मच्छर हमें नहीं, हम उसे मारेंगे

मच्छर हमें नहीं, हम उसे मारेंगेग्रामीणों ने अब इनसे बचाव और छुटकारा पाने का संकल्प किया है।

गंदगी और पानी में पनप कर लोगों में बीमारियां फैला रहे जानलेवा मच्छरों के खिलाफ जागरुकता कार्यक्रमों में हिस्सा लेकर ग्रामीणों ने अब इनसे बचाव और छुटकारा पाने का संकल्प किया है। गांव कनेक्शऩ फाउंडेशन ने 19 जिलों में अपने सहयोगी स‍ंगठनों, विभागों के साथ मिलकर ये मुहिम चलाई। इन कार्यक्रमों में न सिर्फ ग्रामीणों को मलेरिया, डेंगू, इंसेफ्लाइटिस सहित अन्य मच्छर जनित बीमारियों से बचाव के लिए जागरूक किया गया, ग्रामीणों को नि:शुल्क क्लोरीन की दवाएं वितरित की गईं और अधिकारियों व डॉक्टर ने ग्रामीणों को जरूरी जानकारियां दीं।

बच्चों ने जाना मच्छरों से होने वाली बीमारियों और बचाव के तरीके

कासगंज। जनपद के अमांपुर ब्लॉक स्थित बैकुंठी देवी राष्ट्रीय शिशु सदन में गाँव कनेक्शन फाउंडेशन और कासगंज स्वास्थ्य विभाग की ओर से विश्व मच्छर दिवस को लेकर जागरूकता कैम्प लगाया गया, कैम्प में राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के मेडिकल ऑफिसर डॉक्टर संजय सिंह व डॉक्टर कृष्ण कुमार ने स्कूली बच्चों को मच्छरों से होने वाली बीमारियों और उनके बचाव के तरीके बताए, डॉक्टरों की टीम द्वारा स्कूल के बच्चों को जानकारी देते हुए बताया कि "घर में पानी इकट्ठा न होने दें, जमा हुए पानी में मच्छर पैदा होते हैं, मच्छरों के काटने से मलेरिया, टायफाइड व डेंगू जैसी जानलेवा बीमारियां होती हैं।"

स्कूली बच्चों को भी बताये गये मच्छरों से बचने के तरीके।

ये भी पढ़ें- मुहिम : महामारी फैला रहे मच्छरों पर ग्रामीणों का हल्लाबोल

उन्होंने बताया कि "डेंगू का मच्छर दिन में काटता है, हमे शरीर को ढक कर रखना चाहिए, मच्छररोधी क्रीम का प्रयोग करना चाहिए।" कैम्प में स्कूली बच्चों ने मच्छरों से बचने के लिए जागरूक होते हुए दूसरों को जानकारी देने की बात कही। इस दौरान जिला कॉर्डिनेटर मोहम्मद आमिल, अमांपुर ब्लॉक कॉर्डिनेटर वैभव सौलंकी सहित विद्यालय का समस्त स्टाफ मौजूद रहा।

डेंगू, मलेरिया, टायफाइड है जानलेवा इसलिए मच्छरों से बचना जरूरी

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

एटा। विश्व मच्छर दिवस के मौके पर एटा स्वास्थ्य विभाग के सहयोग से गाँव कनेक्शन फाउंडेशन की ओर से जागरूकता कैम्प लगाए गए। एटा में मारहरा ब्लॉक के गाँव सुल्तानपुर में कैम्प लगाया गया, इस मौके पर मच्छरों से निजात दिलाने के लिए गाँव सुल्तानपुर और मोहनसती में एंटी लार्वा दवा का छिड़काव व फॉगिंग भी करायी गयी।

स्कूली बच्चों को भी बताये गये मच्छरों से बचने के तरीके।

हुयी फॉगिंग, बांटी क्लोरिन की गोलियां

कैम्प में ग्रामीण महिलाओं, पुरुषों और बच्चों को मच्छरों से बचाव के तरीके उनसे होने वाली बीमारियों आदि के बारे में जानकारी दी गयी। साथ ही गाँव में मच्छरों से छुटकारे के लिए फॉगिंग व एंटी लार्वा दवा का छिड़काव कराया गया, इस दौरान जागरूकता कैम्प में मुख्य चिकित्साधिकारी डॉक्टर अजय अग्रवाल के दिशा निर्देश पर मिरहची प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र प्रभारी डॉक्टर राहुल के नेत्रत्व में टीम के बेसिक हेल्थ वर्कर यादवेन्द्र सिंह यादव, फार्मासिस्ट जंगबहादुर सिंह ने मौजूद ग्रामीणों को क्लोरोक्वीन दवा का छिड़काव कराया गया, इससे पहले गाँव में ग्राम प्रधान बाबूराम द्वारा गाँव में सफाईकर्मियों द्वारा विशेष साफ़-सफाई करायी गयी।

