कांग्रेस ने उठाया गोरखपुर के सरकारी अस्पताल में बच्चों की मौत का मामला : योगी के इस्तीफे की मांग की

कांग्रेस ने उठाया गोरखपुर के सरकारी अस्पताल में बच्चों की मौत का मामला : योगी के इस्तीफे की मांग कीराज बब्बर/योगी आदित्यनाथ

नई दिल्ली (भाषा)। कांग्रेस ने गोरखपुर के सरकारी बाबा राघवदास मेडिकल कालेज एवं अस्पताल में अक्तूबर माह के दौरान कथित रुप से समुचित उपचार नहीं होने के कारण 175 बच्चों की मौत होने का दावा करते हुए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर इस मामले की अनदेखी करने का आरोप लगाया और उनसे इस्तीफा देने की आज मांग की।

यूपी कांग्रेस के प्रमुख राज बब्बर ने आज संवाददाताओं से बातचीत में दावा किया, एक ओर जहां इस अस्पताल में बच्चे दम तोड़ रहे हैं और उनके अभिभावक इधर-उधर भटक रहे हैं वहीं मुख्यमंत्री आदित्यनाथ गुजरात गौरव यात्रा निकालकर भाजपा का चुनावी बिगुल फूंक रहे हैं। उन्होंने कहा कि बड़े शर्म की बात है कि मुख्यमंत्री अपने कर्तव्य का निवर्हन न कर सिर्फ चुनावी प्रचार-प्रसार में लगे हुए हैं।

यह भी पढ़ें: मेरी सरकार योजनाओं को तय समय में पूरा करती है: मोदी

उन्होंने दावा किया कि पिछले तीन माह में बीआरडी अस्पताल में करीब 1000 बच्चों की जान जा चुकी है जबकि पिछले 24 घंटे में 16 बच्चों की मौत हुई है। उन्होंने कहा, ''मुख्यमंत्री आदित्यनाथ के गृहनगर गोरखपुर का हाल बेहाल है।'' राज बब्बर ने यह भी दावा किया कि उप्र के मुख्यमंत्री बीआरडी अस्पताल में बच्चों की मौत के मामले में मामूली प्रशासनिक कार्वाई कर पूरे प्रकरण की लीपापोती करने की कोशिश कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें: बिहार को 3769 करोड़ रुपए की योजनाओं की सौगात

उन्होंने कहा कि गुजरात में आदित्यनाथ के चुनाव प्रचार से आम आदमी बिल्कुल दूर हैं तथा उनके पास केवल टिकट लेने वालों की भीड़ ही जमा हो रही है। उन्होंने दावा किया कि वह जितना कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को कोसेंगे, उतने ही जोरशोर से कांग्रेस गुजरात में जीतेगी। कांग्रेस नेता ने मुख्यमंत्री पर जनादेश का निरंतर अपमान करने का आरोप लगाते हुए कहा कि इस पद पर आने के बाद उन्होंने राज्य में विकास का कोई कार्य नहीं किया। उन्होंने आदित्यनाथ के इस्तीफे की मांग करते हुए गोरखपुर में बच्चों की मौत के मामलों की न्यायिक जांच कराने और दोषियों के खिलाफ कार्वाई की मांग की।

यह भी पढ़ें: जिन राज्यों में जनधन खाते ज्यादा खुले, वहां के ग्रामीण क्षेत्रों में कम हुई महंगाई

Share it
Top