खेती के लिए उपग्रहों का इस्तेमाल करते हैं ब्रिटेन के किसान

खेती के लिए उपग्रहों का इस्तेमाल करते हैं ब्रिटेन के किसानफोटो साभार - photo credit - Proagrica

खेती के लिए स्पेस टेक्नोलॉजी के इस्तेमाल की बात थोड़ा अटपटी ज़रूर लगती है लेकिन ब्रिटेन के किसान पैदावार बढ़ाने और खेती से मोटा मुनाफ़ा कमाने के लिए अतंरिक्ष विज्ञान की मदद ले रहे हैं।

कृषि से जुड़ी नई तकनीकें आने से पहले खेतों में काम करने के लिए सैकड़ों लोगों के साथ-साथ दर्जनों जानवरों की भी ज़रूरत पड़ती थी। लेकिन फिर जानवरों की जगह मशीनों ने ले ली, लेकिन उन मशीनों को चलाने के लिए अभी भी लोगों की ज़रूरत पड़ती थी। लेकिन जब से ब्रिटेन के किसानों ने खेती के लिए उपग्रहों और अतंरिक्ष विज्ञान की मदद लेनी शुरू की है उन्हें खेतों में जाने की ज़रूरत नहीं पड़ती है। सारा काम सेंसर्स और सैटेलाइट इमेजिंग यानि उपग्रहों से मिलने वाली लाइव तस्वीरों के जरिए होता है।

पशुपालन भी हाईटेक

ये भी पढ़ें- स्टीविया किसानों के जीवन में घोल सकती है मिठास, 1 एक बार लगाइये, 5 साल मुनाफा कमाइये

सेंसर्स और तकनीक की मदद से ना तो अब किसानों को खेतों में जाने की ज़रूरत पड़ती है और ना ही मशीनों के चलाने के लिए लोगों को खेतों में जाना पड़ता है। सारा काम बस एक बटन के दबाने भर से हो जाता है। किसानों के लिए छपने वाली ब्रिटेन की मशहूर मैगजीन फॉर्मर्स में छपी एक रिपोर्ट की मानें तो ब्रिटेन के करीब 60 फीसदी किसान खेती के लिए सेंसर और सैटेलाइट टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल कर रहे हैं। नई तकनीक के इस्तेमाल से किसानों को मेहनत भी कम करनी पड़ती है और पैदावार भी अच्छी होती है।

जानकारों की मानें तो जब से ब्रिटेन के किसानों ने खेती के लिए स्पेस टेक्नोलॉजी के साथ-साथ दूसरी तकनीकों का इस्तेमाल करना शुरू किया है ब्रिटेन की अर्थव्यवस्था में तेज़ी देखने को मिली है और कृषि सेक्टर भी तेज़ी से आगे बढ़ रहा है। ब्रिटेन में कई ऐसी कंपनियां हैं जो किसानों को सैटेलाइट के ज़रिए खेती पर नज़र बनाए रखने की सुविधा दे रही हैं।

ये भी पढ़ें- हाईटेक कृषि मशीनों का खेती में दायरा बढ़ा , कंपनियों के लिए मौका भुनाने का सही समय

ये भी पढ़ें- दुनिया के इन देशों में होती है पानी की खेती, कोहरे से करते हैं सिंचाई

किसान कैसे कर रहे हैं तकनीक का इस्तेमाल

उपग्रह के इस्तेमाल से ब्रिटेन के किसान घर बैठे अपने खेतों और फसलों को देख सकते हैं, और ज़रूरत पड़ने पर सेंसर्स की मदद से दवाई छिड़कने के साथ-साथ कटाई और छंटाई का काम भी कर सकते हैं।

सेंसर्स का इस्तेमाल

फसलों की बुवाई के बाद कई बार फसलों पर दवाइयां या कीटनाशक भी छिड़कने होते हैं। खेतों में लगे सेंसर्स और सैटेलाइट से मिल रही लाइव तस्वीरों की मदद से किसान बिना खेत में गए दवाइयों या कीटनाशकों का छिड़काव कर सकते हैं। किसान खेतों में दवाइयों के छिड़काव के लिए पाइप वायरिंग करते हैं उसमें सेंसर्स लगा देते हैं। घर बैठ सेंसर्स आन करके दवाइयों का छिड़काव किया जाता है।

ड्रोन का इस्तेमाल

उपग्रहों के अलावा ब्रिटेन के किसान छोटे ड्रोंस के जरिए भी अपनी खेती की देखभाल करते हैं। जो काम सैटेलाइट कर रहे हैं वहीं काम ड्रोंस की मदद से भी किया जा सकता है।

ये भी पढ़ें- agriculture : अगर खेती करते रोबोट दिख जाएं तो चौंकिएगा नहीं

रोबोटिक ट्रैक्टरों का इस्तेमाल

ब्रिटेन के किसान खेती के लिए रोबोटिक टैक्टर और सेंसर्स लगे हारवेस्टर का भी इस्तेमाल कर रहे हैं। इन रोबोटिक ट्रैक्टरों में कैमरे और सेंसर लगे होते हैं जिसकी मदद से बिना खेत में गए किसान जुताई और बुवाई का काम कर सकते हैं।

ऑटोमैटिक सिंचाई व्यवस्था

सिर्फ़ जुताई या बुवाई ही नहीं अंतरिक्ष विज्ञान की मदद से वॉटर वायरिंग के ज़रिए खेतों की सिंचाई भी की जा सकती है। इसके लिए भी ख़ास तरह के सेंसर्स का इस्तेमाल किया जाता है।

फसलों की कटाई

ब्रिटेन के किसानों के पास खेती से जुड़ी इतनी उन्नत तकनीकें हैं कि फसल तैयार होने के बाद भी उन्हें खेतों में जाने के ज़रूरत नहीं है। सेंसर्स लगे हारवेस्टर बस एक बटन दबाने भर से चुटकी में सारी फसल काट देते हैं।

ये भी पढ़ें- पढ़िए सिंचाई के आज और कल के तरीके ... ढेकुली से लेकर रेनगन तक

ये भी पढ़ें- मल्टीलेयर फ़ार्मिंग : लागत 4 गुना कम, मुनाफ़ा 8 गुना होता है ज़्यादा, देखिए Video

Share it
Top