यहां पर मिलेंगी खेती-किसानी संबंधित सभी जानकारियां 

यहां पर मिलेंगी खेती-किसानी संबंधित सभी जानकारियां 5 व 6 अप्रैल को राज्यस्तरीय किसान मेला व कृषि उद्योग प्रदर्शनी का आयोजन

अगर आप कृषि संबंधित नई तकनीकी और नए शोध की जानकारी चाहते हैं, तो ये आपके लिए बढ़िया मौका है, यहां पर सारी जानकारी एक ही जगह पर मिल जाएगी।

नरेंद्र देव कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय, कुमारगंज, फैजाबाद में 5 व 6 अप्रैल को राज्यस्तरीय किसान मेला व कृषि उद्योग प्रदर्शनी का आयोजन किया जा रहा है। इसमें मुख्य अतिथि के रूप में प्रदेश के कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने उपस्थित रहेंगे।

ये भी पढ़ें- सूखे इलाकों में पैसे कमाना है तो करें लेमनग्रास की खेती

मेले का मुख्य विषय किसानों की दोगुनी आय में नवीनतम कृषि तकनीकों का उपयोग रखा गया है। किसान मेले में किसानों के लिए खरीफ फसलों के उन्नतशील प्रजातियों के बीज समेत फल वृक्ष व नर्सरी पौध भी विक्रय के लिए उपलब्ध रहेंगे। कृषकों को कम लागत की कृषि तकनीकी, जैविक खेती, पशु पालन, मुर्गी पालन, बटेर पालन, समेकित कृषि प्रणाली, कृषि विविधीकरण जैसी तकनीकों की अत्याधुनिक विधाओं से अवगत कराया जाएगा। मेले में आने वाले किसानों को विश्वविद्यालय के विभिन्न प्रक्षेत्र का भ्रमण व अवलोकन करने की व्यवस्था भी की गई है।

विश्वविद्यालय के शोध प्रक्षेत्रों, कृषि तकनीकी सूचना केन्द्र और प्रशिक्षण का किसान भ्रमण कर सकते हैं। यहां पर किसान मिट्टी और पानी की भी जांच करा सकते हैं। खरीफ फसलों के शाक-सब्जी व फलों के उन्नत बीज व पौधों की बिक्री।

ये भी पढ़ें- डबलिंग इनकम : खस के साथ बथुआ या इकौना की खेती कर किसान बढ़ा सकते हैं आमदनी

विभिन्न फसलों की उन्नत व संकर प्रजातियों की भी जानकारी दी जाएगी। आधुनिक कृषि यंत्र ट्रैक्टर, रोटावेटर आदि का प्रदर्शन और बिक्री। खाद्यान्न फसल, फल-फूल, शाक-सब्जी व उनके उत्पादों की प्रदर्शनी व प्रतियोगिता 05 अप्रैल को 10:00 बजे से 01:00 तक किया जाएगा।

ये भी पढ़ें- टमाटर की खेती ने बदली किसानों की किस्मत

लगेगी पशु प्रदर्शनी

पशु प्रदर्शनी, प्रतियोगिता के साथ ही पशुओं की नीलामी भी 6 अप्रैल को 10:00 से 01:00 तक की जाएगी। मेले में विश्वविद्यालय के अधीन सभी 17 कृषि विज्ञान केंद्रों समेत कृषि रसायन, उर्वरक, बीज, कृषि यंत्र, बैंक तथा कृषकों व कृषि उद्यमों से संबंधित संस्थाओं के स्टाल लगाए जाएंगे।

ये भी देखिए:

Krishi Unnati 2018: Sustainable Farming एक खेत में कई फ़सलें पैदा करने का वैज्ञानिक मॉडल. गन्ने के साथ आलू और लहसुन की खेती, पशुपालन और मछलीपालन सबकुछ एक खेत में... http://bit.ly/2FHBKR9

Posted by Gaon Connection on Saturday, March 17, 2018

Share it
Share it
Share it
Top