बेहतरीन हेयर कंडीशनर है गुड़हल : हर्बल आचार्य

गुड़हल के फूलों की बात की जाए तो सिर्फ साज सज्जा और पूजन के बारे में ही ख्याल आता है लेकिन इसके फूल औषधीय गुणों से भी भरपूर होते हैं। गुड़हल के 4 से 5 ताजे लाल फूलों को हथेली में मसल लिया जाए और इसके रस को नहाने से ठीक पहले बालों की जड़ों तक हल्का हल्का रगड़ा जाए, गुड़हल का फूल एक बेहतरीन हेयर कंडीशनर की तरह कार्य करता है। इसके अलावा बालों की तमाम समस्याओं जैसे बालों का झड़ना, असमय पकना और रूसी आदि में भी ये तगड़ा असर करता है।

डाँग- गुजरात में आदिवासी गुड़हल के लाल फूलों को नारियल तेल में डालकर गर्म करते हैं और बालों पर इस तेल से मालिश की जाती है। कहा जाता है कि नहाते वक्त बालों पर इस तेल को लगाया जाए और नहाने के बाद बालों को आहिस्ता आहिस्ता सूती तौलिये से सुखा लिया जाए, और नहाने के बाद भी इस तेल को बालों पर लगाया जाए, काफी तेजी से बालों की सेहत में सुधार आता है। फूलों को तिल के तेल में गर्म करके लगाने से बालों का झड़ना बंद हो जाता है और आदिवासी मानते है कि यह बालों का रंग भी काला कर देता है।

करीब ४-५ ताजे गुड़हल के लाल फूलों को अपने जूतों पर रगड़िये और फिर देखिए कि किस तरह से आपके जूतों में रंगत आती है और जूते चमकदार हो जाते हैं। बाज़ार में बिकने वाले रासायनिक शू पोलिश आपकी सेहत के लिए खतरनाक हो सकते हैं, गुड़हल एक बेहतरीन जुगाड़ साबित हो सकता है। काले चमड़े से बनी तमाम वस्तुओं को भी गुड़हल के फूल का इस्तमाल कर इसी तरह चमकाया जा सकता है।

इसी तरह की नायाब और अनोखी जानकारियों को जानने और समझने के लिए हमारे शो 'हर्बल आचार्य' को देखते रहें और हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब भी करें।

ये भी पढ़ें : टमाटर सिर्फ सलाद नहीं, औषधि भी है

Share it
Top