लेखपालों की हड़ताल के चलते तहसीलों में डंप हैं जाति-निवास के आवेदन 

लेखपालों की हड़ताल के चलते तहसीलों में डंप हैं जाति-निवास के आवेदन प्रतीकात्मक फोटो 

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

जौनपुर। लेखपालों की हड़ताल के चलते जिले की सभी तहसीलों में हजारों प्रमाण पत्र के आवेदन डंप पड़े हुए हैं। आवेदन डंप होने के चलते जहां हजारों छात्र छात्रवृत्ति के लिए आवेदन नहीं कर पा रहे हैं, वहीं चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों के सामने भी संकट खड़ा हो गया है।

एक आंकड़े पर गौर किया जाए तो सभी तहसीलों में आय जाति और अधिवास के 17526 आवेदन डंप पड़े हुए हैं। वहीं सबसे ज्यादा शाहगंज तहसील में 3590 आवेदन डंप पड़े हैं। लैपटॉप और स्मार्टफोन उपलब्ध कराने समेत छह सूत्री मांगों को लेकर लेखपाल प्रदेश भर में आंदोलन कर रहे हैं। इसके चलते लेखपाल कोई कार्य नहीं कर रहे हैं। वहीं लोग जाति प्रमाण पत्र आय प्रमाण पत्र और अधिवास प्रमाणपत्र के लिए ऑनलाइन आवेदन कर रहे हैं, जबकि दिक्कत यह है कि जब तक लेखपाल की रिपोर्ट नहीं लगती है आवेदन आगे नहीं बढ़ सकता है।

ये भी पढ़ें- लेखपाल और तहसील पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का बड़ा बयान

ऑनलाइन आवेदन पर लेखपालों को ऑनलाइन पोर्टल पर ही अपने डिजिटल सिग्नेचर के साथ उसे आगे बढ़ाना होता है। लेखपाल के स्तर से आवेदन पोर्टल पर फॉरवर्ड होने के बाद राजस्व कानूनगो और वहां से तहसीलदार के पोर्टल पर जाता है, लेकिन लेखपालों की हड़ताल के चलते सारे के सारे आवेदन कंप्यूटर में ही डंप पड़ गए हैं।

वहीं दूसरी ओर छात्रवृत्ति पाने के लिए छात्र हर रोज सहज जनसेवा केंद्र या तहसीलों में जाकर प्रमाण पत्रों के लिए आवेदन की स्टे्टस देख कर मायूस लौट रहे हैं। इतना ही नहीं सुरक्षित सीटों से चुनाव लड़ने वाले प्रत्याशियों को जाति प्रमाण पत्र देना अनिवार्य होता है। नगर निकाय चुनाव की तारीखों का ऐलान होने के बाद प्रत्याशी भी प्रमाण पत्र के लिए आवेदन कर रहे हैं, लेकिन लेखपालों की हड़ताल के चलते उन्हें भी संकट का सामना करना पड़ रहा है।

प्रत्याशियों के लिए लेखपालों की हड़ताल मुसीबत

जिले में तीन नगर पालिका और छह नगर पंचायतों में चुनाव के लिए चार नवंबर से नामांकन भी शुरू हो जाएगा। ऐसे में प्रत्याशियों के लिए लेखपालों की हड़ताल बड़ी मुसीबत बनी हुई है। धर्मापुर ब्लाक के धर्मापुर बाजार निवासी रवि कुमार का कहना है, “छात्रवृत्ति के लिए आवेदन करना है उसके लिए आय प्रमाण पत्र की जरूरत पड़ती है। आय प्रमाण पत्र के लिए सहज जनसेवा केंद्र का रोज चक्कर लगा रहा हूं कि यह पता चल जाए प्रमाण पत्र बना कि नहीं लेकिन कुछ पता नहीं चल पा रहा है यदि छात्रवृत्ति की डेट निकल गई तो दिक्कत होगी।”

मछली शहर ब्लॉक के क्रियाओं गाँव निवासी संजीव यादव ने बताया, “आय प्रमाण पत्र के लिए आवेदन करे काफी दिन हो गए हैं, लेकिन आय प्रमाण पत्र अभी तक नहीं बन सका है। इसके लिए कई बार तहसील का चक्कर लगाया लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ।”

ये भी पढ़ें- हिमाचल चुनाव : ये हैं आजाद भारत के पहले मतदाता, अब 100 की उम्र में डालेंगे वोट

लेखपालों की हड़ताल के चलते प्रमाण पत्रों के आवेदन आगे फॉरवर्ड नहीं हो पा रहे हैं। लेखपालों से बात की गई है कि वह हड़ताल पर रहने के बाद भी जाति निवास आय प्रमाण पत्र के आवेदन पर रिपोर्ट लगाएंगे।
आरपी मिश्रा, एडीएम, वित्त एवं राजस्व

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

Share it
Top