चने के दाम में भारी गिरावट, पिछले साल के मुकाबले आधे दाम पर बिक रहा चना

Sanjay SrivastavaSanjay Srivastava   3 Feb 2018 6:42 PM GMT

चने के दाम में भारी गिरावट, पिछले साल के मुकाबले आधे दाम पर बिक रहा चनाचने के दाम में भारी गिरावट

नई दिल्ली। देशभर की मंडियों में पिछले साल के मुकाबले चना आधी कीमत पर बिक रह है। चने की नई फसल की आवक शुरू हो गई है। कारोबारियों का कहना है कि इस साल चने की बुवाई जोरदार रहने से उत्पादन में नया रिकॉर्ड देखने को मिल सकता है।

सरकार की ओर से तय न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) किसानों के लिए कितना लाभकारी साबित हो सकता है, यह आनेवाला समय बताएगा। बहरहाल नई फसल एमएसपी से करीब 1,000 रुपए प्रति कुंतल कम दर पर बिक रही है।

ये भी पढ़ें- बटाईदार किसान मतलब, केवल नुकसान का हिस्सेदार

मौजूदा फसल वर्ष 2017-18 (जुलाई-जून) में प्रमुख रबी दलहन फसल चना का रिकॉर्ड उत्पादन होने की संभावना है। पिछले साल गेहूं व तिलहनों के अच्छे दाम नहीं मिलने से मध्यप्रदेश में किसानों ने चने में कुछ ज्यादा दिलचस्पी दिखाई है।

केंद्रीय कृषि मंत्रालय की वेबसाइट पर प्रकाशित आंकड़ों के मुताबिक, देश में चने का औसत रकबा 86.81 लाख हेक्टेयर रहता है, जबकि इस साल देशभर में चने का रकबा बढ़कर 107.29 हेक्टेयर हो गया है, जोकि पिछले साल के 99.04 लाख हेक्टेयर से 8.28 फीसदी ज्यादा है।

ये भी पढ़ें- ढेर सारी सरकारी योजनाओं के मायाजाल मेें उलझा किसान, नहीं अपनाना चाहता ई-नाम

दिल्ली के कारोबारी पवन गुप्ता बताते हैं कि इस साल किसानों व उत्पादक मंडियों से जैसी रिपोर्ट मिल रही है उससे चने का उत्पादन सौ लाख टन भी हो जाए तो इसमें कोई हैरानी की बात नहीं है।

पिछले साल देशभर में चने का उत्पादन अनुमान 93.3 लाख टन था (चौथे अग्रिम अनुमान के मुताबिक) जबकि इस साल के लिए सरकार ने 97.5 लाख टन का लक्ष्य रखा है। अब तक का रिकॉर्ड चना उत्पादन का आंकड़ा 2013-14 का है जब देश में रबी सीजन में मौसम अनुकूल होने के कारण 95.3 लाख टन चने का उत्पादन हुआ था।

ये भी पढ़ें- वर्ष 2022 तक किसानों की आमदनी दोगुनी करना, हकीकत या परीकथा

मध्य प्रदेश में इस साल पिछले साल के 32.52 लाख हेक्टेयर के मुकाबले चने का रकबा 35.9 लाख हेक्टेयर है जबकि कर्नाटक में किसानों ने 13.8 लाख हेक्टेयर में चने की खेती की है, पिछले साल यह आंकड़ा 10.81 लाख हेक्टेयर था। महाराष्ट्र में चने का रकबा इस साल पिछले साल के 18.68 लाख हेक्टेयर से बढ़कर 19.77 लाख हेक्टेयर हो गया है।

ये भी पढ़ें- ए2, ए2+एफएल और सी2, इनका नाम सुना है आपने ? किसानों की किस्मत इसी से तय होगी

कारोबारी सूत्रों ने बताया कि कर्नाटक, महाराष्ट्र और मध्यप्रदेश में चने की नई फसल की आवक शुरू हो गई है और कुछ दिनों में राजस्थान व अन्य राज्यों में भी नया चना मंडियों में उतर जाएगा।

कर्नाटक के गुलबर्गा में शनिवार को नया चना 3700-3800 रुपए प्रति कुंतल था वहीं, मुंबई की अकोला मंडी में नए चने में 3400-3750 रुपए प्रति कुंतल पर कारोबार हुआ। मध्यप्रदेश की नीमच मंडी में नया चना 3000-3300 रुपए प्रति कुंतल बिका।

ये भी पढ़ें- राजस्थान में हार से मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सतर्क, तीन नए मंत्रियों को दिलाई शपथ  

नीमच के चना कारोबारी पीयूष गोयल बताते हैं कि पिछले साल से अगर तुलना करें तो चने की कीमत इस साल आधी रह गई है। अब देखना है कि भावांतर से किसानों को कितना फायदा मिल पाता है।

ये भी पढ़ें- भावांतर को पूरे देश में लागू करने की सुगबुगाहट लेकिन, एमपी के किसान ही खुश नहीं...

गौरतलब है कि मध्यप्रदेश में एमएसपी से नीचे बाजार भाव होने की सूरत में सरकार ने किसानों को भाव का अंतर यानी भावांतर की भरपाई करने का वादा किया है। दिल्ली में पुराना चना करीब 4000-4100 रुपए प्रति कुंतल चल रहा है। पिछले साल इसी समय यह 6200-6500 रुपए प्रति कुंतल था।

कृषि व्यापार से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

सरकार ने आस्ट्रेलिया, तंजानिया व अन्य जगहों से चने के आयात में इजाफा होने पर 21 दिसंबर को चने पर 30 फीसदी आयात शुल्क लगा दिया। इस वित्त वर्ष में अप्रैल से अक्टूबर के बीच चने का 5.83 लाख टन आयात हुआ जबकि उससे पिछले साल इसी अवधि में यह आंकड़ा 1.22 लाख टन था।

चने की फसल अच्छी है। राजस्थान में फसल थोड़ी देर से आएगी तब तक भाव काफी टूट जाएगा।
उत्तम जेठवानी कारोबारी राजस्थान

मालूम हो कि फसल वर्ष 2017-18 में उत्पादित रबी फसलों के लिए सरकार ने जो एमएसपी तय की है उसके अनुसार चना का एमएसपी 4400 रुपए प्रति कुंतल है जिसमें 150 रुपए बोनस भी शामिल है।

इनपुट आईएएनएस

फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top