मंडी परिषद में लगा अव्यवस्थाओं का अम्बार

मंडी परिषद में लगा अव्यवस्थाओं का अम्बारसड़क के गड्ढों में रिक्शे व ठेलों का निकलना मुश्किल हो रहा है।

हरिनरायण शुल्क, स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

गोंडा। मण्डल मुख्यालय स्थित सब्जी व फलमंडी उतरौला रोड की सड़क जर्जर, नाली जाम, हैंडपंप खराब, प्रकाश व्यवस्था सब चौपट है। शुक्रवार की रात हुई हल्की बरसात से मंडी परिसर में जलभराव हो गया, जिससे यहां आने वाले किसानों को बैठने की ठौर तक नहीं मिल पाया। सड़क के गड्ढों में रिक्शे व ठेलों का निकलना मुश्किल हो रहा है।

इससे लोगों को आवागमन की समस्या हो रही है। मंडी परिषद के अधिकारी भी मूल सुविधाएं मुहैया नहीं करा पा रहे हैं। चलने के लिए बनी सड़क जगह-जगह जर्जर है, नालियां कचरे से पटी हैं। यहां पर सफाई व्यवस्था पूरी तरह बदहाल है। पेयजल के लिए लगे आठ हैंडपंप खराब पड़े हैं, जिससे पेयजल की समस्या है। प्रकाश व्यवस्था के लिए लगी लाइटें पूरी तरह खराब हैं, जिसे देखने वाले सो रहे हैं। प्रस्तावित पार्क में झाड़ियां उगी हैं।

सब्जी फल मंडी संगठन के अध्यक्ष नजर मोहम्मद (50 वर्ष) का कहना है, “हल्की बरसात में सड़क के गड्ढों में पानी भर जाता है और परिसर तालाब की शक्ल ले लेता है, इससे किसान व दुकानदार प्रभावित हो जाते हैं। पेयजल समस्या ज्यादा है। प्रकाश व्यवस्था फेल है।” वहीं मंडी संगठन के मंत्री सहजादे राइनी (40 वर्ष) का कहना है, “नालियां जाम हैं और कूड़ा निस्तारण की व्यवस्था चौपट है। लोगों का आवागमन दूभर हो गया है।”

ये भी पढ़ें- ट्रैक्टर में डीजल बचाने के लिए इन बातों का रखें ध्यान

वहीं किसान राधेश्याम मौर्य (40 वर्ष) का कहना है, “किसानों के चबूतरों पर बैठने की व्यवस्था नहीं है। सड़क की पटरियों पर पानी भरने से मक्का व खीरा बेचने वालों को बैठने की जगह नहीं मिल पाती।” वहीं वजीरगंज के किसान राम निहोर (32 वर्ष) का कहना है, “यहां आने वाले किसानों को मूल सुविधा पीने का पानी नहीं मिल पा रहा है।”

इस मामले में मंडी समिति के सचिव वीपीसिंह का कहना है, “सब्जी मंडी में जलभराव हो गया है। नाली बंद हैं, जिसे सही कराया जाएगा। सीसी रोड का प्रस्ताव उपनिदेशक मंडी के यहां भेज दिया गया। 30 जून के भीतर सड़कों की पैचिंग कराई जाएगी।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top