स्कूलों में बीमारी से कैसे बचेंगे छात्र? 

Meenal TingalMeenal Tingal   11 July 2017 9:58 AM GMT

स्कूलों में बीमारी से कैसे बचेंगे छात्र? प्रतीकात्मक तस्वीर

स्वयंं प्रोजेक्ट डेस्क

लखनऊ। जिला विद्यालय निरीक्षक मुकेश कुमार ने सभी राजकीय, अशासकीय सहायता प्राप्त, वित्तविहीन मान्यता प्राप्त सभी हाईस्कूल व इंटरमीडिएट स्कूलों को निर्देश दिए थे कि विद्यालयों में विषाणु जनित रोगों के नियंत्रण के लिए एक नोडल शिक्षक नामित किया जाए। साथ ही हर दिन प्रार्थना सभा के बाद बच्चों को विषाणु जनित रोगों की रोकथाम की जानकारी देने के भी आदेश दिए थे, लेकिन कोई भी स्कूल जिला विद्यालय निरीक्षक के निर्देश के प्रति गंभीर नहीं दिख रहा है।

स्कूलों में न तो मच्छरों से बचने के कोई इंतजाम हैं न ही बच्चों को इस सम्बन्ध में कोई जानकारी ही दी गई है, जिससे वह सावधान रह सकें। डीआईओएस ने विद्यालयों को यह भी निर्देश जारी किए थे कि सभी विद्यालयों में ई-केयर के जरिये से एसएमएस द्वारा वैक्टरजनित रोगों से बचाव के संदेश प्रसारित किए जाएं।

बच्चे स्कूलों में फुल आस्तीन के कपड़े, पैंट व जूते पहन कर ही आएं, लेकिन इन निर्देशों को दरकिनार कर न तो स्कूलों में मच्छरों से बचने के ही कोई इंतजाम किए गए हैं न ही बच्चों को इस बारे में कोई जानकारी दी जा रही है। इसके ठीक विपरीत स्कूल परिसर में बने खेल के मैदानों में बारिश का पानी जमा हो रहा है, कूड़े के ढेर लगे हुए हैं।

ये भी पढ़ें- वीडियो : ‘हमारे यहां बच्चा भी मजबूरी में शराब पीता है’

कालीचरण इंटर कॉलेज, सीएमएस चौक ब्रांच, राजकीय इंटर कॉलेज शाहमीना रोड, राजकीय जुबली इंटर कॉलेज जैसे कई अन्य कॉलेजों का निरीक्षण करने के दौरान बच्चों ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि स्कूल में अब तक कोई भी जानकारी नहीं दी गई है कि बीमारी से कैसे बचना है या बीमारी से बचने के लिए क्या करें क्या न करें। बच्चों ने कहा कि न तो कोई एसएमएस ही स्कूल की ओर से भेजे गए हैं और न ही कोई अलग से शिक्षक ही कुछ बता रहे हैं।

कालीचरण इंटर कॉलेज के मैदान में बारिश का गंदा पानी भरा होने के कारण वहां पनप रही गंदगी के बारे में जब कॉलेज के प्रधानाचार्य डॉ. महेन्द्र नाथ राय से पूछा गया कि आप साफ-सफाई को लेकर कोई प्रबंध क्यों नहीं कर रहे हैं या बच्चों को कोई निर्देश व जानकारी क्यों उपलब्ध नहीं करवा रहे हैं कि बीमारी से बचने के लिए क्या किया जाए। तो इस विषय में उन्होंने कुछ भी बोलने से इंकार कर दिया।

ये भी पढ़ें- इन सब्जियों की सहफसली खेती से कम जोत वाले किसान कमा रहे अच्छा मुनाफ़ा

जिला विद्यालय निरीक्षक उमेश कुमार ने इस बारे में कहा, “मैंने सभी स्कूलों को निर्देश जारी कर दिए हैं इसके साथ ही इस से सम्बन्धित जानकारी व निर्देश मैं हर मीटिंग में दे रहा हूं कि बच्चों को बीमारी से बचाने के लिए स्कूल प्रशासन को क्या करना है। यदि फिर भी स्कूल प्रशासन चेत नहीं रहा है तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।”

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top