इस लड्डू को खिलाने से समय पर गाभिन हो जाएंगी गाय-भैंस

इस लड्डू को खिलाने से समय पर गाभिन हो जाएंगी गाय-भैंसइस लड्डू को बनानेके लिए आईवीआरआई संस्थान द्वारा दिया जाता है प्रशिक्षण।

लखनऊ। कई बार गाय या भैंस समय पर हीट नहीं होतीं, जिससे पशुपालकों को परेशानी होती है, ऐसे में भारतीय पशु अनुसंधान संस्थान (आईवीआरआई) द्वारा बनाए इस लड्डू को खिलाने से गाय या भैंस समय पर हीट हो जाएंगी, साथ दूध उत्पादन भी बढ़ेगा।

“ज्यादातर पशुपालकों की यही समस्या है कि उनका पशु समय से गाभिन नहीं होता है। इसी समस्या को खत्म करने के लिए इस लड्डू को तैयार किया गया है। वर्ष 2015 में इस पर काम करना शुरू किया था। इसके पेटेंट के लिए भी भेज दिया गया है, ”ऐसा बताते हैं, आईवीआरआई के पशु पोषण विभाग के प्रधान वैज्ञानिक डॉ. पुतान सिंह।

ये भी पढ़ें- गाय के पेट जैसी ये ‘ काऊ मशीन ’ सिर्फ सात दिन में बनाएगी जैविक खाद , जानिए खूबियां

डेयरी में चारा खाते भैंस। फोटो- विनय गुप्ता।

यह भी पढ़ें- हाथी मेरे साथी : कान्हा की धरती पर होती है हाथियों की सेवा

संस्थान द्वारा बनाए गए इस लड्डू को घर में आसानी से बनाया सकता है। इसको शीरा, चोकर, नॉन प्रोटीन नाइट्रोजन, मिनरल मिक्सचर और नमक के मिश्रण से तैयार किया गया है। 250 ग्राम के एक लड्डू को बनाने में 10 रुपए का खर्चा आता है। पशुपालक अपनी आय बढ़ाने के लिए इसे व्यवसाय के रूप में भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

लड्डू की खासियत के बारे में डॉ. सिंह बताते हैं, “इस लड्डू को दुधारु पशुओं को खिलाने से दूध में 10 से 12 प्रतिशत वृद्धि होती है और जो पशु गाभिन नहीं होते हैं उनको 20 दिन रोज एक लड्डू खिलाने से पशु गाभिन होने की समस्या भी दूर होती है। बरेली के आस-पास के गाँव में इस लड्डू का परीक्षण भी किया गया है।

अपनी बात को जारी रखते हुए डॉ. सिंह आगे बताते हैं, “अगर कोई पशुपालक इसको बनाना सीखना चाहता है तो संस्थान में इसकी ट्रेनिंग भी ले सकता है। प्रशिक्षण में पूरी विधि और किस तरह इसे पशुपालक व्यवसाय के रूप में अपना सकते हैं इसके बारे में पूरी जानकारी दी जाएगी।

यह भी पढ़ें- घर पर पशु आहार बनाकर किसान कमा सकते हैं मुनाफा, देखिए वीडियो

इसको बनाने का प्रशिक्षण लेने के लिए आप आईवीआरआई में संपर्क भी कर सकते हैं:

  • डॉ. रूपसी सिंह 9411917058
  • डॉ. पुतान सिंह 9411220003

ये भी पढ़ें- इन यंत्रों की मदद से पशुपालक जान सकेंगे पशुओं के मदकाल की स्थिति

Share it
Top