अगर आप राइस मिल शुरू करना चाहते हैं और नहीं है आपके पास पैसे, सरकार देगी 90 फीसदी तक लोन

अगर आप राइस मिल शुरू करना चाहते हैं और नहीं है आपके पास पैसे, सरकार देगी 90 फीसदी तक लोनप्रतीकात्मक तस्वीर।

लखनऊ। धान की फसल कटने का समय आ गया है। ऐसे में अगर आप राइस मिल लगाने के बारे में सोच रहे हैं और आपके पास राइस मिल लगाने के लिए पैसे नहीं है तो अब आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है। राइस मिल लगाने में सरकार आपको 90 फीसदी लोन देकर मदद करेगी।

राइस मिल लगाने में अनुमानित लागत 3.50 लाख रुपए आती है। अगर आप 35 हजार का इंतजाम कर लेते हैं तो बाकी के पैसे सरकार देगी। खादी विलेज इंडस्‍ट्रीज कमीशन 90 फीसदी आर्थिक सहयोग करके बैंक के माध्यम से लोन देता है। बड़े शहरों में राइस मिल की डिमांड कम हो गई हैं और ब्रांडेंड की डिमांड बढ़ रही है, लेकिन मध्‍यम और छोटे दर्जे के शहरों में मिनी राइस मिल शुरू कर सकते हैं। आपको बताते हैं कैसे आप राइस मिल शुरू कर सकते हैं। साथ ही, यह भी जानेंगे कि आपको कितना लोन मिलेगा और कितनी इनकम होगी।

यह भी पढ़ें- एक बीघा धान की खेती में लागत से लेकर मुनाफे तक का पूरा गणित, समझिए यहां...

कितने में शुरू होगी राइस मिल

खादी एवं विलेज इंडस्‍ट्रीज कमीशन की ओर से कई प्रोजेक्‍ट्स का प्रोफाइल तैयार किया है। इन प्रोफाइल के आधार पर आप अपने प्रोजेक्‍ट की रिपोर्ट तैयार कर लोन के लिए अप्‍लाई कर सकते हैं। इस रिपोर्ट के मुताबिक अगर आप राइस मिल जिसे पैडी प्रोसेसिंग यूनिट भी कहा जाता है, शुरू करना चाहते हैं तो आपको लगभग 1000 वर्ग फुट के शेड किराया पर लेना होगा। इसके बाद आपको पैडी क्‍लीनर विद डस्‍ट बाउलर, पैडा सेपरेटर, पैडी दियूस्‍कर, राइस पॉलिशर, ब्रान प्रोसेसिंग सिस्‍टम, एसप्रिरटर खरीदना होगा। अनुमान है कि इन सब पर लगभग 3 लाख रुपए खर्च होगा। इसके अलावा वर्किंग कैपिटल के तौर पर लगभग 50 हजार रुपए खर्च होंगे। इस तरह आप 3 लाख 50 हजार रुपए में राइस मिल शुरू कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें- कैंसर, पीलिया, मधुमेह और हृदय संबंधी बीमारियों की रोकथाम में कारगर धान की ‘कालाभात’ किस्म

कैसे मिलेगा 90 फीसदी सपोर्ट

अगर आप सरकार से फाइनेंशियल सपोर्ट लेना चाहते हैं तो आप प्रधानमंत्री इम्‍पलॉयमेंट जनरेशन प्रोग्राम के तहत लोन के लिए अप्‍लाई कर सकते हैं। इस स्‍कीम के द्वारा 90 फीसदी तक लोन दिया जाता है। लोन के लिए ऑनलाइन अप्‍लाई किया जा सकता है। इस लिंक पर क्लिक करें - https://www.kviconline.gov.in/pmegpeportal/jsp/pmegponline.jsp

खेती और रोजमर्रा की जिंदगी में काम आने वाली मशीनों और जुगाड़ के बारे में ज्यादा जानकारी के लिए यहां क्लिक करें

Share it
Top