इफ्को के खाद, बीज, दवाएं उसके आनलाईन पोर्टल से खरीदने पर माल की डिलीवरी खर्च माफ 

इफ्को के खाद, बीज, दवाएं उसके आनलाईन पोर्टल से खरीदने पर माल की डिलीवरी खर्च माफ इफ्को के खाद, बीज, दवाएं उसके आनलाईन पोर्टल से खरीदने पर माल की डिलीवरी खर्च माफ 

नई दिल्ली (भाषा)। प्रमुख सहकारी उवर्क कंपनी इफ्को ने आज घोषणा की कि उसके आनलाईन पोर्टल से खाद, बीज और दवाओं की खरीद करने पर उसे बिना किसी अतिरिक्त खर्च के ग्राहक के घर तक पहुंचाया जाएगा। हाल में इफ्को ने भारतीय सहकारी डिजिटल प्लेटफॉर्म (आईसीडीपी) को पेश किया जिसे डब्ल्यू डब्ल्यू डब्ल्यू डॉट इफ्कोबाजार डॉट इन नाम से जाना जाता है और जो 13 प्रमुख भारतीय भाषाओं में उपलब्ध है। इफ्को की सदस्य संख्या 2.5 करोड़ है।

इस पोर्टल का उद्देश्य किसानों, उपभोक्ताओं तथा इफ्को एवं इसके समूह कंपनियों के बीच संपर्क और व्यापार के लिए डिजिटल प्लेटफॉर्म प्रदान करना है। इफ्को के प्रबंध निदेशक यू एस अवस्थी ने एक बयान में कहा, ''हमें कृषि व्यवसाय का सरलीकरण करने के लिए अपने दमदार ग्रामीण वितरण नेटवर्क के जरिये खेती के संसाधनों को लोगों के घर तक पहुंचाने की मुफ्त सेवा शुरु करने की घोषणा करते हुए खुश हैं। किसान हमारे डिजिटल प्लेटफॉर्म के जरिये एक बटन दबाकर तुरंत ही खाद की खरीद कर पायेंगे।''

ये भी पढ़ें- जैविक खेती का पंजीकरण कराएं तभी मिलेगा उपज का सही दाम

अपनी तरह के पहले पहल के तहत आईसीडीपी अपनी डिलीवरी सेवा को दूर दराज के ग्रामीण इलाकों में भी पहुंचायेंगे जहां मौजूदा परिदृश्य में प्रमुख ई-कॉमर्स कंपनियों ने कभी भी अपनी सेवायें नहीं दी हैं। इफ्को के अनुसार इस आनलाईन प्लेटफार्म के जरिये किसान पानी में घुलनशील खाद, कृषि रसायनों, जैव उर्वरकों, बीज, पौध के विकास में उपयोग तत्व और अन्य कृषि आधारित उत्पादों की खरीद कर सकेंगे।

ये भी पढ़ें- कृषि वैज्ञानिक से जानें बोरान की कमी से किन-किन फसलों पर पड़ता है असर

इफ्को ने कहा कि ये उत्पाद पांच किग्रा तक के पैक में उपलब्ध होंगे और इसे डिलीवरी करने के लिए कोई अतिरिक्त लागत नहीं देनी होगी। इफ्को ने साफ किया, ''यूरिया, डीएपी, एनपीके इत्यादि जैसे पारंपरिक उर्वरक उत्पादों की आनलाईन बिक्री नहीं की जायेगी।'' अपने दरवाजे पर कैसे इन उत्पादों को प्राप्त करें और इसके लिए आनलाईन और डिजिटल भुगतान कैसे करें, इस काम के लिए इफ्को किसानों को प्रशिक्षण दे रही है और उनके बीच जागरकता पैदा कर रही है।

ये भी पढ़ें- यहां शगुन में देते हैं देसी बीजों का लिफाफा

Share it
Top