मलिन बस्ती के लोगों ने सीखे बीमारियों से बचने के तरीके

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

कानपुर। “अभी ज्यादा दिन नहीं हुए हैं, रात में टीवी पर गोरखपुर की खबर देख कर मैं चीख चीख कर रोने लगी मुझे लगा कही ये घटना गोरखपुर में न हो कर कानपुर में होती तो क्या होता? घटना से दो ही दिन पहले ही तो मै अपने बेटे को हैलट से डिस्चार्ज करवा कर लायी थी उसको बुखार आ रहा था और खून की कमी भी हो गयी था।” इतना कहते कहते सबीना फफक कर रो पड़ी।

वर्ल्ड मोस्कीटो डे पर कानपुर के परमपुरवा के तोतापुरवा मलिन बस्ती में गाँव कनेक्शन के कार्यक्रम में डॉक्टर एमएम दीक्षित दूषित पानी पीने से और जमा पानी में होने वाले मच्छरों के काटने से होने वाली बीमारियों और उनके बचाव की जानकारी दी। वह आस पास फैली गंदगी और जमा पानी में मच्छरों और उनके लार्वा को देख कर डॉक्टर ने पूछा की आप में से कितने लोगों के बच्चे अक्सर बीमार रहते है तो जवाब में ज्यादातर महिलाओं के हाथ उठ गए लेकिन जब उन्होंने इसका कारण पूछा तो सबने ना में सर हिला कर कहा की हमको नहीं पता।

रैली निकालकर लोगों को किया गया जागरूक।

डॉक्टर ने उनको बताया कि इसका मुख्य कारण आप के आस पास फैली हुयी गंदगी और घरों के आस पास जमा हुआ पानी है तो सभी को यह अहसास हुआ की वो अपनी और अपने बच्चों की सेहत से कितना बड़ा खिलवाड़ लम्बे समय से करते चले आ रहे हैं।

बस्ती की रहने वाली जानकी देवी (48 वर्ष) ने बताया,“यहाँ की बस्ती के ज्यादातर बच्चे अक्सर बुखार, डायरिया, पेचिस जैसी बीमारयों से बीमार रहते हैं तो हम लोग यही के डॉक्टर से दवा ले आते है। पहले तो सरकारी अस्पताल जा कर दवा ले आते थे पर अभी जो बच्चे गोरखपुर के अस्पताल में मर गए है तो अस्पताल के नाम से ही डर लगने लगा है।”

ये भी पढ़ें- मर्ज से बचना है तो मच्छरों से बचें

मिला लोगों का विशेष सहयोग

आज के इस कार्यक्रम में कानपुर के नगर आयुक्त अविनाश सिंह और साहवेस संस्था के धर्मेन्द्र कुमार सिंह का भी विशेष सहयोग मिला। कानपुर नगर निगम ने पूरी मलिन बस्ती की विशेष रूप से अभियान चला कर सफाई करवाई और साहवेस संस्था की ओर से बच्चों में कर्मी नाशक दवा भी खिलवायी गई और गाँव कनेक्शन परिवार की और से बच्चों में फलों का वितरण करवाया गया साथ ही साथ पूरी मलिन बस्ती में कीट नाशक का छिड़काव भी करवाया गया।

लोगों ने जाने मच्छरों से बचाव के तरीके

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

इलाहाबाद। जिला मुख्यालय से 35 किलोमीटर दूर रामगमन मार्ग भगवतीपुर मोहरमगंज में बायोवेद शोध संस्थान पर मलेरिया दिवस पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में दर्ज़न भर गाँवों के सौ लोग शामिल हुए। ग्रामीणों को मलेरिया दिवस पर मच्छर जनित रोगों के बारे में जानकारी दी। इसके अलावा कार्यक्रम में पहुंचे ग्रामीणों को डायरिया, बुखार, जुकाम, खांसी, आई इंफेक्शन सहित तमाम बीमारियों की दवा निःशुल्क उपलब्ध कराई गयी। इसके साथ ही ओआरएस पाउडर, क्लोरीन की गोली का भी निःशुल्क वितरण किया गया। ग्रामीणों को जागरूक करने के लिए इंचार्ज श्रीवेंगपुर मेडिकल ऑफिसर रवि कुमार, फर्मासिस्ट रामराज सिंह, इंचार्ज कौड़िहार मेडिकल ऑफिसर डॉ. लाल जी प्रजापति , फर्मासिस्ट मधुकर पहुंचे।

