जनता की शिकायतें सुनने के लिए 500 सीटर कॉलसेंटर को मिली मंजूरी 

Astha SinghAstha Singh   25 Oct 2017 6:27 PM GMT

जनता की शिकायतें सुनने के लिए 500 सीटर कॉलसेंटर को मिली मंजूरी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ।

लखनऊ। यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जनता के हित में लगातार नए नए फैसले ले रहे हैं। अब सीएम योगी ने जनता की समस्याएं सुनने और उनका निवारण करने के लिए एक और बड़ा फैसला किया है। अब प्रदेश की जनता फोन पर भी सीएम योगी के पास अपनी शिकायत दर्ज करा सकती है। इसके लिए एक हेल्पलाइन शुरू की जा रही है, जिस पर आज फैसला आ सकता है।

ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने कहा की यह फीडबैक सिस्टम इसलिए इस्तेमाल किया जा रहा है, ताकि जनता की समस्याओं का निपटारा केवल कागजों पर न हो। हेल्पलाइन का मुख्यालय लखनऊ में होगा और इसके लिए टॉल फ्री नंबर भी जारी किया जाएगा।

ये भी पढ़ें- यूपी : सीएम ने एटीएस को आतंक से लड़ने के लिए और अधिक दिया बल

हेल्पलाइन पर आने वाली शिकायतों को संबंधित विभागों को भेज दिया जाएगा। जो भी विभाग लोगों की समस्याओं को निपटाने में हीलाहवाली करेंगे, उन्हें दंडित भी किया जाएगा। मुख्यमंत्री के पास सीधे शिकायत करने के लिए फिलहाल इंटीग्रेटेड ग्रीवांस रीड्रेसल सिस्टम है। इस पर शिकायतें ऑनलाइन की जाती हैं। अब फोन के माध्यम से भी लोग सीएम तक शिकायतें पहुंचा सकेंगे।

अभी जनता दर्शन में योगी सुनते हैं शिकायत

अभी प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ राजधानी स्थित मुख्यमंत्री आवास 5 कालीदास मार्ग पर हर सुबह जनता दर्शन में प्रदेश के पीड़ितों की समस्या सुनते हैं। जनता दरबार में बड़ी संख्या में लोग अपनी शिकायत व समस्या लेकर पहुँचते हैं| इसमें वह लोग भी शामिल रहते हैं, जो काफी दूर दराज के इलाकों से भी आते हैं।

ये भी पढ़ें- हाइब्रिड सब्जियां उगाइए और अनुदान पाइए, उत्तर प्रदेश सरकार की नई पहल

अखिलेश सरकार ने भी शुरू किया था मेगा कॉल सेंटर

चुनाव से पहले अखिलेश यादव ने भी लोगों से सीधे फीडबैक लेने के लिए लखनऊ में एक मेगा कॉल सेंटर बनवाया था। इस कॉल सेंटर में सवा तीन सौ लोग रखे गए थे जो प्रमुख सरकारी योजनाओं जैसे समाजवादी पेंशन योजना, कन्या विद्याधन जैसी योजनाओं के बारे में लोगों को बताते थे।

ये भी पढ़ें- यूपी : ट्रांसफार्मर फुंका हो या टूटा हो तार , इन नंबर पर बिजली विभाग से करें शिकायत

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top