गोंडा में ज्यादातर नलकूप बंद, कैसे होगी रबी बुवाई 

Harinarayan ShuklaHarinarayan Shukla   27 Oct 2017 3:05 PM GMT

गोंडा में ज्यादातर नलकूप बंद, कैसे होगी रबी बुवाई खराब पड़ा नलकूप  

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

गोंडा। किसानों को सस्ती सिंचाई सुविधा उपलब्ध कराने के लिए नलकूप तो लगे हैं, लेकिन किसानों के किसी काम नहीं आ रहे हैं, जिले में ज्यादातर नलकूप बंद पड़े हैं।

किसानों के मसीहा रहे चौधरी चरण सिंह ने प्रदेश में खेती की हालत सुधारने के लिए राजकीय नलकूल सिंचित योजना की शुरूआत की थी, जिसके तहत जिले में 300 राजकीय नलकूप स्थापित हुए, बाद में हर साल राजकीय नलकूप की स्थापना होती रहे, जिससे इनकी तादाद बढ़कर चार सौ पार कर गई।

खोंरहसा गाँव के राजू काजी (46 वर्ष) कहते हैं, “राजकीय नलकूप बंद होने से रबी बुवाई प्रभावित हो रही है, किसान दिवस में मामला उठाया गया लेकिन बिजली व नलकूप विभाग में सामजस्य नहीं है। इससे हजारों किसान परेशान हैं।”

ये भी पढ़ें- रबी सीजन में दलहनी फसलों पर किसान अधिक उर्वरक के इस्तेमाल से बचें

इनके संचालन के लिए तैनात नलकूप चालक 1989 में बहुउद्देशीय कर्मी बन ग्राम पंचायतों का चेक काटने लगे तो मूल काम भूल गये, इसका परिणाम रहा कि गूल, हौज, नाली की मरम्मत नहीं हो पायी, और राजकीय नलकूप संचालन के लायक नहीं रहे। बाद में नलकूप चालकों की वापसी हुई तो दोबारा कुछ नाली सही कराकर व पाइप योजना से नलकूपों के संचालन का प्रयास हुआ जो सफल नहीं हो पा रहा है।

गोंडा जिले के विदुयत खंड प्रथम में 34 राजकीय नलकूप बंद हैं, कारण कहीं पर पोल टूटा, कहीं पर ट्रांसफार्मर नहीं है। कहीं पर ट्रांसफार्मर जला हुआ है। कहीं पर एक फेस की बिजली आ रही है।

ये भी पढ़ें- खरीफ के बाद देश रिकॉर्ड रबी फसल उत्पादन की ओर अग्रसर: एनसीएईआर

“नलकूप को सही कराने की सूची बिजली विभाग के अधिषासी अभियंता प्रथम व द्वीतीय को भेज दी गई है। मशीनरी टयूववेल सही कराये जा रहे है, गुरूवार को टीम दूबहा बाजार गई हैं।”
आशीष कुमार, अधिशासी अभियंता नलकूप

“इतनी तादाद में नलकूप खराब है तो किसान दिवस में प्रकरण की समीक्षा की जाएगी। लापरवाही करने वाले दंडित किये जाएंगे।”
दिव्या मित्तल , सीडीओ

यहां के राजकीय नलकूप हैं खराब

बिजली खंड प्रथम की ग्रामपंचायत बेलवानोहर, बुढवालिया, पूरेबदल, मोहम्मदपुर, बटौराबख्तावर, खानपुर, कैथोला, पिपरीरावत, बेलावा, परसासोंहसा, माधवपुरराय, काजीदेवर, गुलरिहा, उज्जैनीजमाल, सिसवरिया, सुल्तानजोत, उम्मेदजोत, किनकी, माधवपुर चकत्ता, बालपुर जाट, विषुनागा, फिरोजपुर, चिस्तीपुर, करूवापारा, हरदइया, मध्यनगर, पूरेमहा, कोनिया बनकट, लक्ष्मनपुर लालनगर, कलेना, लखनीपुर, लालपुर, कुंदेरवा के राजकीय नलकूप खराब हैं।

इसी तरह बिजली खंड दो में मनकापुर क्षेत्र के बल्लीपुर, बनकसिया, वीरेपुर, बक्सरा,आज्ञाराम, पटीठ, इटरौर, जोगापुर, बंदरहा, पल्टीपुर, तामापार, सिसईरानीपुर, बीरापुर, धानेपुर, ढढुआ कुतुबजोत, रेडवलिया, अगयाबुजुर्ग, भावपुर, बस्तीखास, कूकनगर, रसूलपुर ताज, परसापुर, टिकरी, परसापुर थनवा, खडौआ, परसापुर, रघुनाथपुर, दयालपुर, रामपुर खरहंटा, धनेष्वरपुर, चंदापुर, करौंदा, गौहानी घांचाबीकापुर के टयूवबेल सूखे पडे है। इसी तरह मशीनरी दोष से दूबहाबाजार, खानपुर, सोहास, लक्ष्मनपुर, नरायनुपर समेत 49 राजकीय नलकूप खराब हैं।

ये भी पढ़ें- दो अरब के खर्च पर किसानों को नलकूप बिजली मुफ्त, मगर कितनी ?

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top