दूसरे चरण में जौनपुर के 24 हजार किसानों का होगा कर्ज माफ, बाँटा जाएगा प्रमाणपत्र  

Khadim Abbas RizviKhadim Abbas Rizvi   5 Oct 2017 7:15 PM GMT

दूसरे चरण में जौनपुर के 24 हजार किसानों का होगा कर्ज माफ, बाँटा जाएगा प्रमाणपत्र  फोटो: गाँव कनेक्शन 

स्वयं प्रोजेक्ट

जौनपुर। भाजपा सरकार की किसानों को राहत देने वाली ऋण मोचन योजना के तहत जिले में दूसरे चरण में 24 हजार किसानों को फायदा होने वाला है। जिले में 24 हजार किसानों का ऋण माफ करने के लिए बैंकों में 43 करोड़ 34 लाख रुपए की राशि भेज दी गई है। इसी महीने के दूसरे सप्ताह में ब्लॉकों में कैंप लगाकर किसानों का कर्ज माफी का प्रमाणपत्र वितरित किया जाएगा। इसकी तैयारी जिला प्रशासन ने पूरी कर ली है।

फसली ऋण मोचन योजना के तहत प्रदेश सरकार ने जिले में 98 हजार 831 किसानों का कर्ज माफ करने की घोषणा की थी। जिसमें जिला प्रशासन ने 15 हजार 298 किसानों को पिछले दिनों प्रमाणपत्र वितरित किया था। यह अलग बात है कि इसमें से बहुत से ऐसे किसान भी शामिल थे, जिनका कर्ज 10 रुपए से लेकर 100 रुपए तक ही माफ हुआ था, क्योंकि इन किसानों ने पहले ही ऋण जमा कर दिया था। जितने रुपए बचे थे वही माफ हुए।

ये भी पढ़ें- रिजर्व बैंक ने सरकार को किया आगाह, अगर अब कृषि ऋण माफी की तो राजकोषीय घाटा एक प्रतिशत बढ़ जाएगा

अब इस योजना के तहत प्रदेश सरकार निर्देश पर जिला प्रशासन 24 हजार 197 किसानों को कर्जमाफी का प्रमाणपत्र देने की तैयारी में जुटा है। जिसकी संख्या पिछली बार के मुकाबले काफी ज्यादा है। जिन किसानों को दूसरे चरण में फायदा मिलना है। उसके लिए बैंकों में 43 करोड़ 34 लाख 30 हजार रुपए की धनराशि बैंक में आ गई है। अब केवल किसानों को ऋण माफी का प्रमाणपत्र दिया जाना है। इसके लिए जिला प्रशासन ने अक्टूबर का दूसरा सप्ताह तय किया है। इस बार जिला प्रशासन किसासनों को जिला मुख्यालय पर प्रमाणपत्र वितरित नहीं करेगा। किसानों को प्रमाणपत्र ब्लॉक स्तर पर ही दिए जाएंगे। ताकि किसी तरह की बदइंतजामी न हो।

कर्जमाफी पर उठे थे सवाल

पहले चरण के कर्जमाफी मामले में भारतीय किसान यूनियन से लेकर तमाम किसानों ने सवाल उठाए थे। दरअसल, बहुत से ऐसे किसानों को भी कर्जमाफी के दायरे में सरकार की ओर से लगाया गया था। जिन्होंने अपना कर्ज जमा कर दिया था। किसी वजह से चंद रुपए ही मसलन 10 रुपए से लेकर 100 तक ही उनका कर्ज बचा था। जो किसान जमा कर ही देते। ऐसे में उन्हें भी प्रमाणपत्र दिया गया तो सवाल उठना लाजिमी था कि सरकार ने कर्जमाफी में सिर्फ गिनती बढ़ाने के लिए ऐसा किया है। भारतीय किसान यूनियन के जिलाध्यक्ष आरएन यादव ने कहा था कि किसानों को सिर्फ बेवकूफ बनाया जा रहा है।

ये भी पढ़ें- खेत मज़दूरों के लिए क्यों नहीं है समान ऋण व्यवस्था ?

कर्जमाफी का डाटा

  • 98 हजार 831 को मिलना है कर्जमाफी का लाभ
  • 15 हजार 298 को पहले चरण में हुआ इसका फायदा
  • 24 हजार 197 किसानों का दूसरे चरण में मिलेगा प्रमाणपत्र
  • 59 हजाार 336 और किसानों को मिलना है कर्जमाफी का लाभ
  • 43 करोड़ 34 लाख 30 हजार रुपए की राशि बैंकों में पहुंची

कर्जमाफी के दूसरे चरण के तहत किसानों का चयन कर लिया गया है और उन्हें इसी माह के दूसरे हफ्ते तक प्रमाणपत्र ब्लॉक स्तर पर कैंप लगाकर उपलब्ध करा दिया जाएगा। ऋण माफी की धनराशि बैंकों में आ चुकी है।

ये भी पढ़ें- कृषि ऋण माफी उत्तर प्रदेश सरकार का निर्णय : राधामोहन सिंह

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top