डेंटल कैंप : ‘मेरे चाचा कहते हैं बालू से दांत मांजा करो’

डेंटल कैंप : ‘मेरे चाचा कहते हैं बालू से दांत मांजा करो’छात्राओं के दांतों का चेकअप करते हुए डॉक्टर 

कन्नौज। ‘‘पहले मैं कोलगेट से दांत साफ करता था। करीब एक महीने पहले चाचा ने कहा कि मैं बालू से साफ करता हूं, तुम भी इसी से साफ किया करो तो मैंने टूथपेस्ट बंद कर दिया। अब ऐसा नहीं करूंगा। डॉक्टर साहब ने इसके नुकसान बताए हैं।’’ यह कहना है आसकरनपुर्वा निवासी कक्षा छह के छात्र दीपांशु का।

जिला मुख्यालय कन्नौज से करीब पांच किमी दूर देवा-नजरापुर गाँव में सरस्वती शिशु-विद्या मंदिर में डॉ. वरुण सिंह कटियार ने डेंटल कैंप लगाया। इसमें ‘गाँव कनेक्शन’ फाउंडेशन भी सम्मिलित हुआ। डॉ. कटियार बताते हैं, ‘‘बालू और राख के इस्तेमाल से दांत खराब हो जाते हैं। दाग भी पड़ जाते हैं। इसलिए कोई भी अच्छा टूथपेस्ट इस्तेमाल करना चाहिए।’’

यह भी पढ़ें- घर का तनाव बच्चे में पैदा कर सकता है मेंटल डिसआर्डर, जानिए क्या है इसके लक्षण

डॉ. कटियार आगे कहते हैं, ‘‘मुंह की दुर्गंध और कीटाणु मारने के लिए ब्रश किया जाता है। गंदगी की वजह से ही पेट में दर्द होने लगता है। दांतों में अधिक दिक्कत वाले बच्चों का इलाज मैं फ्री में करूंगा।’’

व्यवस्थापक प्रमोद गुप्ता ने बताया, ‘‘मेरे स्कूल में 100 बच्चों का चेकअप हुआ है। सभी को निशुल्क टूथपेस्ट और कुछ लोगों को दवाएं बांटी गई हैं। स्कूल के स्टाफ का भी चेकअप हुआ।’’ शिक्षिका ज्योति कहती हैं, ‘‘बच्चों को टूथपेस्ट मिला है। आदत में आ जाएगा। सुधार होगा।’’ भुगैतापुर गाँव निवासी कक्षा आठ की छात्रा शुभी सिंह बताती हैं, ‘‘मुझे आज ही पता चला है कि बालू और राख से दांत साफ नहीं करने चाहिए।’’

यह भी पढ़ें- मानसिक रोगों का इलाज संभव, सही समय पर पहचान करने की जरूरत

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top