उत्तर प्रदेश

यूपी को ऐसा बनाना है, जिसमें हर जिले की अपनी पहचान उसके प्रोडक्ट से बन सके : योगी 

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में सीएम योगी आदित्यनाथ ने आज मंगलवार को 93 लोकार्पण और 8 परियोजनाओं का शिलान्यास किया।

इस कार्यक्रम में सीएम योगी के साथ डिप्टी सीएम केशव मौर्या और डॉ दिनेश शर्मा कार्यक्रम में मौजूद रहे। इसके अलावा टेक्निकल एजुकेशन मंत्री गोपाल टंडन भी मौजूद रहे। वहीं कार्यक्रम की शुरुआत के वक्त सीएम और डिप्टी सीएम को बुके की जगह रुद्राक्ष का पौधा भेंट किया गया। इस दौरान सीएम योगी ने एक प्रदर्शनी का उद्घाटन भी किया।

ये भी पढ़ें-अगर आप यूपी में सांस लेते हैं तो ये ख़बर आपके लिए है

प्राविधिक शिक्षा विभाग के कार्यक्रम में सीएम योगी ने 10 तकनीकी कॉलेजों को 200 करोड़ रुपए अनुदान के रूप में दिए। इस राशि को कॉलेजों के विकास के काम में लाया जाएगा जाएगा।कार्यक्रम के दौरान सीएम योगी ने कहा, हमें यूपी को ऐसा बनाना है कि जिसमें हर जिले की अपनी पहचान उसके प्रोडक्ट से बन सके। सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट को सस्ता बनाने की जरुरत है। मौजूदा वक्त में सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट का खर्चा बहुत ज्यादा है। भारत सरकार की मदद से हम शहरों में सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट लगा रहे हैं। मुझे ऐसा लग रहा, क्या हम लोग उसका रनिंग कॉस्ट उठा पाएंगे।

योगी ने कहा कि हमारे सामने सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट की चुनौती है। इसकी वजह से फैल रही गन्दगी से होने वाली बीमारियों में हजारों करोड़ रुपए खर्च हो रहे है। कूड़े की वजह से प्रदेश की तस्वीर खराब हो रही है। क्या ऐसी कोई तकनीक हम बना सकते हैं, जिसमे सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट बेहतर और सस्ता हो। क्या हम तकनीक को सस्ता और पर्यावरण फ्रेंडली बना सकते हैं। हम लोग तकनीकी का इस्तेमाल तब करते है, जब दूसरे उसका इस्तेमाल छोड़ देते हैं। सस्ती और आसान तकनीकी के लिए थोड़े कोशिशों की जरुरत है। हम सोचते हैं, शोध से पहले ही खूब पैसा मिल जाए, तब काम शुरू करेंगे। यह नहीं होगा, हमें सोच बदलनी होगी। हमें शोध शुरू करना होगा उसके बाद अपने आप पैसे का फ्लो आएगा। अगर हर इंजीनियरिंग कॉलेज एक विषय को लेकर काम करना शुरू करें, तो यूपी में बहुत कुछ हो सकता है। उन्होंने कहा कि बलिया से लखीमपुर में मिलने वाले पेयजल में आर्सेनिक की मात्रा ज्यादा है वहाँ बीमारियां हो रही है। स्वाइन फ्लू भी अब आ गया है। हमारी कोशिश होनी चाहिये कि कैसे हम तकनीक को और अधिक विकसित कर सकते है। सरफेस वाटर को हम आम लोगों तक कैसे आसानी से पहुंचाये। हमें अपने अनुकूल तकनीक को बनाना होगा।

ये भी पढ़ें-करोड़ों भारतीयों के लिए आज़मगढ़ की विभा मिसाल हैं, शबाना आज़मी भी हैं इनकी कायल

इस मौके पर तकनीकी शिक्षा मंत्री गोपाल टंडन ने कहा, सीएम योगी हम सभी लोगों को प्रेरित करते है, और बताते हैं कि प्रदेश को हमेशा विकास की तरफ ले जाना है। सीएम के ही आदेश पर बीते दिनों तीन बार जॉब फेयर लगा। हमारा मकसद है कि अच्छी शिक्षा के लिए यूपी के स्टूडेंट्स को बाहर जाना न पड़े। आने वाले दिनों में यूपी टेक्निकल एजुकेशन के क्षेत्र में आगे रहेगा।

डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या ने कहा कि बाहर जो भी प्रोजेक्ट लगाए गए है, उन्हें देखकर यही लगता है कि आने वाला वक्त देश के बच्चों के साथ यूपी के बच्चों का भी है। पूर्व की कल्याण सिंह की सरकार का जिक्र करते हुए केशव मौर्या ने कहा, उस वक्त राजनाथ सिंह शिक्षा मंत्री थे। तब यूपी में एजुकेशन का ग्रोथ हुआ था। उनकी सरकार जाने के बाद ये ग्रोथ कम हो गया था। योगी सरकार की तारीफ करते हुए केशव मौर्या ने कहा, जिस दिन से बीजेपी की सरकार बनी, युवाओं का आत्मविश्वास बढ़ा है। योगी सरकार के नेतृत्व में प्रदेश विकास के रास्ते पर बढ़ रहा है। आज हमने सिर्फ दो लोगों को सम्मान दिया है। आने वाले समय में 200 लोगों को सम्मान दिया जाएगा।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहांक्लिक करें।