कैंप में लोगों को दी गई जरुरी दवाइयां।

तीन ओर बाढ़ से घिरे गाँव में गाँव कनेक्शन ने पहुंचाई मदद

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

सिद्धार्थनगर। बाढ़ की मार झेल रहे अहिरौली गाँव के लिए गाँव कनेक्शन फाउंडेशन द्वारा मनाया गया विश्व मच्छर दिवस वरदान साबित हुआ। सामाजिक संस्था राष्ट्रीय ग्रामीण युवा समाज सेवा संघ और स्वास्थ्य विभाग के सहयोग से आयोजित कार्यक्रम में गाँव को मच्छर जनित बीमारियों से बचाने के लिए हर घर में क्लोरीन की गोली का वितरण और एंटी लार्वा दवा का छिड़काव हुआ।

शिविर में दी गई मच्छरों से बचने की जानकारी।

जनपद सिद्धार्थनगर के बढ़नी ब्लाक का गांव अहिरौली पिछले 10 दिन से बाढ़ के पानी से घिरा है। संक्रामक बीमारियों के खतरे के बीच यहाँ कोई मदद नहीं पहुंची थी। लेकिन जब गांव कनेक्शन फाउंडेशन ने यहाँ विश्व मच्छर दिवस का आयोजन किया तो प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र बढ़नी के डॉक्टर वीके सिंह यहां पहुंचे। डॉक्टर ने मच्छर से बचाव की विस्तार से जानकारी दी। समाजसेवी सुनील चौधरी की सहायता से दवा का वितरण और छिड़काव किया गया। इस मौके पर ग्राम प्रधान अनिल पासवान सहित दर्जनों लोग उपस्थित थे।

हर साल दो लाख लोगों की जिंदगी लील लेता है मच्छर

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

मेरठ। देश में मच्छर जनित रोग महामारी की तरह फैल रहे है। इस वक्त मानव जीवन के लिए जितना खतरनाक कैंसर हुआ करता था, उससे कम मच्छर नहीं है।डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट के अनुसार देश में मच्छर जनित रोगों से मरने वालों की संख्या दो लाख के पार पहुंच गई है, जिनमें से सर्वाधिक 70 फीसदी बच्चों की मौत मच्छर जनित बीमारियों के चलते हुई है। ये बात विषेशज्ञ डॉक्टर वैभव ने गाँव कनेक्शन फाउंडेशन के कार्यक्रम में बच्चों को जागरूक करते हुए कहा। उन्होने बताया कि सिर्फ एवेयर रहकर ही इन बीमारियों से छुटकारा पाया जा सकता है।

ग्रामीणों के घर में कूलर में डलवाई गई दवाई।

मवाना ब्लॉक के गांव मवाना खुर्द स्थित रूद्रा इंटरनेशनल पब्लिक स्कूल में गाँव कनेक्शन के तत्वावधान में जागरूक कार्यक्रम कराया गया, जिसमें जिला मलेरिया विभाग का अहम योगदान रहा। टीम से ही विषेशज्ञ डॉक्टर वैभव ने बच्चों को मलेरिया व डेंगू से कैसे बचा जा सकता है, साथ ही लक्षण व नुकसान के बारे में विस्तार से बताया। इस दौरान मेरठ दक्षिण विधायक सोमेन्द्र तोमर सहित मलेरिया अधिकारी व स्कूल का समस्त स्टाफ मौजूद रहा।

ये भी पढ़ें- मच्छरों से महाभारत : डेंगू, मलेरिया और जेई फैलाने वाले मच्छरों के खिलाफ गांव कनेक्शन फाउंडेशन की मुहिम

पहल की सराहना

इस दौरान स्कूल स्टाफ व मेडिकल ने गांव कनेक्शन की पहल को खूब सराहा। विधायक डा. सोमेन्द्र तोमर ने कहा कि इस तरह के कार्यक्रमों से आमजन को लाभ होता है। अखबार यदि इस तरह के कदम उठाते हैं तो वास्तव में गोरखपुर की घटना जैसी घटना दोबारा नहीं होगी। जिला मलेरिया अधिकारी योगेश सारस्वत ने भी गांव कनेशन फाउंडेशन की तारीफ की।

