गुजरात में भाजपा का खिला कमल, हिमाचल से कांग्रेस को किया बेदखल

गुजरात में भाजपा का खिला कमल, हिमाचल से कांग्रेस को किया बेदखलनई दिल्ली में पार्टी मुख्यालय में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का हुआ भव्य स्वागत।

अहमदाबाद/शिमला (भाषा)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की कुशल रणनीति ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश की बिसात पर कांग्रेस को एक और मात दे दी। प्रधानमंत्री के गृह राज्य गुजरात में जहां भाजपा लगातार छठी बार सरकार बनाने जा रही है, वहीं हिमाचल प्रदेश की जनता ने अपनी परंपरा के अनुरूप इस बार भी सत्तारुढ़ पार्टी को सत्ता से बेदखल कर दिया। इससे अगले लोकसभा चुनाव से 18 महीने पहले देश की राजनीति पर भाजपा की पकड़ पहले से अधिक मजबूत हो गई है।

97 सीटों पर भाजपा की जीत, दो पर आगे

गुजरात में दिन भर आंकड़े ऊपर-नीचे होते रहे, हालांकि भाजपा ने निर्णायक बढ़त बनाए रखी। शाम होते-होते भाजपा ने 182 सदस्यीय विधानसभा में पूर्ण बहुमत हासिल कर लिया। रात आठ बजे के चुनाव आयोग के आंकड़ों के मुताबिक, गुजरात में लगातार छठी बार सत्ता में काबिज होने जा रही भाजपा 182 सदस्यीय विधानसभा सीटों में से 97 जीत चुकी है और दो सीटों पर आगे चल रही है, जबकि विपक्षी कांग्रेस 76 सीटें जीत चुकी है और एक सीट पर आगे है। राज्य में साल 2012 के विधानसभा चुनाव में भाजपा को 115 और कांग्रेस को 61 सीटें हासिल हुई थीं।

तीन युवा नेताओं ने खड़ी की मुश्किलें

गुजरात में 150 सीटें हासिल करने का लक्ष्य रखने वाली भाजपा को इतनी सीटें नहीं मिली। उसे कांग्रेस और तीन युवा नेताओं- हार्दिक पटेल, अल्पेश ठाकोर और जिग्नेश मेवाणी से कड़ी चुनौती का सामना करना पड़ा। हिमाचल और गुजरात में जीत के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नई दिल्ली में भाजपा मुख्यालय में कहा, यह मेरे के लिए दोहरी खुशी है।

विकास यात्रा को आगे बढ़ाएंगे

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, “मैं खुश हूं कि गुजरात में मेरे बाद मुख्यममंत्री बने लोगों ने विकास कार्य को जारी रखा। मैं एक फिर से पार्टी के परिश्रमी कार्यकर्ताओं को बहुत बधाई देता हूं।“ इससे पहले प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट किया, मैं लोगों (गुजरात एवं हिमाचल प्रदेश के लोगों) को विश्वास दिलाता हूं कि हम इन राज्यों की विकास यात्रा को आगे बढ़ाने और लोगों की अथक सेवा करने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ेंगे।“

कांग्रेस जनादेश को स्वीकार करती है: राहुल गांधी

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने वस्तुत: हार स्वीकार करते हुए कहा, “कांग्रेस जनादेश को स्वीकार करती है और दोनों राज्यों में बनने जा रही नई सरकारों को बधाई देती है।“ कांग्रेस की ओर से कड़ी चुनौती मिलने के बारे में पूछे जाने पर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा, जो जीता वही सिकंदर। भाजपा ने जीत को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विकास कार्यों का नतीजा बताया, जबकि कांग्रेस को इस बात से थोड़ी राहत मिली होगी कि गुजरात में उसकी सीटों की संख्या में इजाफा हुआ है।

प्रधानमंत्री की लोकप्रियता बरकरार है

गुजरात में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जमकर चुनाव प्रचार किया तो दूसरी तरफ कांग्रेस की ओर से अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी पूरी ताकत झोंक दी। केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने कहा, “यह विकास और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए विकास को वोट है।“ भाजपा उपाध्यक्ष श्याम जाजू ने कहा, “हमने लगातार विधानसभा चुनाव जीतकर भाजपा के इतिहास में एक रिकॉर्ड बनाया है...सत्ता विरोधी लहर वहां काम नहीं कर रही है। प्रधानमंत्री की लोकप्रियता बरकरार है। अमित शाह की रणनीति ने काम किया।“

ऐसी रहे जीत के आंकड़े

लखनऊ के भाजपा कार्यालय में पटाखे फोड़कर जीत का जश्न मनाते पार्टी कार्यकर्ता।

जीत को लेकर स्थिति स्पष्ट होने के साथ भाजपा कार्यकर्ताओं ने मिठाइयां बांटकर और पटाखे जलाकर जश्न मनाया। हिमाचल प्रदेश में भाजपा बड़ी जीत के करीब पहुंच गई है, लेकिन उसके मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार प्रेम कुमार धूमल सुजानपुर से चुनाव हार गए। रात आठ बजे के आंकड़े के अनुसार, राज्य में भाजपा 41 सीटें जीत चुकी है और तीन पर आगे है। कांग्रेस 19 सीटें जीत चुकी है और दो पर आगे है। राज्य में कुल 68 सीटें हैं। पिछले चुनाव में कांग्रेस को 36 और भाजपा को 26 सीटें मिली थीं।

यह राहुल गांधी की राजनीतिक जीत

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कमल नाथ ने कहा, “कांग्रेस की सीटों की संख्या बढ़ी है, जबकि भाजपा की सीटें कम हुई हैं। यह राहुल गांधी की राजनीतिक जीत है। गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी शुरआत में राजकोट-पश्चिम सीट पर पीछे चल रहे थे, लेकिन बाद में उन्होंने कांग्रेस उम्मीदवार इंद्रनील राजगुरु को पराजित किया।“

पिछले बार के आंकड़ों में अंतर 

मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता वीरभद्र सिंह आरकी और उनके पुत्र विक्रमादित्य सिंह शिमला (ग्रामीण) से आगे चल रहे हैं। गुजरात में भाजपा को 49.1 फीसदी और कांग्रेस को 41.5 फीसदी वोट मिले। 2012 में भाजपा को 47.85 फीसदी और कांग्रेस को 38.93 फीसदी वोट मिले थे। गुजरात में नौ और 14 दिसंबर तथा हिमाचल प्रदेश में नौ नवंबर को मतदान हुआ था।

यह भी पढ़ें: अपने गाँव में नहीं चला पीएम मोदी का जादू, हार गई भाजपा

गुजरात चुनाव: गाँवों में कांग्रेस तो शहरों में भाजपा

अब 19 राज्यों में बीजेपी का परचम

सीपीएम की राह पर गुजरात बीजेपी, बनने जा रहा है नया रिकॉर्ड

गुजरात चुनाव : दो सीटों के साथ भीलिस्तान ने दी दस्तक

Share it
Top