हाईवे पर दुर्घटना को दावत दे रहीं बंद रोड लाइटें

हाईवे पर दुर्घटना को दावत दे रहीं बंद रोड लाइटेंबंद पडी लाईटें, अंधेरे से गुजरते वाहन

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

अजीतमल (औरैया)। हाइवे पर ओवरब्रिज और अंडरब्रिज पर लगी लाइटें रात के समय बंद होने की वजह से निकलने वाले लोगों को परेशानी हो रही है। प्रदेश में कई जगह हाइवे पर हादसे होने की वजह से लोग ओवरब्रिज और अंडर ब्रिज के पास से बडी सावधानी से निकलते है। औरैया शहर से लेकर अनंतराम टोल प्लाजा तक हाइवे पर लगभग 10 ओवरब्रिज और अंडरब्रिज है। जिन पर रात के समय लाइट नहीं जलती है।

जिला मुख्यालय से 37 किलोमीटर दूर अजीतमल क्षेत्र में हाइवे पर ओवरब्रिज और अंडरब्रिज के पास रोशनी की व्यवस्था नहीं है। टोल प्लाजा प्रबंधन की तरफ से बरती जा रही लापरवाही लोगों के लिए मुसीबत का सबब बन रही है। प्रदेश में अधिकतर बडी वारदाते हाइवे पर रात के समय ही हो रही है। हाइवे प्रबंधन लाइट की व्यवस्था दुरूस्त कर पाने में नाकाम दिखाई दे रहा है।

शहर से लेकर अनंनतराम टोल प्लाजा तक लगभग 10 ओवरब्रिज और अंडरब्रिज बने हुए है। जहां से लोगों को निकलने में रात के समय लाइट न होने की वजह से डर सताता रहता है। हाइवे पर हो चुकी बडी वारदातों के बावजूद हाइवे के अधिकारियों पर जूं तक नहीं रेंगी है। क्षेत्रीय लोगों ने जिलाधिकारी से लाइट की व्यवस्था दुरूस्त कराए जाने की मांग की है।

प्रतापुर निवासी शिवराज सिंह (45वर्ष) का कहना है, “रात के समय ओवरब्रिज के पास अंधेरा होने की वजह से वहां से निकलने में डर लगता है। अंधेरा होने की वजह से रात के बाइक सवार युवक खडे दिखाई देते है। इससे किसी बडे हादसे के होने का हाइवे के अधिकारियों को इंतजार है।”

प्रतापपुर निवासी महेंद्र सिंह का कहना है “ओवरब्रिज पर और हाइवे पर लाईट न होने की वजह से रात के समय लोगों को डर सा लगा रहता है। कहीं उनके साथ कोई अप्रिय घटना न घटित हो जाए।”

टोल प्लाजा के मैनेजर सत्यवीर सिंह से हाइवे और ओवरब्रिज के पास लाईट न जलने के संबंध में बात की गई तो उन्होंने, “बताया कि लगातार एक माह से खराब चल रही है। लाईन सही नहीं है इसे सही करने के लिए मुंबई से इंजीनियर आएंगे। उच्च अधिकारियों को अवगत कराते हुए रिपोर्ट भेज दी गई है।”

जिलाधिकारी जय प्रकाश सागर से हाइवे पर रात के समय लाइट न जलने के संबंध में बताया,“ मामले की जानकारी नहीं है। संबंधित अधिकारी को भिजवा कर जांच करवाते हैं। अगर हाइवे के किसी अधिकारी की लापरवाही पाई जाती है तो कार्रवाई की जाएगी।”

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिएयहांक्लिक करें।

Share it
Top