अपने आस-पास न होने दे जल ठहराव

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

बहराइच। चित्तौरा ब्लॉक में मच्छरों से होने वाली हानि और उससे बचने के बारें में बताया। मौजूद ग्रामीण व आशा बहुओं को डॉक्टर प्रताप कुमार के द्वारा विस्तार से जानकारी दी गई। उन्होंने कहा,“ जल ठहराव अपने आस पास किसी भी तरह न होने दें। मच्छर कई संक्रामक व जानलेवा बीमारियों को फैलाते है। इससे गांव में रहने वाले ग्रामीण इसकी चपेट में आते है और सही समय पर इलाज न उपलब्ध होने के कारण अक्सर अपनी जान तक गंवाना पड़ता है।”

जागरूकता शिविर में जानकारी लेने के लिए उमड़े लोग

डॉक्टर प्रताप ने कहा कि विश्व मच्छर दिवस पर गांव कनेक्शन की यह मुहिम ग्रामीणों को जागरूक करने के लिये काबिले तारीफ है, जिससे कम पढ़े लिखे ग्रामीणों को इन रोगों से अपने प्रिय को बचाने में सहयोग मिलेगा। उन्होंने बताया कि बाढ़ आपदा के चलते हर गाँव में जल ही जल दिखाई पड़ रहा है। इस कार्यक्रम में फार्मासिस्ट सत्य प्रकाश गुप्ता, सूरज सिंह ब्लॉक लेखा प्रबन्धक, जेपी प्रजापति बीसीपीएम, मुस्तकीम अली स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारी आदि लोगों ने मच्छरों पर ग्रामीणों जागरूक किया। इसी क्रम मोहरना में स्थित मनकामेश्वर मन्दिर के पास इस अवसर पर गांव कनेक्शन की टीम के द्वारा निःशुल्क स्वास्थ्य परीक्षण व परामर्श भी स्थानीय ग्रामीणों को दिलाया गया।

लार्वा को खत्म करने के लिए करें दवा का छिड़काव

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

शाहजहांपुर| सिंधौली ब्लाक के गांव कटिया बुजुर्ग और वलखेड़ा ब्लॉक के गांव पट्टी बहादुरपुर में गांव कनेक्शन फाउंडेशन के तहत मच्छर दिवस पर जागरुकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया| इसमें डॉक्टर विवेक, डॉक्टर नंदिनी और अनुसूचित जनजाति पिछड़ा वर्ग कल्याण विकास संस्था के सहयोग से मलेरिया बीमारी से कैसे बचा जा सकता है| इससे संबंधित ग्रामीण लोगों को जागरुक किया गया और गांव के 100 मरीजों को दवाई वितरित की गई।

ग्रामीणों को किया गया जागरूक।

डॉक्टर विवेक ने मच्छर दिवस पर मलेरिया से संबंधित बीमारियों डेंगू ,चिकनगुनिया, वायरल आदि के विषय में विस्तृत जानकारी दी एवं इन बीमारियों के लक्षण एवं उपाय की भी बतायें। इसके बाद डॉक्टर विवेक ने उपस्थित ग्रामीण को उनके अनुसार बीमारी की दवा 100 ग्रामीण महिलाओं पुरुषों को वितरित की गई।

गाँव कनेक्शन की पहल, अच्छी है

डॉक्टर अमरीश ने बताया कि बीमारियां तो हर मौसम में आती रहती हैं आज का कार्यक्रम मच्छर दिवस जो गांव कनेक्शन की ओर से किया गया जिसमें सहभागिता में भाग लेकर मुझे बहुत अच्छा लगा। यह कार्यक्रम तो विशेषरूप में चिकित्सा का ही होना चाहिए और बताया कि इस समय मच्छर का प्रकोप ज्यादा है , इस लिहाज से आस पास के गड्डों का पानी निकालकर साफ कर दें। मच्छरों के लार्वा को नष्ट करने के लिए दवा छिडकवायें ताकि मच्छरों के लार्वा नष्ट हो जाय।

ये भी पढ़ें- मच्छरों से परेशान बच्चेे, सरकारी स्कूलों के कई शिक्षकों को टाइफाइड

ऐसे पाएं बीमारियों से छुटकारा

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

लखनऊ। विश्व मच्छर दिवस के मौके पर जनपद में स्वास्थ्य विभाग व खंड विकास अधिकारी के सहयोग से गाँव कनेक्शन फाउंडेशन की ओर से जागरूकता कैम्प लगाया गया। इस मौके पर मच्छरों से निजात दिलाने के लिए ग्राम शाहपुर, कुनौरा, गदेला, लालपुर,गडहरि में नालियों व सड़कों की सफाई के साथ-साथ एंटी लार्वा दवा का छिड़काव कराया गया। वहीं ग्रामीणों को क्लोरीन की गोलियां वितरित की गई।

