जीएसटी से और अधिक खर्चीला हो जाएगा सौर संयंत्रों को लगाना  

जीएसटी से और अधिक खर्चीला हो जाएगा सौर संयंत्रों को लगाना  सौर संयंत्र

लखनऊ। अब किसी भी सरकारी योजना के अंतर्गत मिलने वाले सोलर पैनल मुफ्त में नहीं मिल पाएंगे। जीएसटी लागू हो जाने के बाद अब सरकार सभी सोलर पैनल व उपकरणों पर पांच फीसदी टैक्स लगा सकती है, इससे निजी व सरकारी तौर पर लगाए जाने वाले संयंत्र और अधिक महंगे हो जाएंगे।

जीएसटी ले लागू होने से सौर उपकरण महंगे होने की बात कहते हुए निदेशक, यूपीनेडा संगीता सिंह ने बताया,''जीएसटी आने से सरकार सोलर पैनल व सौर ऊर्जा आधारित उपकरणों पर पांच फीसदी अतिरिक्त कर लगा सकती है। इससे सभी तरह के ( सरकारी योजना बद्द या निजी) सौर संयंत्र के दामों में बढ़ोत्तरी हो सकती है।''

ये भी पढ़ें- जीएसटी हुआ फिट तो पीएम मोदी होंगे हिट

सोलर पैनलों पर जीएसटी कर लगने से अब सरकारी योजना के अंतर्गत लगाए जाने वाले सोलर पैनलों पर सब्सिडी होने के बावजूद अतिरिक्त कर लगेगा, इसमें खेती के लिए लगाए जाने वाले सोलर पंप भी शामिल होंगे।

उत्तरप्रदेश में निजी सोलर बाज़ार में जानी मानी कंपनी यूटीएल के व्यापार अधिकारी राम कृष्ण गौतम बताते हैं,'' सौर उपकरण वन टाइम इंवेस्टमेंट (एक मुस्त निवेश ) है। सोलर संयंत्र महंगे होने के कारण आम आदमी इन्हें जल्द खरीदने से कतराता है। अगर इस पर जीएसटी लगेगा तो सोलर यंत्र और भी महंगे हो जाएंगे। इससे लोगों में इन्हें खरीदने की दिलचस्पी भी कम हो जाएगी।''

ये भी पढ़ें- सोलर चरखों से तीन गुना अधिक बढ़ जाएगा खादी का उत्पादन

भारत में जीएसटी लागू होने के बाद आम आदमी पर खर्चों की बाढ़ आ गई है। एक तरफ जहां जीएसटी लगने से कार, कपड़ा, खाना और घर खरीदना महंगा हुआ है। वहीं सोलर जगत में भी जीएसटी के लागू होने से महंगाई का डर बना हुआ है।

''जीएसटी का असर उत्तर प्रदेश सरकार की योजनाओं पर भी दिख सकता है। यूपीनेडा इस वर्ष प्रदेश के कई हिस्सों में नई सोलर पॉवर नीति के तहत कई सोलर प्रोजेक्ट पर काम शुरू करने जा रहा है। जीएसटी लगने से इन प्रोजेक्ट पर आने वाले बजट पर फिर से विचार किया जा सकता है।'' (निदेशक- यूपीनेडा संगीता सिंह )

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिएयहांक्लिक करें।

Share it
Top