‘मुख्यमंत्री पंचायत प्रोत्साहन पुरस्कार’ के 6 लाख रुपए के लिए प्रधान ऐसे कर सकते हैं आवेदन

‘मुख्यमंत्री पंचायत प्रोत्साहन पुरस्कार’ के 6 लाख रुपए के लिए प्रधान ऐसे कर सकते हैं आवेदनआप भी कर सकते हैं आवेदन

अगर आप यूपी की किसी ग्राम पंचायत के प्रधान अथवा पंच हैं और ग्राम पंचायत में अच्छा कार्य हुआ है तो योगी सरकार 6 लाख का ईनाम दे सकती है. जानिए कैसे

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की 375 ग्राम पंचायतों को ‘मुख्यमंत्री पंचायत प्रोत्साहन पुरस्कार’ दिया जाएगा। आवेदन की आखिरी तारीख बढ़ाकर 10 अप्रैल 2018 कर दी गई है। इसके तहत हर जिले से पांच-पांच ग्राम पंचायतों का चयन होगा।

निदेशक, पंचायती राज ने सूबे के सभी डीएम को इस बारे में भेजा है कि हर जिले से पांच-पांच ग्राम पंचायतें जिसमें एक विकास खंड से दो से अधिक न हों को सम्मानित किया जाएगा। पहले हर विकास खंड से तीन ग्राम पंचायतें कुल 2,483 ग्राम पंचायतें लेनी थीं, लेकिन अब नियम बदल दिया गया है।

ये भी पढ़ें- ऐसे जाने, ग्राम पंचायत को कितना मिला पैसा, और कहां किया गया खर्च

पंचायती राज विभाग कन्नौज में तैनात जिला परियोजना प्रबंधक शलभ बताते हैं, ‘‘अब तक पांच-छह आवेदन आ चुके हैं। सभी ब्लॉकों से आवेदन नहीं आए हैं। जो प्रधान आवेदन करने के इच्छुक हों, आवेदन 10 अप्रैल तक हर हाल में कर दें। पहले यह तारीख 31 मार्च थी।’’

शलभ आगे बताते हैं, ‘‘आवेदन में 45 प्रश्नों की 100 अंकों वाली हिन्दी प्रश्नावलियां ‘हमारी पंचायत’ साफ्टवेयर पर ऑनलाइन कर दी गई हैं, जिसके आधार पर ग्राम पंचायतों का स्वः मूल्यांकन किया जाएगा। उसी आधार पर पंचायतों का चयन होगा।’’

ग्राम प्रधान के कामकाज से खुश नहीं तो उस परऐसे कर सकते हैं कार्रवाई। पढिए पूरी ख़बर

ये भी पढ़ें- जानें ग्राम पंचायत और उसके अधिकार, इस तरह गांव के लोग हटा सकते हैं प्रधान

इसका स्थलीय सत्यापन दो गुनी ग्राम पंचायतों का सर्वोच्च अंक प्राप्त करने के आधार पर जनपद स्तरीय कमेटी द्वारा होगा। ग्राम पंचायतों की प्रष्नावली का असेसमेंट कर सर्वोत्कृष्ट अंकों वाली ग्राम पंचायतों को अवरोही क्रम में निर्धारित कराया जाना है।’’

सत्यापन को ये रहेंगी कमेटी में

ग्राम पंचायतों के लिए फील्ड सत्यापन दल गठित होगा। इसमें दो व्यक्तियों की एक टीम बनेगी, जो अधिकतम पांच ग्राम पंचायतों का सत्यापन करेंगी। पंचायतराज विभाग के कोई भी अधिकारी सत्यापन दल में नहीं होंगे। परन्तु दो सदस्यीय सत्यापन दल की सहायता के लिए जिला परियोजना प्रबंधक/जिला परियोजना समन्वयक को जनपद परफारमेंस असेसमेंट कमेटी द्वारा नामित किया जा सकता है। जनपद से एक अधिक कुल छह नामों का प्रस्ताव राज्य परफारमेंस असेसमेंट कमेटी को अग्रसारित किया जाएगा।

30 जून के बाद मिलेगा पुरस्कार

आवेदन के बाद ग्राम पंचायतों द्वारा स्वमूल्यांकन भी 10 अप्रैल को किया जाएगा। जनपद परफारमेंस असेसमेंट कमेटी द्वारा परीक्षण एवं स्थलीय सत्यापन की रणनीति 20 अप्रैल तक तैयार होगी। स्थलीय सत्यापन टीम द्वारा ग्राम पंचायतों का सत्यापन कर रिपोर्ट जनपद स्तरीय समिति को 10 मई को प्रस्तुत किया जाएगा। अन्य प्रक्रिया पूरी होने के बाद 30 जून के बाद ‘मुख्यमंत्री पंचायत प्रोत्साहन पुरस्कार’ मिलेगा।

ये भी पढ़ें- अब इंटरनेट पर देखा जा सकेगा ग्राम पंचायत की संपत्तियों का विवरण

प्रस्तावित प्रश्नावली में यह विषय होंगे

जो प्रश्नावली भरी जाएगी उसमें स्वच्छता, ग्राम पंचायत विकास योजना, विकास कार्य/नागरिक सेवाएं, ग्राम पंचायत की कार्यप्रणाली, ई-गर्वनेंस आदि से संबंधित सवाल होंगे।

ये हैं हर जिले से पुरस्कार

जिला परियोजना प्रबंधक बताते हैं, ‘‘हर जिले में पांच-पांच पुरस्कार दिए जाएंगे। पहला पुरस्कार छह लाख रूपए का है।, दूसरा पुरस्कार पांच लाख, तीसरा तीन लाख, चौथा पुरस्कार ढाई लाख और पांचवां पुरस्कार डेढ़ लाख रूपए का ग्राम पंचायतों के लिए निर्धारित है।’’

ये भी देखिए:

Share it
Top