खंड विकास अधिकारी बीकेटी राजीव गुप्ता के निर्देश पर पहुंचे प्रतिनिधि सुधांशु ने साफ सफाई अभियान में हिस्सा लिया व ग्रामीणों को सड़क पर जानवर न बांधने की हिदायत दी। साथ ही सरकारी आवासों का व निर्माणाधीन शौचालयों का भी जायजा लिया तथा लोगों को खुले में शौच और घर के आस पास गए जमा गंदगी से होने वाले नुकसान के बारे में बताते हुए साफ सफाई रखने की बात कही। गाँव कनेक्शन की ट्रस्टी यामिनी त्रिपाठी ने अपनी मौजूदगी में ही गली गली जाकर विधिवत साफ सफाई कराई व लोगों को अपने आस पास साफ सफाई रखने को प्रोत्साहित किया।

मच्छरों से बचने के बताए उपाय

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

उन्नाव। विश्व मच्छर दिवस के अवसर पर रविवार को गांव कनेक्शन के सहयोग से शहर की कांशीराम कॉलोनी में मलेरिया विभाग की टीम निरीक्षण के लिए पहुंची। यहां टीम ने दो ब्लॉक के 40 घरों का निरीक्षण किया। टीम ने घरों में लगे कूलर देखे। जहां डेंगू के लार्वा पलते मिलने पर दो लोगों को नोटिस थमाई। साथ ही एन्टी लार्वा दवा का छिड़काव भी किया। मलेरिया इंस्पेक्टर विकास रविवार दोपहर कांशीराम कॉलोनी का निरीक्षण करने पहुंचे थे।

फोगिंग कर मच्छरों का किया गया सफाया।

यहां उन्होंने सबसे पहले लोगों को जागरूक करने के लिए पर्चे बटवाये। इसके बाद छोटेलाल गुप्ता सुपीरियर फील्ड वर्कर, बाबूलाल, अशोक कुमार फील्ड वर्कर ने कांशीराम कॉलोनी के दो ब्लॉक में एन्टी लार्वा का छिड़काव किया। इस बीच कॉलोनी में लगे कूलर को जब खुलवाया गया तो उसमें डेंगू के लार्वे पलते मिले। इस पर टीम ने कॉलोनी में रहने वाले रामवीर और रामू को नोटिस थमाई। मलेरिया इंस्पेक्टर विकास ने बताया कि लोगों को मच्छर जनित रोगों से बचाव की जानकारी दी गयी।

कैंप लगाकर ग्रामीणों को दी जानकारी

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

ललितपुर। गाँव कनेक्शन फाउंडेशन, स्वास्थ्य विभाग व पंचायती राज विभाग के साझा प्रयास से चिकित्सकों की उपस्थिति में विश्व मच्छर दिवस एवं जागरूकता कार्यक्रम मनाया गया। डाक्टरों ने मच्छर से होने वाले रोग, बचाव, मलेरिया जाँच, दवाओं का वितरण व स्वच्छता पर ग्रामीणों को कैम्प लगाकर जानकारी दी गयी। ललितपुर मुख्यालय से 36 किमी महरौनी ब्लाँक की ग्राम पंचायत छपरट के चक्र गाँव में विश्व मच्छर दिवस का आयोजन किया गया।

मच्छरों से बचने के लिए लोगो को दी गई जानकारी।

विश्व मच्छर दिवस शिविर में गाँव के बच्चों, पुरूषों व महिलाओं को मच्छर से होने वाली मलेरिया जैसी गम्भीर बीमारी से बचाव के बारे जानकारी दी गयी। स्वास्थ्य विभाग से आये बेसिक हेल्थ वर्कर डीडी सेन, एवं अजीत कुमार वर्मा ने 77 ग्रामीणों का सिलाईट से स्वास्थ्य परीक्षण किया। सभी ग्रामीणों को क्लोरीन, विटामिन, ओआरएस, का वितरण किया गया। डीडी सेन ने बताया, "मच्छर का छोटा डंक बड़ा ख़तरा पैदा कर सकता है। मच्छर का काटना घातक हो सकता है।”

ताकि गोरखपुर जैसी न हो त्रासदी

स्वयं कम्युनिटी जर्नलिस्ट

कन्नौज| ‘‘टीवी में देखा गोरखपुर में कई बच्चे मरे हैं। यहां जो जानकारी दी गई है वह अच्छी है, उसका पालन करूंगी। मैं तो पैरों में घाव की दवा लेने आई थी, लेकिन कई तरह के बुखार से बचाव की बात डाक्टर ने बताई है।’’ यह कहना है 18 साल की सुनैना का।

