जानिए क्या है मुखबिर योजना, मुखबिर बनने पर दो लाख रुपये तक का मिलेगा इनाम

Karan Pal SinghKaran Pal Singh   3 Oct 2017 3:01 PM GMT

जानिए क्या है मुखबिर योजना, मुखबिर बनने पर  दो लाख रुपये तक का मिलेगा इनामप्रतीकात्मक फोटो

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने कन्या भ्रूण हत्या को रोकने के लिए मुखबिर योजना की शुरुआत की। इस योजना के तहत बेटियों को जन्म लेने से रोकने वालों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। योजना के तहत कन्या भ्रूण हत्या की जानकारी देने वाले को सरकार की ओर से 2 लाख रुपये का इनाम दिया जाएगा।

इस तरह बन सकेगे मुखबिर

इच्छुक और योग्य आवेदकों को इस योजना के लिए आवेदन करना होगा। इसमें राज्य या केंद्र सरकार की सेवाओं में कार्यरत व्यक्ति या गर्भवती महिलाओं को भी मुखबिर, मिथ्या ग्राहक या सहायक के तौर पर चुना जा सकेगा। मिथ्या ग्राहक बनने वाली गर्भवती महिला को शपथ पत्र देना होगा। मुखबिर, मिथ्या ग्राहक या सहायक बनने के लिए राज्य स्तर पर सचिव चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, अध्यक्ष राज्य समुचित प्राधिकरण या मुख्य चिकित्सा अधिकारी से संपर्क किया जा सकता है।

सूचना देने पर मिलेगा इनाम

भ्रूण हत्या रोकने के लिए सही सूचना देने वाले मुखबिर को 60 हजार, मिथ्या ग्राहक बनाने वाली महिला को एक लाख रुपये और ऑपरेशन में शामिल सहायक को 40 हजार रुपए की राशि इनाम के तौर पर दी जाएगी। सभी को यह राशि तीन किश्तों में मिलेगी। पहली किस्त तब मिलेगी जब वह सूचना सही निकलेगी। दूसरी किस्त न्यायालय में हाजिरी के दौरान मिलेगी और तीसरी किस्त की राशि तब मिलेगी, जब न्यायालय से दोषियों को सजा मिलेगी।

मुखबिर की पहचान रखी जाएगी गुप्त

इसके अलावा इस योजना में मुखबिर की पहचान गुप्त रखी जाएगी, इसका पूरा खर्चा राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन उठाएगा, लेकिन खबर गलत होने पर मुखबिर को ब्लैक लिस्ट में डाल दिया जाएगा।

ऐसे करेगी मुखबिर योजना कार्य

योजना के तहत उन अल्ट्रासाउंड सेंटरों और नर्सिंग होम की पहचान की जाएगी, जो गर्भवती महिलाओं का भ्रूण परीक्षण कर उन्हें जन्म लेने से पहले ही लड़कियों की हत्या के लिए उकसाते हैं। इन लोगों को पकड़ने के लिए मुखबिर की मदद ली जाएगी। मुखबिर की सूचना पर पुलिस और स्वास्थ्य विभाग की टीम बताए गए पते पर छापा मारेगी। इसके बाद संबंधित अल्ट्रासाउंड सेंटर और नर्सिंग होम के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

किया जाता है स्टिंग ऑपरेशन

मुखबिर अवैध गर्भपात केंद्र को ढूंढता है। उसके सहायक के साथ गर्भवती महिला स्टिंग ऑपरेशन के लिए उस केंद्र में जाती है। अपराधियों के आसानी से पता लगाने के लिए वे रासायनिक नोटों के साथ भुगतान करेंगे। इस तरह से अपराधियों को पहचान लिया जाएगा और गिरफ्तार किया जाएगा। तब पूरी टीम को इनाम दिया जाएगा।

ये भी पढ़ें:- यूपी : ट्रांसफार्मर फुंका हो या टूटा हो तार , इन नंबर पर बिजली विभाग से करें शिकायत

यूपी में कम हो रही बेटियां

जिला प्रति हजार बेटियां

  • जालौन 653
  • बागपत 763
  • अंबेडकरनगर 772
  • फतेहपुर 799
  • बिजनौर 800
  • हरदोई 803
  • रायबरेली 809
  • इटावा 813
  • झांसी 815
  • सुलतानपुर 825
  • औरैया 832
  • जौनपुर 833
  • चंदौली 839
  • एटा 839
  • गौतमबुद्ध नगर 845
  • फीरोजाबाद 850
  • बस्ती 877
  • बलरामपुर 879
  • अलीगढ़ 880
  • बुलंदशहर 886

ये ख़बरें भी हैं आप के काम की

आईआरसीटीसी टिकट बुकिंग एजेंट बनकर कर सकते हैं अच्‍छी कमाई, ऐसे करें आवेदन

भारतीय रेल में होने जा रहा है बड़ा फेर बदल, एक नवंबर है खास तारीख

सरकार दे रही है सोलर लैम्प फैक्ट्री लगाने का मौका, ऐसे करें अप्लाई

एक अक्टूबर से बाजार, बैंक, टोलप्लाजा और टेलिकॉम सर्विस के बदल जाएंगे नियम, आपको जानना जरूरी

ऐसे निकालें इंटरनेट से खसरा खतौनी

नोट- खेती में काम आने वाली मशीनों और जुगाड़ के बारे में जानकारी के लिए यहां क्लिक करें

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top