Top

यूपी पंचायत चुनाव का तीसरा चरण: कोरोना की दहशत के बीच 20 जिलों में 26 अप्रैल को मतदान

उत्तर प्रदेश के त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के तीसरे चरण में 26 अप्रैल को तीसरे चरण के लिए 20 जिलों में मतदान होगा। मतगणना 2 मई को होगी।

यूपी पंचायत चुनाव का तीसरा चरण: कोरोना की दहशत के बीच 20 जिलों में 26 अप्रैल को मतदान

उत्तर प्रदेश में 20 जिलों में तीसरे चरण के लिए सोमवार को मतदान। फोटो- गांव कनेक्शऩ

लखनऊ (उत्तर प्रदेश)। कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच उत्तर प्रदेश के गांवों में हो रहे त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में 26 अप्रैल (सोमवार) को तीसरे चरण के लिए मतदान होगा। राज्य निर्वाचन आयोग के मुताबिक के मुताबिक मतदान सुबह 7 बजे से शुरु होकर शाम 6 बजे तक होगा।

उत्तर प्रदेश ग्राम पंचायतों के प्रधानों, पंच, क्षेत्र पंचायत और जिला पंचायत के सदस्यों के लिए चुनाव की प्रक्रिया जारी है। अब तक 2 चरणों में मतदान हो चुका है, तीसरे चरण के लिए 26 को वोटिंग होगी। चौथे और आखिरी चरण के लिए 29 अप्रैल (गुरुवार) को मतदान होगा। जिसके बाद सभी 75 जिलों के लिए एक साथ 2 मई को मतगणना होगी।

सोमवार को बाराबंकी, शामली, मेरठ, मुरादाबाद, पीलीभीत, कांसगज, फिरोजाबाद, औरैया, कानपुर देहात, जालौन, हमीरपुर, फतेहपुर, उन्नाव, अमेठी, बलरामपुर, सिद्दार्थनगर, देवरिया, चंदौली, मीरजापुर (मिर्जापुर) और बलिया मतपेटियों के माध्यम से मतदान होगा। इन जिनों में चुनावों को संपन्न कराने के लिए पोलिंग पार्टियां रविवार की शाम हो ही मतगणना स्थलों पर पहुंच गई।

इससे पहले 19 अप्रैल को लखनऊ से समेत जिलों में मतदान हुआ था। राज्य निर्वाचन आयोग उत्तर प्रदेश की वेबसाइट के अनुसार द्वितीय चरण में ओवरऑल 71 फीसदी से ज्यादा मतदान हुआ था। इस दौरान सबसे ज्यादा मतदान 80.95 फीसदी ललितपुर जिले में हुआ जबकि सबसे कम प्रतापढ़ में 60.06 फीसदी मत पड़े थे। वहीं राजधानी लखनऊ में 72 फीसदी मतदान हुआ था।

संबंधित खबर- "अस्पतालों और श्मशानों से जैसी खबरें आ रही हैं, ऐसे में शहरों से गांव वोट डालने आए लोगों से कोरोना का डर तो है ही"

पंचायत चुनाव में लगाए जिन कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई है उनमें से कई बीमार हो गए हैं।

लगातार उठ रही चुनाव स्थगित करने की मांग

कोरोना के खौफ के बीच हो रहे इन चुनावों को डलाने की लगातार मांग होती रही है। उत्तर प्रदेश शिक्षक महासंघ ने 22 अप्रैल को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को खत लिखकर चुनाव पर रोक लगाने की मांग की थी। शिक्षक संघ ने कहा था कि मुख्यमंत्री जी स्वयं आप, पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव समेत कई मंत्री कोरोना से पीड़ित हैैं। सैकड़ों लोगों की रोज जान जा रही है। चुनाव में जिन कर्मियों की ड्यूटी लग रही है उनमें से कई संक्रमित हैं ऐसे में चुनाव स्थगित किए जाने चाहिए।

संबंधित खबर- अब गाँवों में कोरोना की दहशत, एक ही गाँव में मिले 40 कोविड पॉजिटिव

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.