जिला मुख्यालय कन्नौज से करीब 25 किमी दूर उमर्दा ब्लाक क्षेत्र के प्राथमिक स्कूल पिपरौली में विश्व मच्छर दिवस पर गांव कनेक्शन और स्वास्थ्य विभाग के संयुक्त प्रयास से कार्यक्रम हुआ।यहां हेल्थ कैंप में कमला देवी (60वर्ष) दवा लेने पहुंचीं। डाक्टरों ने पैर में सूजन देखकर फाइलेरिया बताया।जिला मलेरिया अधिकारी हरिगोविंद ने कहा, ‘‘पैर देखकर लगता है कि करीब 8-10 साल पुराना रोग है।’’

शिविर कैंप में महिलाओं ने विशेषज्ञों से ली दवाइयां।

इनको नियमित दवा खाने और तिर्वा सीएचसी पर दिखाने की सलाह दी गई। 40 साल की मंजू देवी अपने 11 साल के पुत्र अंकुशु के शरीर में दाग दिखाते हुए बोलीं, “डाक्टर साहब दवा दे दीजिए।” दाग देखकर इनको कुष्ठ रोग बताया गया और तिर्वा सीएचसी पर दवा लेने को कहा। मलेरिया इंस्पेक्टर शैलेंद्र ने चौपहिया वाहन से पिपरौली गांव की हर गली में फागिंग कराई। इससे ग्रामीण काफी खुश हुए।

ये भी पढ़ें- ताकि डेंगू मलेरिया न लें लोगों की जान, आज से हर रविवार, मच्छरों पर वार

जानलेवा बीमारियों से दूर करने के लिए अपने आस-पास रखें सफाई

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

औरेया। विश्व मच्छर दिवस पर गांव कनेक्शन फाउंडेशन और स्वास्थ्य विभाग की तरफ से लुहियापुर गांव में स्वास्थ्य कैंप का आयोजन किया गया। जिसमें मुख्य विकास अधिकारी और स्वास्थ्य विभाग की टीम ने बीमारियों से दूर रहने के लिए स्वच्छता और सफाई पर ध्यान देने की बात कही। इसके अलावा कहा कि जब तक गाँव के लोग खुद सफाई के प्रति जागरूक नहीं होंगे, तब तक स्वच्छता संभव नहीं है।

जिला मुख्यालय से 16 किलोमीटर दूर पूरब दिशा में बसे औरैया ब्लाक के गांव लुहियापुर में मच्छर दिवस पर एक स्वास्थ्य कैंप का आयोजन किया गया। मुख्य विकास अधिकारी सत्येंद्र नाथ चौधरी ने गांव के लोगों से कहा कि मच्छर न पनपे इसके लिए स्वयं जागरूक रहना होगा। मच्छर अपना आशियाना उसी जगह को बनाते है जिस जगह हम लोग अपने घरों से निकलने वाली गंदगी और पानी इकटठा करते है। बीमारियों से बचने के लिए जरूरी है सफाई। अयाना सीएचसी प्रभारी डाक्टर देव नरायन ने कहा कि मच्छरों से जान लेवा बीमारियां होती है। सबसे खतरनाक बीमारी है इसेंफ्लाइटिस, मस्तिष्क ज्वर जो कि मच्छरों से होती है। इंसेफ्लाइटिस की जब तक जानकारी होती है तब तक उसकी मृत्यु हो चुकी होती है। हैंडपंप में ब्लीचिंग पाउडर और क्लोरीन की गोलियां समय-समय पर डलवाते रहे।

छिड़काव की आशा व प्रधान को जिम्मेदारी

वीडीओ सदर औरैया अश्वनी सोनकर ने विश्व मच्छर दिवस पर हुलियापुर गांव में आशा बहू नीतू सिंह और प्रधान योगेन्द्र सिंह को डीडीटी के छिड़काव की जिम्मेदारी सौंपी। वीडीओ ने कहा कि छिडकाव गांव के प्रत्येक घर में कराया जाए। इसके अलावा भी स्कूल, आंगनबाड़ी, पंचायत घर में छिड़काव कराएं। बरसात के मौसम में प्रत्येक सप्ताह गांव में छिडकाव कराए।

पानी जमा न होने दें

मलेरिया इंस्पेक्टर विजय बाबू ने गांव के लोगों से कहा कि अपने घरों के आस-पास जल भराव न होने दें। भरे हुए पानी में मच्छर अपना घर बनाते हैं। मच्छरों से होने वाली बीमारियों से लोग असमय काल के गाल में समा जाते हैं। इसलिए एंटी लार्वा का छिड़काव कराएं। जिससे मच्छरों से होने वाली बीमारियां दूर रहेगी। गांव की नाली, भरे हुए पानी और गंदे पानी में एंटी लार्वा का छिडकाव किया जाए। इससे मच्छरों से पनपने वाली बीमारियां दूर रहेगी।

