कन्नाैज के टापर्स ने कहा- राजनीति में नहीं पड़ना, बनेंगे अफसर

Ajay MishraAjay Mishra   9 Jun 2017 9:59 PM GMT

कन्नाैज के टापर्स ने कहा- राजनीति में नहीं पड़ना, बनेंगे अफसरयूपी बोर्ड की परीक्षाओं में अच्छे नम्बरों से पास होने के बाद खुशी जाहिर करतीं छात्राएं।

स्वयं प्रोजेक्ट डेस्क

कन्नौज। ‘‘राजनीति में बिल्कुल नहीं पड़ना है, यह बेकार है। मैं एसएससी की तैयारी कर रहा हूं और सरकारी नौकरी करूंगा।” यह कहना है सरस्वती विद्या मंदिर इंटर काॅलेज तिर्वा से इंटरमीडिएट में 463 अंक लाकर पास होने वाले आशीष गुप्त का।

इसी कालेज से इंटर में 472 अंक लाने वाली प्रियम्बना यादव ने बताया, ‘‘समाज की स्थिति देखकर मैं सोशल वर्कर बनना चाहती हूं। आगे बढ़ने और नौकरी करने से पहले महंगी कोचिंग हर कोई नहीं पढ़ पाता है।”

ये भी पढ़ें : यूपी बोर्ड में कन्नौज की बेटियों ने लहराया कामयाबी का परचम

“राजनीति में नहीं जाना है, बिना जाकर ही उसे सुधारना चाहती हूं। अगर राजनीति में गई तो सुधार नहीं पाऊंगी।” प्रियम्बना यह कहते हुए अपने चेहरे पर खुशी इजहार करती हैं। जिला टाॅप करने वाली प्रतीक्षा कुशवाहा ने बताया, ‘‘मैं आईआईटी करना चाहती हूं।”

ये भी पढ़ें : UP Board Result 2017: हाईस्कूल में तेजस्वी, इंटर में प्रियांशी तिवारी ने किया टॉप, देखें टॉपर्स लिस्ट

इंटर में 465 अंक लाने वाले सुधांशु राजपूत ने बताया, ‘‘मेरी मां निर्मला देवी राजकीय मेडिकल कालेज में स्टाफ नर्स हैं। मैं नीट की तैयारी करूंगा। स्वास्थ्य विभाग में ही अफसर बनने का सपना है।” 468 अंक लाने वाले आयुश तिवारी बताते हैं कि ‘‘पिता राजेश तिवारी मौरंग-गिट्टी की दुकान किए हैं। मां अजिता तिवारी गृहणी हैं। एसएससी की तैयारी कर रहा हूं।’’

‘‘मां शीतला देवी इंटर काॅलेज डिगसरा से हाईस्कूल में अंशिका ने 93.67 फीसदी अंक लाकर कन्नौज जिला टाॅप किया है। सरस्वती विद्या मंदिर इंटर काॅलेज तिर्वा से प्रतीक्षा कुशवाहा ने इंटर में जिला टाॅप किया। इसी काॅलेज के पुष्पेंद्र और प्रियम्बना ने दूसरा स्थान पाया।’’
केपी सिंह, डीआईओएस, कन्नौज

472 नंबर लाने वाला छात्र पुष्पेंद्र का सपना है कि वह सरकारी विभाग में टीचर बनेगा। वह बताता है कि ‘‘मेरे पिता महेन्द्र प्रताप सिंह खेती करते हं। नथापुर्वा गांव में वह रहता है और आठ घंटे प्रतिदिन पढ़ाई की थी।’’ इंटर में ही 467 अंक लाने वाली दीक्षा शुक्ला के पिता लालजी शुक्ल का काफी पहले निधन हो गया था। दीक्षा के अच्छे नंबरों से पास होने की खुशी में चाचा रमेश चंद्र शुक्ल उर्फ विधायक विद्या मंदिर पहुंचे और खुशी जताई।

किसान और शिक्षक की बेटी है प्राची

हाईस्कूल में जिले में दूसरा नंबर लाने वाली प्राची राजपूत ने बताया कि ‘‘मां सुनीता देवी गृहणी हैं। पिता अनन्त राम सरस्वती विद्या मंदिर इंटर काॅलेज में शिक्षक और किसान भी हैं।’’ अनन्तराम बताते हैं कि ‘‘प्राची की मां की तबियत ठीक नहीं रहती है। मैंने कहा कि मां की देखभाल करो पर वह पढ़ने में ही ध्यान लगाती है। इसी वजह से हाईस्कूल में अच्छे अंक लाई है।’’

ताजा अपडेट के लिए हमारे फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए यहां, ट्विटर हैंडल को फॉलो करने के लिए यहां क्लिक करें।

More Stories


© 2019 All rights reserved.

Top