यूपी : बाढ़ प्रभावित 22 जिलों में राहत कार्य जारी, महराजगंज, गोरखपुर और बाराबंकी समेत 6 जिले सबसे ज्यादा प्रभावित

यूपी : बाढ़ प्रभावित 22 जिलों में राहत कार्य जारी, महराजगंज, गोरखपुर और बाराबंकी समेत 6 जिले सबसे  ज्यादा प्रभावितबाढ़ वाले क्षेत्रों में राहत कार्य जारी।

लखनऊ। प्रदेश सरकार ने प्रदेश के बाढ़ प्रभावित 22 जिलों में राहत कार्य चलाए जाने की प्रभावी व्यवस्था की है। बाढ़ से प्रभावित लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाने तथा उन्हें खाद्यान्न आदि की उपलब्धता सुनिश्चित की जा रही है। प्रदेश में महाराजगंज, कुशीनगर, गोरखपुर, गोण्डा, बहराइच, लखीमपुर, सीतापुर, बाराबंकी जिले सर्वाधिक बाढ़ से ग्रस्त हैं। बाढ़ प्रभावितों को आवश्यक खाद्य सामग्री वितरित की जा रही है।

प्रमुख सचिव व आपदा राहत आयुक्त डाॅ0 रजनीश दुबे के अनुसार बाढ़ प्रभावित जिलों में 157 राहत शिविर स्थापित किये गये हैं, जिनमें 94618 लोगों को रखा गया है। इसके अलावा 35206 लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया है। उन्होंने बताया कि 1758 नावें, 57 मोटर बोट तथा एन.डी.आर.एफ. की 10 टीमें लगाई गई है। ये नावें एवं मोटरबोट बाढ़ में फंसे लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाने का कार्य सुचारू रूप से कर रही है। इसके अलावा पी.ए.सी. बटालियन की 13 टीमें भी लगाई गई है जो बाढ़ प्रभावित लोगों के प्रत्येक स्तर पर मदद कर रही है।

ये भी पढ़ें: बिहार में बाढ़ की असली तस्वीर दिखाती हैं ये फेसबुक पोस्ट्स

डा. दुबे के अनुसार बाढ़ प्रभावित नागरिकों को भोजन आदि की व्यवस्था के लिए समुचित रूप से खाद्यान्न सामग्री वितरित की जा रही है। बाढ़ में फंसे लोगों को भोजन आदि की कमी नहीं होने दी जायेगी। उन्होंने बताया कि बुधवार तक मिली जानकारी के अनुसार बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में लगभग एक हजार कुंतल आटा, 10 कुंतल गुड़, 2 हजार कुंतल चावल, 225 कुंतल दाल, 100 कुंतल नमक तथा 450 कुंतल आलू का वितरण किया जा चुका है। इसके अतिरिक्त बाढ़ पीड़ितों में 3.80 लाख लंच पैकेट, 18 हजार लाई चना पैकेट, 12 हजार ब्रेड/बिस्कुट और सभी लोगों को आवश्यकतानुसार शुद्ध पानी के पाउच उपलब्ध कराये गये।

उन्होंने यह भी बताया कि खाद्यान्न एवं राहत सामग्री के वितरण का कार्य निरंतर तब तक जारी रहेगा, जब तक बाढ़ पीड़ित लोग राहत शिविरों एवं सुरक्षित स्थानों पर निवास करेंगे।

प्रमुख सचिव ने बताया कि महाराजगंज, कुशीनगर में बाढ़ में फंसे 45 लोगों को हेलीकाॅप्टर के माध्यम से सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। बाढ़ ग्रस्त क्षेत्रों में 176 मेडिकल टीमें गठित की गई हैं जो बीमार लोगों का सुचारू रूप से उपचार कर रहे हैं। इसके साथ ही 2.5 लाख क्लोरीन टेबलेट, 21 हजार ओ.आर.एस. के पैकेट भी वितरित किये गये हैं।

डाॅ. दुबे ने यह भी बताया कि नागरिकों के साथ ही मवेशियों को भी सुरक्षित स्थान पर पहुंचाने का कार्य किया जा रहा है। मवेशियों के लिए 11 हजार कुंतल भूसा उपलब्ध कराये जाने के साथ ही पशुओं को बीमारियों से बचाव हेतु टीकाकरण एवं दवायें लगातार वितरित की जा रही है।

ये भी पढ़ें:बिहार बाढ़ : एनडीआरएफ की बचाव नौका में गूंजी किलकारी

Share it
Share it
Share it
Top