लार्वा मारने का बताया तरीका

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

गोंडा। स्वास्थ्य विभाग व गाँव कनेक्शन फाउंडेशन ने संयुक्त अभियान चलाकर ग्राम पंचायत फरेंदा शुक्ल में जागरुकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया। ग्रामीणों को मलेरिया के प्रति सचेत , मच्छर जनित बीमारियों से बचने के लिए मच्छरों के लार्वा को मारने के तरीके बताए गए। शिविर गाँव के प्राइमरी पाठशाला में आयोजित की गई। मुख्य अतिथि डिप्टी सीएमओ डाक्टर ग्यासुल हसन ने कहा ,“ वर्तमान में एक गाँव से रोजाना हजारों रुपए बुखार पर खर्च हो रहा है। ग्रामीण झोलाछाप के यहां जा रहे हैं जो गलत है।

ग्रामीणों को मच्छर जनित रोंगों से किया गया सचेत।

बुखार आने पर सीधे पीएचसी, सीएचसी व जिला अस्पताल जाएं और खून की जांच कराकर दवा करायें, जिससे इलाज का असर दिखे। अगर किसी के घर के सामने गंदा पानी भरा है और मच्छर अंडा दे रहा है तो वे मच्छर सभी के घर जाएंगे, ऐसे में सभी की सोच सफाई की हो।” जिला मलेरिया अधिकारी मोबीन अहदम ने बताया,“ ठहरे पानी में मच्छर अंडा देता है जिसे रोकना होगा बच्चों को मच्छर दानी में रखकर सुलाना चाहिए।”

ये भी पढ़ें- मच्छरों के काटने से पशुओं में घटता है दूध उत्पादन

ग्रामीणों को मच्छर जनित बीमारियों की जानकारी दी

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

वाराणसी। चोलापुर ब्लाक के अमरपट्टी गांव में रविवार को गाँव कनेक्शन फाउंडेशन के बैनर तले विश्व मच्छर दिवस मनाया गया। स्वास्थ्य अधिकारियों ने ग्रामीणों को मच्छर से होने वाली बीमारियों के बारे में जानकारी दी और बचाव के टिप्स भी दिए।

कैंप में काफी संख्या में महिलाएं भी पहुंची।

ग्रामीणों के सहयोग से सफाई कर्मियों ने गांव में साफ सफाई की। इसके बाद नालियों में एंटी लार्वा का छिड़काव किया गया। विश्व मच्छर दिवस कार्यक्रम में चिरईगांव ब्लाक के स्वास्थ्य निरीक्षक कमलसेन ने मच्छर जनित बीमारी मलेरिया, डेंगू, मष्तिक ज्वर, बुखार आदि कैसे होता है, इस बारे में ग्रामीणों को बताया।

एंटी लार्वा के छिड़काव से भाग जाएंगे मच्छर

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

रायबरेली। बछरावां ब्लॉक से लगभग 18 किलोमीटर दूर उत्तर पश्चिम में स्थित सहगो ग्रामसभा में गाँव कनेक्शन फाउंडेशन द्वारा विश्व मच्छर दिवस पर क्षेत्रीय ग्रामीणों को मच्छर द्वारा उत्पन्न होने वाली बीमारियों एवं उनसे बचाव के तरीके बताए गए।

आयोजित कार्यक्रम में एंटी लार्वा छिड़काव का प्रशिक्षण प्राप्त प्रधान द्वारा नागरिकों को बीमारियों एवं उनके बचाव के बारे में जानकारी उमेश कुमार सविता ग्राम प्रधान ज्योना द्वारा गई।

पहली बार आयोजित किया गया जागरूकता कार्यक्रम

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

गाजियाबाद। खोड़ा कालोनी के मधुविहार बी ब्लाक में गाँव कनेक्शन फाउंडेशन द्वारा विश्व मच्छर दिवस पर जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किया गया। कार्यक्रम में मच्छरों से हो रही बीमारियों से बचाव, साफ सफाई के विषय में विस्तार से जानकारी दी गई। लोगों को क्लोरीन की गोलियों के साथ ही कूलरों में डालने के लिए दवाओं का वितरण भी किया गया। डाक्टर जागृति नारंग ने कार्यक्रम में मौजूद लोगों को विस्तार से मच्छरों से होने वाली बिमारियों व उसके उपाय के साथ ही इससे कैसे बचा जा सकता है के बारें में विस्तार से बताया।

