अखबार के संपादक भी रह चुके हैं संविधान निर्माता बाबा साहेब अंबेडकर

अखबार के संपादक भी रह चुके हैं संविधान निर्माता बाबा साहेब अंबेडकरस्कूलों में मनाई गई अंबेडकर जयंती

रामपुर (सीतापुर)। ‘बच्चों, क्या आपको पता है कि संविधान निर्माता भीमराव अंबेडकर एक अखबार के संपादक भी थे।’ कुछ इसी अंदाज में प्राथमिक विद्यालय के छात्र-छात्राओं को अंबेडकर के जीवन से जुड़े कई किस्से बताए गए।

जिले के रामपुर मथुरा ब्लॉक में प्राथमिक विद्यालयों में भीमरा‍व अंबेडकर जयंती मनाई गई। इस दौरान बताया गया कि साप्ताहिक पत्र मूलनायक के सम्पादक बाबा साहेब का नाम भारतीय इतिहास में स्वर्ण अक्षरों में अंकित है। अंबेडकर के पिता भारतीय सेना की मऊ छावनी में सूबेदार के पद पर थे।

ऐसे में, उन्होंने अपनी जिन्दगी को इतना श्रेष्ठ बनाया कि वे दूसरों के लिए प्रेरणा स्रोत बन गए। कार्यक्रम में मौजूद लेखिका वीणा भाटिया के अनुसार, ‘आधुनिक भारत के इतिहास को महात्मा गांधी और जवाहरलाल नेहरू के बाद सबसे ज्यादा अगर किसी ने प्रभावित किया है तो वे हैं डॉ. भीमराव अंबेडकर।’

Share it
Share it
Share it
Top