बहराइच के जिला अस्पताल में दवा तो दूर मरीजों को पानी भी नहीं हो रहा नसीब

बहराइच के जिला अस्पताल में दवा तो दूर मरीजों को पानी भी नहीं हो रहा नसीबजिला चिकित्सालय में बैठे मरीज। 

रोहित श्रीवास्तव, स्वयं कम्युनिटी जर्नलिस्ट

बहराइच। कहने को जिला चिकित्सालय में लोगों के मर्ज़ का इलाज किया जाता है, लेकिन यहां दवा नहीं उन्हें दर्द मिलता है। डॉक्टर हैं, पर उनकी लिखी दवा नहीं मिलती। अब तकलीफ से निजात पानी है तो दवा बाहर से खरीदो। दवा ही नहीं, जिला चिकित्सालय में आने वाले लोगों को पानी तक नसीब नहीं है। लाखों रुपए अस्पताल में आने वाले लोगों की सुविधा में नाम पर खर्च किए जा रहे हैं, मगर पेयजल के लिए गए नल सूखे पड़े हैं।

गर्मी का पारा बढ़ रहा है, लोग बेहाल हैं और गर्मी की मार से रोग व रोगियों की संख्या लगातार बढ़ रही है। जिला चिकित्सालय में मरीजों की कतार भी बढ़ रही है। डॉक्टरों को दिखाने के लिए लोगों को घंटों इंतजार करना पड़ रहा है। तकलीफों का दर्द यहीं तक सीमित नहीं है। घंटों के इंतजार के बीच दूर-दराज इलाकों से इलाज के लिए यहां पहुंचे मरीजों को पानी तक नसीब नहीं हो रहा है।

ये भी पढ़ें- बाराबंकी: अस्तित्व के इंतजार में शव वाहन, जिला अस्पताल में खा रहे घूल

लाखों रुपए की लागत से चिकित्सालय में की गई पेयजल व्यवस्था का आलम यह है कि नलों से पानी की बूंद भी नहीं टपकती। बावजूद इसके चिकित्सालय प्रशासन की नजर अभी भी पीने के पानी की समस्या से जूझ रहे मरीजों की ओर नहीं जा रही है। लोगों को संकट का सामना करना पड़ रहा है। दवा वितरण केंद्र पर लंबी कतार में लग कर जब मरीजे पहुंचते हैं तो उन्हें पर्चे पर लिखी दवा तक नहीं मिलती। मरीजों को मजबूरन बाजार से खरीदनी पड़ती है। यहां तक डॉक्टर भी बाहर की दवा लिख रहे हैं।

बहराइच सदर के राजन यादव कहते हैं, “जिला चिकित्सालय परिसर में पानी तो दूर की बात है लोगों को दवा तक नहीं मिलती। बाहर की दवा लिखी जा रही है।” चिलवरिया थाना अन्तर्गत गाँव मोहरना निवासी बच्चाराम कहते हैं, “बच्चे को डायरिया हो गया है। इलाज के लिए चिकित्सक की प्रतीक्षा काफी देर से कर रहे हैं। सुबह सात बजे से चिकित्सालय परिसर में अपना नम्बर आने का इंतजार कर रहे हैं, लेकिन 12 बजे तक चिकित्सक ही नहीं पहुंचे हैं। साथ ही पानी के लिए बहुत दूर लगे एक हैंडपम्प से तमाम लोग प्यास बुझा रहे हैं। यह भी काफी दूर लगा है। अब लाइन में लगें या फिर पानी पीने जाएं।”

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top