गाँव में पशुओं के इलाज के लिए चलकर आएगा अस्पताल

गाँव में पशुओं के इलाज के लिए चलकर आएगा अस्पतालपशुपालन विभाग बहुउद्देशीय चिकित्सा वैन ग्रामीण इलाकों में मुहैया करा दी है।

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

अलीगढ़। गाँव के लोगों को अब अपने पशुओं के इलाज की ज्यादा चिंता करने की जरुरत नहीं है, क्योंकि पशुपालन विभाग ने सभी सुविधाओं से लैस बहुउद्देशीय चिकित्सा वैन ग्रामीण इलाकों में इलाज के लिए प्रदेश के सभी ब्लाकों में मुहैया करा दी है। दैवीय आपदा आने पर भी यह वैन एक फोन कॉल पर तत्काल वहां हाजिर होगी और पशुओं को राहत प्रदान करेगी। सप्ताह के अलग-अलग दिन यह वैन रुटीन के हिसाब से चिकित्सालय वार कैंप लगाएगी।

वैन में एक चिकित्सक दो पैरावेट, एक चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी के साथ दवा, वैक्सीन, कृत्रिम गर्भाधान व ऑपरेशन सुविधा के साथ हाजिर रहेगी। वैन पशुओं को आकस्मिक चिकित्सा हेतु समस्त दवाओं एवं उपकरणों से लैस है। गांवों में अस्पताल वार जाकर वैन भ्रमण करेगी और फिक्स प्वाइंट पर कैंप लगाकर पशुओं का इलाज करेगी।

ये भी पढ़ें- तुर्क पंचायत का बड़ा फैसला : तीन तलाक देने वाले पर लगाया 2 लाख रुपए का जुर्माना

अतरौली ब्लॉक में 120 गाँवों में इस सेवा का लाभ दिया जा रहा है। दूरस्थ गाँवों के लोगों को भी इस सेवा का लाभ मिलेगा। इस चिकित्सा वैन को बुलाने के लिए प्रत्येक ब्लाक पर तैनात पशु चिकित्साधिकारी के मोबाइल नंबर पर काल करनी होगी।

कब कहां रहेगी चिकित्सा वैन

अतरौली में ब्लॉक की बात करें तो यहां पांच पशु चिकित्सालय हैं। वैन रुटीन के हिसाब से मंगलवार को चपौटा, बुधवार को अतरौली, गुरुवार को काजिमाबाद, शनिवार को जिरौली धूम सिंह चिकित्सालयों तथा शुक्रवार को कामधेनु डेयरी का भ्रमण करेगी। जहां इन अस्पतालों से जुड़े गांवों के मरीज अपने मवेशियों का इलाज करा सकते हैं। इसमें प्रत्येक पशु के पांच रुपए इलाज के तथा कृत्रिम गर्भाधान के 40 रुपए पशुपालक को अदा करने होंगे। इलाज में सभी दवाएं नि:शुल्क होंगी। वैन द्वारा रुटीन के अनुसार पड़ने वाले इन गाँवों में टीकाकरण, बांझपन, पशु बीमा, पशुओं की जांच आदि भी किया जा रहा है।

दैवीय आपदा एक कॉल पर आएगी वैन

दैवीय आपदा जैसे बाढ़, भूकंप, आगजनी, पेड़ गिर जाना, बिजली करंट की घटना आदि पर अतरौली क्षेत्र के लोग उप मुख्यचिकित्साधिकारी डॉ. मेघश्याम के मोबाइल नंबर 9412128755 पर पशुपालक कॉल कर सकते हैं। एक कॉल पर बहुउद्देशीय चिकित्सा वैन तत्काल हाजिर होगी। यह मोबाइल नंबर सिर्फ अतरौली ब्लाक में काम करेगा।

ये भी पढ़ें- यूपी में नेताओं की सुरक्षा करने वाले ऐसे क्यों रहते है ?

अतरौली ब्लाक के गाँव नहल के पशुपालक झबर सिंह (65वर्ष) का कहना है, “इस तरह की योजना पशुपालकों को बेहद लाभ प्रदान करेगी। ग्रामीण इलाकों में लोग झोलाछापों के हाथों ठगे जाते हैं, लेकिन यह योजना कागजों पर ही न चले तो बेहतर होगा।”

वहीं इसी ब्लाक के गाँव सिरसा के ग्रामीण राय सिंह (49वर्ष)का कहना है, “ यह योजना बहुत अच्छी है। अब हमें बीमार पशुओं को इलाज के लिए दूर अस्पताल में नहीं ले जाना पड़ेगा। घर पर ही सभी इलाज मिल जाएंगे।”

उप मुख्य पशुचिकत्सा अधिकारी डॉ. मेघश्याम, बहुउद्देशीय चिकित्सा वैन का पशुपालकों को लाभ मिल रहा है। वैन रुटीन के हिसाब से गांवों में भ्रमण करेगी। लोग निशुल्क दवाओं का फायदा उठा सकते हैं। बांझपन व कृत्रिम गर्भाधान से लेकर ऑपरेशन तक की सुविधा वैन में है। वैन फिक्स प्वाइंट पर कैंप लगाएगी पशुपालक वहां अपने मवेशी ले जाकर इलाज करा सकते हैं।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top