पशुधन

फ्लैट वाले भी पाल सकेंगे गाय भैंस , हरियाणा सरकार शुरू करेगी पशुओं के लिए हॉस्टल

अभी तक आपने इंसानों के पीजी(पेइिंग गेस्ट) के बारे में सुना होगा, जहां पैसे देकर रहने और खाने की व्यवस्था होती है, लेकिन जल्द ही हरियाणा सरकार गाय-भैंस के लिए पीजी खोलने जा रही है। इस पीजी में गाय-भैंस के चारे-पानी से लेकर उनके इलाज की पूरी व्यवस्था होगी।

हरियाणा के रोहतक में आयोजित तृतीया एग्री लीडरशिप समिट -2018 में राज्य के कृषि मंत्री ओमप्रकाश धनखड़ ने कहा था कि "फ्लैट में रहने वाले लोग जो जगह की कमी की वजह से गाय-भैंस नहीं पाल पाते है उन लोगों के लिए गाय भैंस पीजी योजना शुरू की जाएगी। प्रदेश के हर जिले में दुधारू पशुओं के लिए डेयरी कांसेप्ट के सात छोटे-छोटे पीजी खोले जाएगें। इस योजना मे शामिल होने के लिए एक पीजी फीस देनी होगी।" कृषि मंत्री के मुताबिक गाय-भैंस पीजी योजना में शामिल होने वाले लोगों को जानवरों के लिए मनपसंद चारा चुनने की छूट भी दी जाएगी।

फ्लैट में रहने वाले लोग जो जगह की कमी की वजह से गाय-भैंस नहीं पाल पाते है उन लोगों के लिए गाय भैंस पीजी योजना शुरू की जाएगी।
ओम प्रकाश धनखड़, कृषि मंत्री, हरियाणा

यह भी पढ़ें- गाय-भैंस की डकार पहुंचा रही पर्यावरण को नुकसान

हरियाणा सरकार इस योजना के लिए पीजी कर्मियों की भर्ती भी करेगी, जो जानवरों की देखभाल करने के बाद पीजी की सुविधा लेने वाले व्यक्ति के घर तक दूध पहुंचाएंगे। हरियाणा गौसेवा आयोग ने गाय-भैंसों के लिए पीजी खुलने का प्रस्ताव हरियाणा सरकार को दिया था। गौसेवा आयोग के प्रस्ताव के मुताबिक, इस पीजी हॉस्टल में सिर्फ देसी नस्ल की ही गायें और भैंस रहेंगी। विदेशी व क्रॉस ब्रीड नस्ल के जानवरों को वहां नहीं रखा जा सकेगा। इस पीजी हॉस्टल में सिर्फ दूध देने वाले जानवर ही रखे जाएंगे।

"अभी गाय-भैंस पीजी योजना का प्रस्ताव सरकार के पास गया है। आने वाले दो महीनों में इसको लागू किया जाएगा। जो लोग फ्लैट में रह रहे है और वो गाय-भैंस पालना चाहते है उनके लिए ये सुविधा होगी। इसके लिए जो स्थानीय विभाग है वो इसकी देख-रेख करेंगे। जैसे छात्र-छात्राओं के लिए रहने खाने की सुविधा होती है वैसी गाय-भैंसों के लिए होगी।" ऐसा बताते हैं, हरियाणा के पशुपालन विभाग के महानिदेशक डॉ जीएस झाकड़।

यह भी पढ़ें- ‘प्रमाणित फॉर्म सलाहकार’ कार्यक्रम शुरू, आप भी ऐसे कर सकते हैं आवेदन

डॉ झाकड़ ने आगे बताया, "पीजी को चलाने के कर्मचारी होंगे जो पशुओं की देखरेख करेंगे। पीजी से लोग सुबह और शाम अपने पशुओं का दूध ले जा सकेंगे। पीजी में पशुओं को चिकित्सीय सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी, इसके लिए पशु के मालिक को निर्धारित शुल्क भी देना होगा।"

हरियाणा सरकार की शुरू में दिल्ली के आसपास के शहरों में पशुओं के पीजी स्थापित करने की योजना है। पीजी में पशु का सही तरीके ध्यान रखा जा रहा है इसका पता लगाने के लिए एक एप भी तैयार किया जाएगा। इस एप के जरिए पशुपालक को घर बैठे अपने पशु को चारा-पानी सही तरीक से मिल रहा है इसके बारे में जानकारी मिल सकेगी।"

यह भी पढ़ें- गाय-भैंस की जेर से तैयार कर रहे दमदार देसी खाद , जानें पूरी विधि