इस देसी गाय की लगी 2 लाख रुपये की बोली, लेकिन मालिक ने किया बेचने से इनकार

- चेतन बेले

वर्धा (महाराष्ट्र)। महाराष्ट्र के वर्धा जिले में एक देसी गाय की कीमत 2 लाख रुपये लगी, लेकिन गाय के मालिक ने इतने बड़े रकम के बावजूद उसे बेचने से इनकार कर दिया। यह घटना महाराष्ट्र के वर्धा जिले के खरांगणा गांव की है, जहां पर देसी गायों की प्रदर्शनी और प्रतियोगिता अयोजित की गई थी।

इस प्रतियोगिता में ढाई सौ से अधिक देसी गोवंशो ने भाग लिया। इस प्रतियोगिता में खरांगणा के किसान भोजराज अरबट की गाय को प्रथम स्थान मिला। इस गाय को प्रदर्शनी और दुग्ध स्पर्धा में प्रथम स्थान मिला। पांच वर्ष की इस गाय को कुल 2 लाख 29 हजार रूपए का पुरस्कार मिला।

प्रदर्शनी में इस गाय को एक व्यापारी ने २ लाख रूपए देने की मांग की लेकिन गाय के मालिक ने गाय बेचने से साफ इनकार कर दिया। यह देसी गाय, विदेशी गाय की तरह 10 लीटर दुध दे सकती है। इस गाय की रोग प्रतिकारक शक्ति भी काफी बेहतर है, इस वजह से इसके ईलाज पर भी ना के बराबर खर्च आता है।

पशु संवर्धन को बढ़ावा देने के लिए प्रदर्शनी व प्रचार कार्यक्रम के अंतर्गत जिले के खरांगणा स्थित हुतात्मा स्मारक परिसर में जिला परिषद पशु संवर्धन विभाग और आर्वी पंचायत समिति के संयुक्त तत्वावधान से इस प्रदर्शनी का आयोजन किया गया था।

दूध देने वाली यह गाय केवल कारंजा और आर्वी पट्टों में पाई जाती है। पहले इसे भरपूर दूध देने वाली गाय के रूप में इसे जाना जाता था। उसकी शारीरिक क्षमता के कारण समय बितने पर इस का उपयोग खेती के कामों के लिए किया जाने लगा और उस के औषधियुक्त दुध की अनदेखी होने लगी। इस वर्ष हुए दुग्ध स्पर्धा में काफी समय बाद कोई 10 लीटर दूध देने वाली देसी गाय पाई गयी है।




Next Story

More Stories


© 2019 All rights reserved.