जबकि डाक्टर निलेश मल्होत्रा ने साफ सफाई रखना क्यों आवश्यक है इसके बारे में लोगों को बताया। उनका कहना है कि गंदगी से ही बिमारियां फैलती हैं, इसलिए इससे बचने की आवश्यकता है। जबकि कार्यक्रम में मौजूद चेताली सिंघल ने 20 मिनट में डेंगू की जांच पर काम कर रही अपनी डिवाइस के बारे में बिस्तार से बताया।

मच्छरदानी के प्रयोग से रहेंगे निरोग

स्वयं कम्युनिटी जर्नलिस्ट

जौनपुर। विश्व मच्छर दिवस के मौके पर गाँव कनेक्शन के प्रयास से मछलीशहर के रामपुर चौथार प्राथमिक व उच्च उच्च प्राथमिक स्कूल में जागरुकता कैंप आयोजित किया गया। जहां लोगों को मच्छर जनित बीमारियों से बचाव की अहम जानकारी डॉक्टरों की टीम ने दी।

मछलीशहर में 20 अगस्त को विश्व मच्छर दिवस के मौके पर ग्राम पंचायत रामपुर चौथार के प्राथमिक व उच्च प्राथमिक स्कूल के कैम्पस में जागरुकता कैंप में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मछलीशहर के डॉक्टर बीएल यादव मौजूद रहे।

इस मौके पर ग्रामीणों को उन्होंने मलेरिया के लिए जिम्मेदार मच्छर मादा एनाफीलीज व डेंगू के लिए जिम्मेदार मच्छर मादा एडीज जो कि दिन मे डंक मारता और वह साफ पानी में रहता है, रोकथाम के लिए घरों के अन्दर वह आसपास जल जमाव न होने देने की सलाह दी। वहीं साथ ही मच्छरदानी का प्रयोग हमेशा की सलाह दी।

ये भी पढ़ें- यूपी के 19 जिलों में गाँव कनेक्शन फाउंडेशन मना रहा है वर्ल्ड मास्क्यूटो डे

ग्रामीणों ने जाने मच्छर से बचने के तरीके

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

पीलीभीत। गाँव कनेक्शन फाउंडेशन ने विश्व मच्छर दिवस पर पीलीभीत में माधोटांडा ब्लॉक के गाँव सिसैया में पंचायती राज विभाग के सहयोग से सफाई कर्मियों द्वारा सफाई अभियान चलाया गया।

इसके साथ ही मलेरिया विभाग के सहयोग से गलियों की नालियों में एन्टी लार्वा टेनिफॉस दवा का छिड़काव, लोगों को जागरूक करने के लिए मच्छरों के काटने से फैलने वाली डेंगू, मलेरिया,जापानी इंसेफ्लाइटिस और स्वाइनफ्लू जैसी जानलेवा बीमारियों के लक्षण, कारण और इनसे बचने की जानकारी के लिए स्वास्थ्य विभाग के जिला मलेरिया कार्यालय की टीमों द्वारा किया गया।इसमें पूरनपुर क्षेत्र के एमओआईसी डॉक्टर असलम और मलेरिया निरीक्षक चंद्रेश कुमार पटेल ने ग्रामीणों को इन जानलेवा बीमारियों से बचने के लिए काफी विस्तृत जानकारी दी।

बचाव की दी गई जानकारी

यहां पर प्राथमिक विद्यालय में ग्रामीणों को मलेरिया विभाग के डॉक्टरों द्वारा मच्छरों से होने वाली बीमारियों जैसे डेंगू, मलेरिया, जापानी इंसेफ्लाइटिस, चिकनगुनिया और स्वाइनफ्लू आदि के लक्षण, कारण और उनसे उनसे बचने की जानकारी दी गई। इसके साथ ही गाँव की गालियों और नालियों में एन्टी लार्वा टेनिफॉस मच्छरनाशक दवाई का छिड़काव भी कराया गया।

रिपोर्टर टीम: अनिल चौधरी, बीसी यादव, पंकज त्रिपाठी, मोविन खान, विनोद शर्मा, हरि नारायण शुक्ला, इश्त्याक खान, आभा मिश्रा, अरविंद सिंह परमार, श्रीवत्स अवस्थी, अश्वनी कुमार द्विवेदी,ऋ षभ मिश्रा, रोहित श्रीवास्तव, सुंदर चंदेल, दीनानाथ, ओपी सिंह, राजीव शुक्ला, मोहम्मद आमिल।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top