खुले में शौच करना करन-अर्जुन को पड़ा भारी, माँ ने नहीं लगाया गले

खुले में शौच करना करन-अर्जुन को पड़ा भारी, माँ ने नहीं लगाया गलेयुवती कोे पुरस्कार देते डीएम।

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

औरैया। स्वच्छ भारत मिशन को सफल बनाने के लिए जिले में अनोखी पहल के माध्यम से जागरूक किया जा रहा है। गांव के लोगों को गब्बर और करन-अर्जुन की फिल्म दिखाकर घर में शौचालय बनवाने के लिए प्रेरित किया जा रहा है। वैन में लगी एलईडी के द्वारा गांव-गांव फिल्म दिखाई जा रही है।

जिले के दिसंबर माह के अंतिम तक ओडीएफ मुक्त करने के लिए वैन में लगी एलईडी के द्वारा गांव-गांव जाकर गब्बर और करन-अुर्जन की फिल्म ग्रामीणों को दिखाई जा रही है। जिसमें करन-अर्जुन 20 साल बाद अपनी मां से मिलने के लिए लौटते हैं। मां दोनों को खुले में शौच करती देख लेती है तो उनसे मुंह मोड़कर खड़ी हो जाती है। जब दोनों गले लगाने को कहते है तो मां ने कहा, खुले में शौच करते हुए इसकी सजा है गले नहीं लगाऐंगे। करन-अर्जुन ने मां की डांट से सीख ली और कहा खुले में शौच नहीं जायेंगे। घर में शौचालय बनवायेंगे।

ये भी पढ़ें- सहारा में जमा हैं 5 लाख रुपए, खाने को तरस रहा बुजुर्ग दंपति, पीएम से अपील- ‘पैसे दिलाओ या इच्छा मृत्यु की इजाजत दो’

इसी तरह गब्बर को जब खुले में शौच करने से होने वाली गंदगी और विभिन्न प्रकार की बीमारियों के बारे में पता हुआ तो उसने खुले में शौच जाना बंद कर दिया। इसके अलावा जो भी खुले में शौच जाता उसे रोकने की कोशिश करता।

गांव-गांव फिल्माई जा रही फिल्म को देख लोग खुले में शौच जाने से तौबा कर रहे हैं। ओडीएफ के तहत ग्रामीणों को जागरूक करने में लगी टीम में अच्छा काम करने वाले सदस्यों को डीएम जय प्रकाश सगर, डीपीआरओ केके अवस्थी और मुख्य विकास अधिकारी सत्येंद्र नाथ चैधरी ने सम्मानित किया। ओडीएफ में अच्छा प्रदर्शन करने वाली महिला समाख्या की महिलाओं को प्रशस्ति पत्र भी दिये गये।

डीपीआरओ ने प्रधानों को किया सम्मानित

जिला पंचायत राज अधिकारी ने ओडीएफ घोषित होने वाले 08 गांवों के प्रधानों को सम्मानित किया है। शहबदिया प्रधान नजमुददीन, मडनई प्रधान रामअवतार, मुडैना छिदामी लाल की प्रधान सुमन देवी, जौरा की प्रधान सिया दुलारी, बेरी कपरिया की प्रधान मंजू देवी, विक्रमपुर के प्रधान सत्य प्रकाश, अजनपुर के प्रधान उमा शंकर और कमालपुर की प्रधान पिंकी देवी ने अपनी ग्राम पंचायत को ओडीएफ घोषित कराने के लिए सराहनीय काम किया है। जिसके लिए डीएम और डीपीआरओ ने प्रधानों को सम्मानित किया।

ये भी पढ़ें- बाढ़ की तस्वीरों को देखकर इग्नोर करने वाले शहरी हिंदुस्तानियों देखिए, बाढ़ में जीना क्या होता है

ओडीएफ टीम को मिले प्रशस्ति पत्र

स्वच्छाग्रहियों में महिला समाख्या की महिला शकुंतला देवी, सुमन देवी, अनिल कटियार, धर्मेंद्र कुमार, सर्वेश बाबू, विपिन कुमार, राजवीर को अच्छा कार्य कर लोगों को जागरूक करने के लिए प्रशस्ति पत्र दिये गये।

स्वच्छता में नौनिहाल भी रहे आगे

स्वच्छ भारत मिशन अभियान में जिले के प्राथमिक विद्यालय गुलाबपुर और प्राथमिक विद्यालय गौरी गंगा प्रसाद के नौनिहालों ने भी अच्छा काम किया। दोनों विद्यालयों के दो-दो छात्रों को ओडीएफ में सरहानीय काम करने पर पुरस्कृत किया गया।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top