अंगूठे से कलम तक पहुँची महिलाएं -डाॅ॰ प्रमोद कुमार

अंगूठे से कलम तक पहुँची महिलाएं -डाॅ॰ प्रमोद कुमारमहिलाएं 

स्वयं प्रोजेक्ट

मिर्जापुर । डेवलपमेन्ट ऑल्टरनेटिव्स के सौजन्य से चलाए जाने वाले तारा अक्षऱ साक्षरता कार्यक्रम के अंतर्गत मिर्जापुर, भदोही तथा जौनपुर जिलों में लगभग 1,45,000 से अधिक महिलाओं को साक्षर किया जा चुका है। स्वामी विवेकानंद शिक्षा समिति तथा अन्य संस्थाओं के सहयोग से सिटी तथा पहाड़ी विकास खण्ड में 18000 से अधिक महिलाओं को साक्षर किया गया है। तारा अक्षऱ कार्यक्रम के अंतर्गत साक्षर हो चुकी 400 महिलाओं को प्राथमिक पाठशाला पड़री में प्रमाण पत्र प्रदान किए गए।

ये भी पढ़ें- चंदौली, मिर्जापुर और सोनभद्र में होगा पशुओं का नि:शुल्क बीमा

इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि डा॰ प्रमोद कुमार ने कहा, “तारा अक्षर से महिलाओं ने काफी कुछ सीखा है। वास्तविक रूप से महिलाएं अंगूठे से कलम तक पहॅंची हैं।” वहीं विशिष्ट अतिथि अंबुज श्रीवास्तव ने कहा, “तारा अक्षर साक्षरता की दिशा मे सबसे सफल प्रयास है इसे अन्य ब्लाको में भी चलाया जाना चाहिए”।

तारा अक्षऱ कार्यक्रम के रीजनल मैनेजर मेजर एमए अंसारी ने बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय के अधिकारियों की एनआईओएस की परीक्षा को सफलता पूर्वक संचालित करने में सहयोग के लिए प्रशंसा की।

ये भी पढ़ें- 70 लाख रुपए के पुराने नोट बदलने के आरोप में डाक विभाग के दो बड‍़े अधिकारी गिरफ्तार

मेजर साहब ने तारा अक्षऱ कार्यक्रम के बारे में बताया,“ यह एक कम्प्यूटर आधारित साक्षरता कार्यक्रम है जो निरक्षर महिलाओं को 56 दिनों में हिन्दी पढ़ना-लिखना एवं गणित की मूलभूत जानकारी देता है। विश्व के सबसे तेज साक्षरता कार्यक्रमों में से एक तारा अक्षऱ कार्यक्रम विभिन्न अत्याधुनिक स्मरण तकनीकों तथा परीक्षण व त्रुटि पद्धति पर आधारित है। पिछले नौ वर्षों में इस कार्यक्रम द्वारा बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, राजस्थान, दिल्ली, उत्तराखण्ड तथा हरियाणा में दो लाख से अधिक महिलाओं को साक्षर बनाया जा चुका है।”

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top