यूपी : ओले और बारिश वाले इलाकों में घटा गेहूं का उत्पादन 

यूपी : ओले और बारिश वाले इलाकों में घटा गेहूं का उत्पादन डेढ़ महीने पहले दो बार हुई ओले और पानी की बारिश ने गेहूं का उत्पादन घटा दिया है।

उत्तर प्रदेश के अधिकतर जिलों में करीब डेढ़ महीने पहले दो बार हुई ओले और पानी की बारिश ने गेहूं का उत्पादन घटा दिया है। फसल गिरने से किसानों को प्रति बीघा में एक से डेढ़ कु्ंतल गेहूं का नुकसान हो रहा है। कन्नौज जिले के गाँव धर्मपुर निवासी 60 वर्षीय देवेंद्र सिंह बताते हैं, “सात बीघा जमीन में गेहूं नंबर 43 बोया था। तीन से सवा तीन कुंतल गेहूं निकला है। पिछली बार करीब साढ़े चार कुंतल निकला था। यह ओले का असर है। लागत में कोई कमी नहीं रखी है।“

कन्नौज के ही तिर्वा इलाके के गांव अहेर निवासी 35 साल के सुभाष ने बताया, “तीन कुंतल के हिसाब से गेहूं निकल रहा है। मैंने 15 बीघा खेत में गेहूं बोया था। लागत तो खूब लगाई लेकिन गेहूं कम हुआ है। “सदर कन्नौज तहसील क्षेत्र के बेहरिन निवासी जगदीश पाल (55 वर्ष) बताते हैं गेहूं बोया था लेकिन पानी की वजह से गेहूं गिर गया था। पैदावार कम हुई है। ढ़ाई बीघा जमीन में सात-आठ कुंतल निकला है।“

ये भी पढ़ें- दीवारों पर होती है गेहूं, धान, मक्का और सब्जियों की खेती, जानिए कैसे ?

कृषि विभाग के अधिकारियों का तर्क

औरैया के जिला कृषि अधिकारी आवेश कुमार बताते हैं, ‘‘इस बार एक लाख हेक्टेयर रकबा में गेहूं उत्पादन का लक्ष्य था। पिछले साल से बढ़ाया गया है। अप्रैल में ओला और बारिश हुई इसलिए अधिक नुकसान नहीं हुआ है। जहां दाना मजबूत हो गया था, वहां असर नहीं पड़ा है। गेहूं का कलर जरूर बदल गया है। “ उन्होंने आगे बताया कि ‘‘प्रति हेक्टेयर में 40.31 कुंतल गेहूं का उत्पादन होना चाहिए। अभी क्राप कटिंग की रिपोर्ट नहीं है। पूरी रिपोर्ट आने पर ही सही जानकारी हो सकेगी। कर्मचारियों का कहना है कि उत्पादन ठीक हुआ है।“

कन्नौज के जिला कृषि अधिकारी अभिनंदन सिंह बताते हैं, “क्षेत्रफल पिछले साल से एक हजार हेक्टेयर अधिक है। मौसम काफी ठीक रहा। हालांकि अन्य जनपदों में ओले गिरे और बारिश भी हुई। अपना जिला इससे बचा रहा। अच्छा उत्पादन रहा है। अधिकारी ने आगे बताया, ‘‘एक बीघा में अच्छी खेती है तो पांच से छह कुंतल गेहूं निकलना चाहिए। बॉक्स:

ये भी पढ़ें- मंडी में जल गया किसानों का सैकड़ों बोरी गेहूं, देखें वीडियो

किन जिलों में है कितना क्षेत्रफल

कृषि विभाग के वरिष्ठ सहायक कपिल बताते हैं, “कन्नौज में वर्ष 2016-17 में गेहूं का उत्पादन 80,792 हेक्टेयर क्षेत्रफल में हुआ था। वर्ष 2017-18 में 81759 हेक्टेयर में पैदावार हुई है।“ कृषि विभाग के रिकार्ड के मुताबिक, वर्ष “2016-17 में फर्रूखाबाद जिले में गेहूं का उत्पादन 76769 हेक्टेयर, इटावा में 99202 हेक्टेयर, औरैया में 99678, कानपुर नगर में 104388 और कानपुर देहात में 121200 हेक्टेयर क्षेत्रफल में गेहूं का उत्पादन हुआ था। वर्ष 2017-18 में फर्रूखाबाद 77011, इटावा का 99514, औरैया का 99992, कानपुर नगर में 104717 और कानपुर देहात में 121582 हेक्टेयर में गेहूं की पैदावार हुई।’’

आंकड़ों में ये है उत्पादन

रिकार्ड में फर्रूखाबाद में प्रति हेक्टेयर उत्पादकता 39.34 कुंतल, कन्नौज में 41.33 कुंतल, इटावा में 41.54 कुंतल, औरैया में 40.31 कुंतल, कानपुर नगर में 40.79 कुंतल और कानपुर देहात में 46.03 कुंतल दर्ज है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Tags:    Wheat Crop 
Share it
Top