गोरखपुर कैम्पियरगंज की सीएचसी क्यों है पूरे उत्तर प्रदेश में नंबर वन, जानिए

कायाकल्प अवार्ड के तहत पुरस्कृत सीएचसी को पुरस्कार स्वरूप पैसे दिए जाते हैं जिनका 75 फीसदी हिस्सा अस्पताल में स्वास्थ्य सुविधाओं को बढ़ाने में इस्तेमाल होता है जबकि 25 फीसदी हिस्सा स्टाफ वेलफेयर पर खर्च किया जाता है

Chandrakant MishraChandrakant Mishra   13 May 2019 11:19 AM GMT

गोरखपुर कैम्पियरगंज की सीएचसी क्यों है पूरे उत्तर प्रदेश में नंबर वन, जानिए

लखनऊ। गोरखपुर जिले के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (सीएचसी) कैम्पियरगंज को पूरे उत्तर प्रदेश में कायाकल्प अवार्ड में पहला स्थान मिला है। कुल 91.5 फीसदी अंकों के साथ सीएचसी ने यूपी के करीब 650 से ज्यादा सीएचसी के बीच यह मुकाम हासिल किया है।

कायाकल्प अवार्ड के तहत पुरस्कृत सीएचसी को पुरस्कार स्वरूप पैसे दिए जाते हैं जिनका 75 फीसदी हिस्सा अस्पताल में स्वास्थ्य सुविधाओं को बढ़ाने में इस्तेमाल होता है जबकि 25 फीसदी हिस्सा स्टाफ वेलफेयर पर खर्च किया जाता है। पिछले साल तक प्रथम स्थान पाने वाले सीएचसी को पंद्रह लाख रूपये जबकि पीएचसी को 2 लाख देने का प्रावधान था। हांलाकि इस बार अभी तक धनराशि को लेकर घोषणा नहीं हुई है।

ये भी पढ़ें: अब एएनएम के टैबलेट पर होगी यूपी के गाँवों की कुंडली


अपर मुख्य चिकित्साधिकारी व जिला नोडल अधिकारी कायाकल्प अवार्ड डा. नंद कुमार ने बताया," कुल 46 सीएचसी कायाकल्प अवार्ड में पास हुई हैं जिनमें कैम्पियरगंज सीएचसी को पूरे यूपी में पहला स्थान और पिपराइच सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र को 45 वां स्थान मिला है।"

ये भी पढ़ें:मधुमेह के खतरों से बचने के लिए भोजन की गुणवत्ता भी जरूरी

इन विषय पर हुआ है मूल्यांकन
- अस्पताल का रखरखाव
-स्वच्छता व साफ-सफाई
-बायोमेडिकल प्रबंधन
- संक्रमण नियंत्रण अभ्यास
-स्वच्छता प्रोत्साहन
-समर्थन सेवाएं


सरकारी अस्पतालों में स्वच्छता सुदृढीकरण के लिए भारत सरकार ने कायाकल्प अवार्ड योजना शुभारंभ की है। इसके तहत प्रदेश में 715 सरकारी अस्पतालों को चिन्हित किया गया था। इनमें जिला अस्पताल, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों व प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों को शामिल किया गया था।

ये भी पढ़ें:मानसिक तनाव के कारण होती हैं सत्तर फीसदी शारीरिक बीमारियां


जिले के क्वालिटी इश्योरेंस कंसल्टेंट डा. मुस्तफा ने बताया," पीएचसी कैटेगरी में गोरखपुर की डेरवां पीएचसी को न केवल जिला स्तर पर पहला स्थान मिला है, बल्कि प्रदेश स्तर पर सर्वाधिक 84.7 फीसदी अंकों के साथ पहला स्थान मिला है। इन सीएचसी व पीएचसी का निरीक्षण कायाकल्प अवार्ड के लिए लखनऊ से आई टीम ने फरवरी व मार्च महीने में किया था।

ये भी पढ़ें: भारतीयों के भोजन में कम हो रही है जिंक की मात्रा, इसकी कमी से छोटे बच्चों में हो रहीं ये बीमारियां


मुख्य चिकित्साधिकारी गोरखपुर, डॉक्टर श्रीकांत तिवारी ने बताया, " कायाकल्प अवार्ड में गोरखपुर जनपद को सबसे अधिक 10 अवार्ड प्राप्त हुए हैं। सीएचसी कैटेगरी में कैम्पियरगंज को प्रदेश में पहला स्थान, पिपराईच को 45 वां स्थान, वहीं पीएचसी कैटेगरी में डेरवां, जंगल कौड़िया, खोराबार व कौड़ीराम जबकि नगरीय स्वास्थ्य केंद्र कैटेगरी में बसंपुर यूपीएचसी, दीवान बाजार यूपीएचसी और गोरखनाथ यूपीएचसी को एवार्ड प्राप्त हुए हैं।"

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top