है बड़ा ख़तरा

संतरे की खेती

भारत में जिन जगहों पर संतरे की सबसे ज्यादा खेती होती है उसमें महाराष्ट्र का नागपुर सबसे आगे है। नागपुर के संतरे अपने स्वाद और मधुरता के लिए बहुत प्रसिद्ध है। इसके अलावा झालावाड़ में भी बड़े पैमाने पर संतरे की खेती होती है। असम, गुजरात, सिक्किम, मध्य प्रदेश और पश्चिम बंगाल में भी संतरों को बहुतायत में उगाया जाता है।

फाइबर

सर्दी के मौसम में संतरा खाना हमारे सेहत के लिए फायदेमंद है। इसमें पर्याप्त मात्रा में फाइबर होता है। यह आपके पाचन तंत्र को दुरुस्त रखता है और कब्ज से भी राहत दिलाता है। यह कौलेस्ट्रौल को कम रखने में भी काफी मददगार साबित हो सकता है। इसी के साथ ही यह ब्लड शुगर लेवल को नियंत्रित करता है।

कैल्शियम से भरपूर

संतरे में भरपूर मात्रा में कैल्शियम होता है, जो हड्डियों को मजबूत रखने का काम करता है। दांतों की अच्छी सेहत के लिए और स्वस्थ शरीर के लिए हर रोज संतरे का सेवन फायदेमंद होता है।

ये भी पढ़ें-जानें विटामिन्स की कमी से हो सकते हैं कौन - कौन से रोग ? क्या हैं बचाव के तरीके

मजबूत इम्यूनिटी के लिए

संतरे में विटामिन सी पाया जाता है। विटामिन सी हमारे शरीर में श्वेत कोशिकाओं के उत्पादन को प्रोत्साहित करता है। इससे हमारे शरीर का प्रतिरक्षा तंत्र दुरुस्त होता है। ऐसे में रोज संतरे का सेवन करने से आप कई तरह के वायरल संक्रमण से बच सकती हैं और सर्द हवाओं में भी अच्छी सेहत पा सकती हैं।

किडनी के लिए

रोजाना संतरे का सेवन आपको स्वस्थ शरीर देने के साथ ही साथ यह आपके किडनी में पथरी की आशंका को खत्म करने में सहायक है। रोज संतरा खाने से किडनी स्टोन्स का खतरा भी काफी हद तक कम होता है।

डॉ दास ने संतरे के कई अन्य फायदे भी बताए

  • जो लोग संतरे का नियमित सेवन करते हैं वो मोटापे पर नियंत्रण पा सकते हैं।
  • बच्चे, बूढ़े, रोगी और दुर्बल लोगों को अपनी दुर्बलता दूर करने के लिए संतरे का सेवन करना चाहिए।
  • भोजन में अरूचि होने, भूख नहीं लगने पर संतरे और अनार के रस में काली मिर्च और सेंधा नमक मिलाकर पीने से भूख न लगने की समस्या दूर होती है।
  • संतरे में डेढ़ सौ ग्राम रस में काला नमक और अदरक का रस मिलाकर पीने से बदहजमी के दोष से निजात मिलता है।
  • संतरे के ताजे फूल को पीसकर उसका रस सिर में लगाने से बालों की चमक बढ़ती है।
  • उलटी होने या उलटी की आशंका होने पर संतरे का सेवन करने से बहुत लाभ होता है।
  • संतरे का शर्बत पीने से गर्मी में उमस के प्रकोप से सुरक्षा होती है।
  • प्रतिदिन संतरे का जूस पीने से खून के सभी विकार दूर होते हैं।
  • गर्मी से बचने के लिए और तीव्र प्यास से सुरक्षा के लिए संतरे का शर्बत पीना फायदेमंद होता है।
  • बवासीर की बीमारी में भी संतरा एक गुणकारी फल है
  • संतरे के जूस में काली मिर्च का चूर्ण मिलाकर कुछ सप्ताह तक सेवन करने से आंखों की रोशनी बढ़ती है।
  • सिर में चक्कर आने पर संतरे के दो सौ ग्राम जूस में पचास ग्राम अनार का रस मिलाकर पीने से फायदा मिलता है।
  • संतरे के अलावा संतरे का छिलके भी फायदेमंद होता है। संतरे के ताजे छिलकों को चेहरे व त्वचा पर रगड़ने से त्वचा में निखार आता है।
  • संतरे के छिलकों को छाया में सुखाकर, कूट-पीसकर गुलाब जल में कुछ घंटे मिलाकर रखें। इस मिश्रण के लेप को चेहरे पर मलने से चेहरे की त्वचा चिकनी और कोमल होती है और सौंदर्य विकसित होता है।
  • अम्लपित्त के दोष होने पर संतरे के जूस में सफेद जीरा भूनकर, पीसकर मिलाएं। इसमें थोड़ा-सा सेंधा नमक डालकर पीने से अम्लपित्त की समस्या दूर होती है।
  • संतरा खाने व संतरे का जूस पीने से स्कर्वी रोग से सुरक्षा मिलती है। इससे दांतों और मसूड़ों के रोग भी दूर होते हैं।
  • मिरगी रोग में संतरे का सेवन करने से बहुत लाभ होता है।
  • एनीमिया से पीड़ित मरीज यदि संतरे और मौसमी का रस मिलाकर रोज पिए तो खून तीव्र गति से वृध्दि होती है।
  • संतरे का सेवन करने से पेशाब की जलन और अवरोध की समस्या दूर होती है।

ये भी पढ़ें-सर्दियों में क्या खाएं जिससे रहें फिट और बीमारियां रखें दूर

ये भी पढ़ें-ठंडी में पीजिये हल्दी वाला दूध, रहिये संक्रमण से दूर

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top