Top

ललितपुर में गाँव चौपाल में ग्रामीणों को बताए गए मनरेगा के अधिकार

ललितपुर में गाँव चौपाल में ग्रामीणों को बताए गए मनरेगा के अधिकारगाँव चौपाल में उपस्थित ग्रामीण 

अरविन्द सिंह परमार/स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

ललितपुर। गाँव कनेक्शन फाउंडेशन और विकास विभाग के साझा प्रयास से ललितपुर मुख्यालय से 46 किमी पूर्व दिशा महरौनी ब्लॉक की ग्राम पंचायत जखौरा में मनरेगा जागरुकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में ग्रामीणों को मनरेगा के अधिकार के बारे में बताया गया। ग्रामीणों को बताया गया कि कैसे काम मांगा जाए।

जागरुकता कार्यक्रम में पहुंची बेनीबाई ने बताया (48 वर्ष) ने बताया, “गाँव में काम लगने के लिए बुलावा आता है और मजदूर काम करने चल देते हैं। गाँव वालों को नियमों की जानकारी नहीं है। बारह वर्षों से ऐसी ही चलता आ रहा है। प्रधान बदले, लेकिन आज तक नियमों की जानकारी किसी ने नहीं दी।”

ये भी पढ़ें- मनरेगा के लिए 60 करोड़ रुपये की धनराशि स्वीकृत , कामों में आएगी तेजी

मुकेश कुमार (30 वर्ष) बताते हैं, “जागरुकता कार्यक्रम के माध्यम से काम मांगने की जानकारी मिली। अभी तक आवेदन करने की जानकारी नहीं थी। किसी ने बताया भी नहीं था।” गाँव के लोगों से मनरेगा जागरुकता कार्यक्रम में काम मांगने के आवेदन को भराया गया, जिसमें 30 ग्रामीणों ने लिखित काम का आवेदन किया।”

सोशल ऑडिट ब्लॉक को-आडिनेटर, महरौनी धनीराम वर्मा ने बताया, “जॉब कार्ड काम करने का लाइसेंस हैं। मजदूरी की मांग पत्र के आधार पर मजदूरी मिलती है। 100 दिन सरकार काम देने की गारंटी देती है। लिखित आवेदन के माध्यम से काम मांगे जाते हैं। 15 दिन में पंचायत गाँव में ही काम उपलब्ध कराएगी। पंद्रह दिन में काम न मिलने पर बेरोजगारी भत्ता मिलेगा।”

ये भी पढ़ें- कहां गया मनरेगा का 48 हजार करोड़ का बजट?

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.