मुआवजे को लेकर किसानों की महापंचायत 

मुआवजे को लेकर किसानों की महापंचायत किसानों की महापंचायत 

बागपत। यूपी के बागपत में पिछले एक तीन सप्ताह से मुआवजे व विद्युत विभाग कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर अनिश्चित कालीन धरने पर बैठे किसानों के धरने पर आज किसानों की महापंचायत हुई जिसमें अधिकारियों पर किसानों के साथ बदसलूकी का आरोप लगाया ओर केंद्र व प्रदेश की सरकारों को किसान विरोधी बताया है।

वही किसानी महापंचायत में भाकियू अध्यक्ष नरेश टिकेत भी पहुंचे और किसानों की मांग पूरी नही होने पर उग्र आंदोलन की चेतावनी दी है। फिलहाल अधिकारियों ने किसानों की जल्द मांग पूरी करने का आश्वासन दिया है जिसके बाद धरना खत्म किया गया है।

ये भी पढ़ें- दो बल्ब और दो पंखों का बिल 75 करोड़ रुपये

दरअसल यूपी के बागपत में बिजलीघर बनाने के लिए हाई वोल्टेज की विद्युत लाइन को बागपत कोतवाली क्षेत्र के कई गांवों से निकाला जा रहा है। जिसमें किसानों को उनकी जमीन का मुआवजा भी नही दिया गया जिससे गुस्साए ग्रामीणों ने 18 दिन पूर्व विद्युत लाइन के कार्य को रुकवा दिया था ।

देश-दुनिया से जुड़ी सभी बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करके इंस्टॉल करें गाँव कनेक्शन एप

इस दौरान विद्युत विभाग के जेई ने भी किसानों से बदसलूकी की थी जिससे गुस्साए ग्रामीण अपने जमीन का मुआवजे की मांग को लेकर अनिश्चित कालीन धरने पर बैठ गए थे जिसके चलते आज बागपत के अहेड़ा गांव में किसानों की एक महापंचायत बुलाई गई थी। जिसमें आज भारतीय किसान यूनियन के सुप्रीमो चौधरी नरेश टिकैत भी पहुंचे थे। पंचायत के दौरान आला अधिकारी भी मौजूद रहे थे और पंचायत में अधिकारियों से वार्ता करने के लिए एक कमेटी बनाई गई।

जिसके बाद अधिकारियों से किसानों की जमीन का उचित मुआवजा दिलाये जाने की मांग की ओर अधिकारियों ने जल्द किसानों की मांग पूरी करने का आश्वासन दिया जिसके बाद किसानों के धरने को समाप्त करता दिया गया। वही किसानों ने मांग पूरी नही होने पर सड़को पर उतर आंदोलन की चेतावनी दी है।

ये भी पढ़ें- मेजर की वर्दी पहने जालसाज को सैन्य अधिकारियों ने पकड़ा

भाकियू अध्यक्ष नरेश टिकैत ने कहा कि किसानों को उनकी जमीन का मुआवजा दिलाये जाने की मांग की है।

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिएयहांक्लिक करें।

Share it
Top