सिद्धार्थनगर: रेलवे कॉलोनियों की छतों से टपक रहा पानी 

सिद्धार्थनगर: रेलवे कॉलोनियों की छतों से टपक रहा पानी आदर्श रेलवे स्टेशन शोहरतगढ़ के रेलवे कॉलोनी का हाल बेहाल है।

स्वयं कम्युनिटी जर्नलिस्ट

शोहरतगढ़। आदर्श रेलवे स्टेशन शोहरतगढ़ के रेलवे कॉलोनी का हाल बेहाल है। मरम्मत के अभाव में छतों से पानी टपक रहा है तो कहीं दीवारों में दरारें पड़ गई हैं। विभागीय लापरवाही से परेशान रेलवे कर्मी अब रेलमंत्री सुरेश प्रभु से पत्राचार कर कॉलोनी की मरम्मत की गुहार लगाने की तैयारी कर रहे हैं।

शोहरतगढ़ आदर्श रेलवे स्टेशन होने के बाद भी व्यवस्थाओं के नाम पर शून्य है। इसकी भरपाई न केवल यात्रियों को बल्कि रेलकर्मियों को भी करनी पड़ रही है। रेलवे कॉलोनियों की हालत जर्जर है। स्टेशन पर तैनात सफाईकर्मी छब्बन (45 वर्ष) को विभाग ने टाइप टू ग्रेड का आवास आवंटित कर रखा है, लेकिन अंग्रेजी हुकूमत की यह कॉलोनी रहने लायक नहीं रह गई।

ये भी पढ़ें- क्या आप जानते हैं भारतीय रेलवे के गार्ड भोलू के बारे में, हर रेल यात्रा में रहता है आपके साथ

दो कमरा और बरामदा वाले इस आवास की छत टपकने लगी है और दीवारों में सीलन लग गई है। इसके चलते दीवारों में दरारें पड़ गई हैं। टूट चुके दरवाजे भी जुगाड़ से चल रहे हैं। छब्बन ने बताया, “छतों से पानी टपकने और दरारें फट जाने से अनहोनी की आशंका के चलते पूरी रात जागकर बितानी पड़ रही है।” इस सम्बंध में सेक्शन इंजीनियर मनोहर लाल से बात करने का प्रयास किया गया लेकिन फोन रिसीव नहीं हो सका।

जलनिकासी का संकट

आवासों के बाहर, अगल-बगल जलनिकासी न होने से बरसात का पानी घर के बाहर ही जमा हो रहा है। इसके चलते संकट की स्थितियां खड़ी हैं। बरसाती व घरों का गंदा पानी इकट्ठा होने से बीमारी फैलने की आशंका बनी है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top