गांव के वैक्सीन कैंप से लाइव रिपोर्ट, आशा बहु और एएनएम के बुलाने पर भी क्यों नहीं आ रहे लोग?

गांवों में चल रहे टीकाकरण अभियान में लोगों को लाने की जिम्मेदारी आशा और एएनएम की है, लेकिन उनकी तमाम कोशिशों के बाद भी वैक्सीन कैंप लोग क्यों नहीं आ रहे हैं, आखिर उनकी झिझक क्यों है?

Sumit YadavSumit Yadav   25 May 2021 1:14 PM GMT

गांव के वैक्सीन कैंप से लाइव रिपोर्ट,  आशा बहु और एएनएम के बुलाने पर भी क्यों नहीं आ रहे लोग?

बिछिया प्रखंड के जगेठा की कुल आबादी करीब 1200 है, लेकिन सुबह 11 बजे तक एक भी ग्रामीण टीकाकरण के लिए नहीं आया था। सभी फोटो: सुमित यादव

जगेथा (उन्नाव, उत्तर प्रदेश)। रेखा देवी ने आज (25 मई) सुबह उत्तर प्रदेश के उन्नाव में अपने गांव जगेथा में घर-घर जाकर लोगों से मिलना शुरू किया, लेकिन जैसे ही ग्रामीणों ने उन्हें देखा वे घर के अंदर भाग गए और दरवाजा बंद कर लिया। इतना ही नहीं कुछ ने उन्हें अपशब्द भी कहे। फिर भी वह लोगों को समझाने की उम्मीद में आगे बढ़ती है।

रेखा एक आशा (मान्यता प्राप्त सामाजिक स्वास्थ्य कार्यकर्ता) वर्कर हैं, जो एक फ्रंटलाइन कार्यकर्ता हैं। सरकार ने आज सुबह 9 बजे से शाम 4 बजे तक प्राथमिक विद्यालय जगेथा में एक टीकाकरण शिविर का आयोजन किया है। रेखा का काम लोगों को समझाकर इस शिविर तक लाना है, जो काफी मुश्किल है।

बिछिया प्रखंड के जगेठा की कुल आबादी करीब 1200 है, लेकिन सुबह 11 बजे तक एक भी ग्रामीण टीकाकरण के लिए नहीं आया था। शिविर में एक एएनएम (सहायक नर्स दाई) और दो आशा कार्यकर्ता हैं। मार्च के बाद से गांव में इस तरह का यह चौथा टीकाकरण शिविर है।


रेखा ने गांव कनेक्शन को बताया, "लोग हमारी सलाह को गंभीरता से नहीं लेते हैं। जब हम टीकाकरण के बारे में बात करना शुरू करते हैं तो वे जाने के लिए कहते हैं। कुछ गालियां भी देते हैं। दिन में पांच से छह बार घरों का चक्कर लगाने के बाद भी बहुत कम लोगों को मना पाती हूं। "

संबंधित खबर- वैक्सीनेशन कथा: 23 दिन बाद दूसरे जिले में स्लॉट मिला, कई घंटे लाइन में लगा, फिर कहा गया अगली बार आना

ग्रामीण भारत में टीकाकरण शिविर

महामारी की दूसरी लहर में वायरस ग्रामीण भारत में फैल गया है और गांवों में कोविड के कई मामले सामने आ रहे हैं। ग्रामीण आबादी का टीकाकरण करने के लिए सरकार गांवों में निशुल्क टीकाकरण शिविर लगा रही है, लेकिन लोग नहीं आ रहे हैं।

इस साल 25 मार्च को गांव में चले पहले टीकाकरण अभियान के बाद जगेथा गांव में टीकाकरण के लिए लोगों की संख्या में कमी आई है। जगेठा टीकाकरण शिविर की प्रभारी एएनएम कमला श्रीवास्तव ने गांव कनेक्शन को बताया, "25 मार्च को जब यहां पहला टीकाकरण शिविर आयोजित किया गया था तो कुल 109 लोग आए थे। 2 अप्रैल को दूसरे शिविर में 52 लोगों को वैक्सीन की पहली खुराक दी गई। "

उन्होंने आगे कहा, "हालांकि 13 मई को तीसरे टीकाकरण शिविर के दौरान संख्या में भारी गिरावट आई थी। केवल 29 ग्रामीणों को टीका लगाया गया, जिसमें दूसरा शॉट लेने वाले भी शामिल थे।"एएनएम ने कहा, "आज (25 मई) हमने सुबह 9 बजे शिविर खोला। लगभग दो घंटे हो गए हैं और अभी तक कोई भी टीका लगवाने नहीं आया है।"

