राष्ट्रमंडल खेल 2018 : पहलवान सुशील कुमार और पहलवान प्रवीण राणा के समर्थकों के बीच दंगल, चले लात घूंसे 

राष्ट्रमंडल खेल 2018 : पहलवान सुशील कुमार और पहलवान प्रवीण राणा के समर्थकों के बीच दंगल, चले लात घूंसे दो बार के ओलंपिक पदक विजेता सुशील कुमार

नई दिल्ली ( भाषा )। दो बार के ओलंपिक पदक विजेता सुशील कुमार ने अगले साल के राष्ट्रमंडल खेलों के लिए क्वालीफाई कर लिया लेकिन चयन ट्रायल के बाद उनके और चिर प्रतिद्वंद्वी प्रवीण राणा के समर्थक आपस में भिड़ गए।

अगले साल आस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट में होने वाले राष्ट्रमंडल खेलों के लिए चयन ट्रायल इंदिरा गांधी इंडोर स्टेडियम पर आयोजित किया गया था, इस दौरान भारतीय कुश्ती महासंघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह भी मौजूद थे।

यह पढ़ें तीन तलाक़ पर फ़ैसला क्या वाक़ई महिलाओं की जीत है?

तीन साल बाद राष्ट्रमंडल चैम्पियनशिप स्वर्ण जीतकर अंतरराष्ट्रीय कुश्ती में वापसी करने वाले सुशील कुमार ने अपने सारे मुकाबले जीते, मामला तब बिगड़ गया जब सेमीफाइनल में सुशील कुमार से हारने के बाद प्रवीण राणा ने दावा किया कि सुशील के समर्थकों ने रिंग में उसके खिलाफ उतरने के लिए उसे और उसके बड़़े भाई को मारा।

यह भी पढ़ें इस डीएम ने सुधार दिया शिक्षा का स्तर, बेटियों के भविष्य के लिए जुटाए 8 करोड़ रुपए

दूसरी ओर सुशील कुमार ने दावा किया कि मुकाबले के दौरान प्रवीण राणा ने उसे मारा। उसने कहा, उसने मुझे पीटा लेकिन कोई बात नहीं, यह मुझे अच्छा खेलने से रोकने की उसकी रणनीति होगी, यह खेल का हिस्सा है. जो कुछ हुआ था, वह गलत था, मैं इसकी निंदा करता हूं. मुकाबला खत्म होने के बाद एक दूसरे के लिये सम्मान था।

प्रवीण राणा उन तीन पहलवानों में थे जिन्होंने पिछले महीने इंदौर में हुई राष्ट्रीय चैम्पियनशिप में सम्मानस्वरुप सुशील को वाकओवर दिया था। सुशील ने राष्ट्रमंडल चैम्पियनशिप फाइनल में प्रवीण राणा को हराया था। प्रवीण राणा ने यह भी आरोप लगाया कि सुशील के समर्थकों ने उसे जान से मारने की धमकी दी और कहा है कि आगामी प्रो कुश्ती लीग में खेलने की भूल ना करे।

जरूरी खबर पढ़ें विश्वनाथन आनंद ने मैग्नस कार्लसन को हरा विश्व रैपिड शतरंज खिताब जीता

डब्ल्यूएफआई अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह ने कहा कि यह मामला कुश्ती रिंग के बाहर का है और उन्होंने यह नहीं देखा, उन्होंने हालांकि कहा कि औपचारिक शिकायत दर्ज किए जाने पर कार्रवाई की जाएगी।

स्पोर्ट्स से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

उन्होंने कहा, यह मामला हमारे सामने का नहीं है, यह वार्मअप परिसर में हुआ, यह एक धड़े की ओर से उकसाया गया था, मुझे पिछले साल इसकी आशंका थी और यही वजह है कि ट्रायल स्थगित कर दिए गए थे, हमने दिल्ली पुलिस से सुरक्षा मांगी थी लेकिन यह नाकाफी है। उन्होंने कहा, हम तभी कार्रवाई कर सकते हैं जब कोई हमसे शिकायत करे। अभी तक किसी ने शिकायज दर्ज नहीं कराई है, जब कोई शिकायत करेगा तो हम कड़ी कार्रवाई करेंगे।

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Share it
Share it
Top