सेहत की रसोई : डायबिटीज नियंत्रित करना है तो खाएं जमुनिया सलाद

सेहत की रसोई : डायबिटीज नियंत्रित करना है तो खाएं जमुनिया सलादसेहत दुरुस्ती के सबसे अच्छे उपाय हमारी रसोई में ही होते हैं।

सेहत की रसोई यानि बेहतर सेहत आपके बिल्कुल करीब। हमारे बुजुर्गों का हमेशा मानना रहा है कि सेहत दुरुस्ती के सबसे अच्छे उपाय हमारी रसोई में ही होते हैं। इस कॉलम के जरिए हमारा प्रयास है कि आपको आपकी किचन में ही सेहतमंद बने रहने के व्यंजन से रूबरू करवाया जाए। सेहत की रसोई में इस बार हमारे मास्टरशेफ भैरव सिंह राजपूत इस बार पाठकों के लिए ला रहे हैं ‘जमुनिया सलाद’ और इस रेसिपी के खास गुणों की वकालत करेंगे हमारे अपने हर्बल आचार्य यानि डॉ. दीपक आचार्य-

आवश्यक सामग्री (एक व्यक्ति के लिए)

  • जामफल / अमरूद- 2
  • ताजे जामुन फल- 10
  • आंवला- 2
  • मीठी नीम/ करी पत्ता- 10
  • प्याज- 1
  • काली मिर्च - 5
  • काला नमक- स्वादानुसार
  • शहद- 1 चम्मच
  • दालचीनी का चूर्ण- 1/4 चम्मच या करीब 1 ग्राम।

येभी पढ़े- स्वच्छता और सेहत बनाए रखने के दस सूत्र

विधि

जामफल के छोटे छोटे टुकड़े तैयार कर लें, पके हुए जामुन फल लेकर इसके बीज निकाल लें। आंवले को बीच से चीरा लगाकर इसका बीज भी निकाल फेंके और आंवले के बारीक बारीक टुकड़े तैयार कर लें। प्याज और करी पत्ता को बारीक बारीक काटकर तैयार कर लें। जामफल के टुकड़े, जामुन फल और आंवला के बारीक टुकड़ों को एक बाउल में रख दें और अच्छी तरह से मिक्स कर दें।

इस मिश्रण पर प्याज और करी पत्ता के बारीक टुकड़ों को भी डाल दें। इसी मिक्सिंग बाउल में इस सभी मिश्रण पर ऊपर से काली मिर्च, काला नमक और शहद भी डाल दें और अच्छी तरह से मिक्स कर दें। इस तरह तैयार हो जाएगी जमुनिया सलाद, इस सलाद को प्लेट में ट्रांसफर करें और इस पर दालचीनी के पाउडर का छिड़काव भी कर दें। ताज़ा तैयार कर इस गुणकारी व्यंजन को परोस दें। इस व्यंजन के गुणों का बखान तो हमारे हर्बल आचार्य ही करेंगे।

ये भी पढ़े- घुटने से आ रही आवाज तो हो सकता है गठिया रोग

क्या कहते हैं हर्बल आचार्य डॉ. दीपक आचार्य

हिंदुस्तान के हर चौथे व्यक्ति को अपनी उम्र में लाईफस्टाइल डिसऑर्डर्स से जूझना पड़ता है। डायबिटीज अनुवांशिक रोग तो है ही लेकिन अनियंत्रित जीवनशैली की भी एक प्रमुख वजह है और इसी वजह से इसे भी लाइफस्टाइल डिसऑर्डर्स में से एक माना गया है। इस रेसिपी को सुझाने के लिए मास्टरशेफ़ का शुक्रिया।

जामफल, जामुन और दालचीनी को डायबिटीज नियंत्रण के लिए बहुउपयोगी माना गया है। आंवला एंटीऑक्सिटेंड होने की वजह से इस रेसिपी में खास भूमिका निभाएगा। जामफल विरेचक प्रवृत्ति का भी होता है, इसके सेवन से पेट साफ होता है इसके अलावा शरीर को पर्याप्त ऊर्जा देने के लिए भी इसे बेजा कारगर माना गया है।

मास्टर सेफ भैरव सिंह राजपूत की सेहत की रसोई के बाकी लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक करिए

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Share it
Share it
Top