टीके को लेकर है हिचकिचाहट और संदेह

जब गांव कनेक्शन ने जगेथा गांव में स्थानीय लोगों से बात की तो उन्होंने कहा कि मार्च में पहली बार के बाद उन्हें बुखार का अनुभव हुआ, जिससे उनके मन में टीके के बारे में संदेह पैदा हो गया। जगेठा निवासी 60 वर्षीय ने गांव कनेक्शन को बताया, "मुझे टीका नहीं लगवाना। इसके पहले मैं टीका लगवाने के बाद बीमार हो गया था। तेज बुखार था और कमजोरी के कारण काम नहीं कर सका। मुझे नहीं लगता कि यह अच्छा है।"


गांव कनेक्शन फिर उसी गांव के 53 वर्षीय गंगा प्रसाद के घर गया, उन्होंने कहा कि अगर किसी की मौत हो जाती है तो वास्तव में उन्हें कोई नहीं बचा सकता है। "मैं टीकाकरण नहीं करवा रहा हूं क्योंकि मुझे कोई स्वास्थ्य समस्या नहीं है। मैं फिट हूं, मुझे नहीं लगता कि टीकाकरण की जरूरत है, " उन्होंने आगे कहा।

ऐसे में आशा के लिए ग्रामीणों को टीकाकरण के लिए राजी करना मुश्किल हो रहा है। जगेथा में टीकाकरण शिविर की एक अन्य आशा कार्यकर्ता फूलमती ने कहा कि टीकाकरण अभियान को लेकर लोगों को शक है। फूलमती ने गुस्से में गाँव कनेक्शन से कहा, "ग्रामीण मुझसे कहते हैं कि मैं लोगों को टीका लगवाकर मार रही हूं। जब मैं उन्हें बताती हूं कि मुझे खुद खुराक मिल गई है तो वे कहते हैं कि दो अलग-अलग टीके हैं। एक आशा और अन्य अधिकारियों के लिए है और दूसरा, जो लोगों को मार रहा है। "

दोपहर 2 बजे तक अतरसा गांव में कोई नहीं आया

जगेठा गांव से करीब 15 किलोमीटर दूर उन्नाव के अतरसा गांव में सन्नाटा छाया है। इस गांव में भी टीकाकरण शिविर लगाया जा रहा है। टीकाकरण शिविर में मौजूद बीएचडब्ल्यू (व्यवहार स्वास्थ्य कार्यकर्ता) अमिता देवी ने गांव कनेक्शन को बताया कि वह पांच घंटे से केंद्र में इंतजार कर रही हैं और दोपहर 2 बजे तक कोई भी टीका लगवाने नहीं आया था। "यहां के लोग मानते हैं कि वैक्सीन बीमारी (कोरोना) का वास्तविक कारण है। वे मरने के लिए तैयार हैं, लेकिन टीकाकरण के लिए तैयार नहीं हैं," अमिता देवी ने कहा। उसी गांव की आशा कार्यकर्ता सरिता देवी ने गांव कनेक्शन को बताया कि गांव के लोगों को समझाने की उनकी कोशिशें बेकार साबित हो रही हैं।


"हम उन्हें किसी तरह समझाने की पूरी कोशिश करते हैं, वे हमें बताते हैं कि पहली खुराक से बुखार हुआ और अब वे टीकाकरण अभ्यास को शक की नजर से देखते हैं। वे हमसे इस बारे में बात भी नहीं करना चाहते। उन्हें किसी भी तरह मनाना मुश्किल है, " उन्होंने गांव कनेक्शन को बताया।

दूसरी खुराक लेने से साफ किया इंकार

अपनी झोपड़ी के बाहर चारपाई पर लेटे अतरसा गांव के सुखदीन को वैक्सीन की पहली डोज मिली है, लेकिन दूसरी खुराक लेने से उन्होंने इंकार कर दिया। "पहली खुराक के बाद मुझे बुखार और कमजोरी का सामना करना पड़ा। मैं दूसरी खुराक नहीं लूंगा। मारे का होई तो मर जाए ऐसे ही," उन्होंने गांव कनेक्शन को बताया।

इस बीच, गांव कनेक्शन 72 वर्षीय भगवानदास से भी मिला जो आम के बाग की देखभाल करते हैं। "मुझे पहला टीका मिल गया है, लेकिन दूसरा नहीं लूंगा," उन्होंने कहा। "पहली खुराक के बाद मैं बुखार के कारण परेशान था। मैं अब दूसरी खुराक क्यों लूं?" उसने पूछा। अटारसा में बीएचडब्ल्यू अमिता देवी के अनुसार अब तक 140 ग्रामीणों ने पहली खुराक ली है और केवल 20 ने दूसरी खुराक ली है। गांव की आबादी 1,200 से ज्यादा है।

खबर अंग्रेजी में पढ़ें

संबंधित खबर- कोविड होने पर स्टेरॉयड ले रहें हैं तो इन बातों का रखें खयाल, डायबिटीज के मरीज रहें अलर्ट

Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.