गाँव को गोद लेने के बाद जिम्मेदारी भूल बैठे सांसद साहब 

गाँव को गोद लेने के बाद जिम्मेदारी भूल बैठे सांसद साहब अपनी बदहाली की कहानी खुद बयान कर रहा ये गाँव ।

ज्ञानेश शर्मा, स्वयं कम्युनिटी जर्नलिस्ट

अलीगढ़। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सपना देखा था कि उनके सांसद पांच साल में कम से कम पांच गाँवों को आदर्श गाँव बना सकें। गाँवों का विकास होगा। हर तरह की सुविधा होगी। अलीगढ़ के सांसद सतीश गौतम ने तीन साल पहले जब अतरौली विधानसभा क्षेत्र के गाँव बहरावद को गोद लिया था तब लोगों से वादा किया था कि हर साल गाँव का जन्मदिन धूमधाम के साथ मनाया जाएगा।

ग्रामीणों का कहना है कि तब किसी ने सोचा भी नहीं था कि सांसद इतनी जल्दी इस गाँव को सौतेला बनाकर छोड़ देंगे। जन्मदिन मनाना और विकास कराना तो दूर ग्रामीणों को दु:ख बस इसी बात का है कि सांसद दो साल से गाँव में झांकने तक नहीं आए।

बहरावद गाँव के प्रधान राजन सिंह (40 वर्ष) ने बताया, “मेरे गाँव को सांसद आदर्श गाँव के रूप में चुना गया था, लेकिन सांसद निधि या किसी सरकारी योजना से गांव में कोई विकास नहीं हुआ।” इसी गाँव के रहने वाले नेम सिंह (60 वर्ष) बताते है, “ केंद्र व प्रदेश में भाजपा की सरकार है। सांसद ने गांव को आदर्श बनाने का वादा किया था जो पूरी तरह से झूठा साबित हुआ।”

ये भी पढ़ें- भारत के एक लाख गांवों में पानी की समस्या पर काम करेंगे ‘कृषि जलदूत’

वहीं इसी गाँव के निवासी ज्ञान सिंह (55 वर्ष) ने बताया,“ सांसद ने हर घर को तुलसी के पौधे देने का वादा किया था। उस वादे को भी पूरा नहीं कर सके। विकास क्या खाक कराएंगे।” इसी गाँव की रहने वाली गुडिया (40 वर्ष) ने बताया,“ सांसद ने वादा किया था कि वह यहां की महिलाओं को गुजरात के मॉडल गाँव दिखाकर लाएंगे। लगता है सांसद खुद गुजरात जाकर बस गए हैं।”

बताते चलें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि हर गाँव को स्मार्ट विलेज बनाएंगे। सांसदों से अपील की थी कि एक साल में एक गाँव को आदर्श गाँव के रूप में विकसित करें।

विकास की बात करें तो गाँव के हालत उससे भी बदतर हो गए हैं जो गोद लेने से पहले था, क्योंकि तब से विकास तो दूर नाली की मरम्मत तक नहीं हुई। संपर्क मार्ग उखड़े पड़े हैं। बाईपास मार्ग पर कूड़े के ढेर पड़े हैं। तालाब गंदगी से पट गए हैं। नालियों से कीचड़ की बदबू आ रही है। बिजली की लाइनें जर्जर हैं। सिर्फ 10 सौर ऊर्जा लाइटें ही लगी हैं। ग्रामीणों का दर्द इतना है कि विकास तो दूर की बात है कम से कम सांसद इस गांव के लोगों से जुड़े तो रहते।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

सांसद सतीश गौतम नेबताया, “ लोकसभासपा सरकार के कारण बहरावद में विकास कार्य नहीं हो सका। सरकार का सहयोग नहीं मिला अब प्रदेश में भाजपा की सरकार है और ना सिर्फ बहरावद बल्कि क्षेत्र के तमाम गाँवों में विकास कार्य तेजी से होंगे। अगले एक साल में फर्क दिखने लगेगा। भाजपा की सरकार बनने के बाद बहरावाद का दौरा जिलाधिकारी व अन्य अधिकारी कर चुके है। विकास कार्य जल्द शरू होने वाला है।”

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top